scriptudaipur crime news | जयपुर और उदयपुर में की थी 125 से अधिक एटीएम की रैकी | Patrika News

जयपुर और उदयपुर में की थी 125 से अधिक एटीएम की रैकी

दिनभर के लिए ऑटो लिया था किराए पर, एटीएम में छेड़छाड़ करते पकड़ाई विदेशी महिलाओं का मामला

उदयपुर

Published: July 29, 2021 02:07:00 pm

उदयपुर. बैंक ऑफ बड़ौदा के सर्वर को हैक कर एटीएम से 32 लाख रुपए निकाल ले जाने वाली दोनों विदेशी महिलाओं ने शहर के 125 अधिक एटीएम पर रैकी की थी। इसके लिए दिनभर के लिए एक ऑटो किराए पर लिया था। इसके बाद उदयपुर में वारदात करते दोनों महिलाएं पुलिस के हत्थे चढ़ गई थी।
एसओजी की पूछताछ में युगांडा निवासी नानटोंगो एलेकजेन्ड्रस और गाम्बिया निवासी लोरा कैथ ने कबूला कि रैकी के बाद वारदात के लिए महेश नगर, गोपालपुरा, नेहरू पैलेस व सांगानेर में एटीएम को चिह्नित किया था। एसओजी आरोपी दोनों महिलाओं से गैंग के अन्य सदस्यों के संबंध में पूछताछ कर रही है। एसओजी 32 लाख रुपए बरामद करने के लिए भी विदेशी महिलाओं से पूछताछ कर रही है।
जयपुर और उदयपुर में की थी 125 से अधिक एटीएम की रैकी
जयपुर और उदयपुर में की थी 125 से अधिक एटीएम की रैकी
यह था मामला

उदयपुर के सुखेर थाना क्षेत्र में भुवाणा स्थित एटीएम में मशीन से छेड़छाड़कर सिस्टम को हेक करने के प्रयास में जयपुर एसओजी ने सुखेर थाना पुलिस की मदद से दो विदेशी महिलाओं को गिरफ्तार किया था। युगांडा और गांबिया की दोनों ठग महिलाओं ने रास्पबेरी-पाई डिवाइस की मदद से बैंक ऑफ बड़ौदा के सर्वर को हैक किया था। जयपुर में 32 लाख रुपए निकालने के बाद महिलाएं कोटा होते हुए उदयपुर आ गई थी। यहां एक होटल में ठहरकर रैकी करते हुए एटीएम में वारदात करने की तैयारी में थी कि एसओजी ने दबोच लिया था।
डिवाइस को मोडिफाई करवा बनाया सर्वर
एसओजी की जांच में सामने आया कि जालसाज महिलाओं ने अमेजन से रास्पबेरी पाई नामक डिवाइस 7 हजार रुपए में खरीदी। डिवाइस एक तरह का छोटा कम्प्यूटर है, जो दो कम्प्यूटर के बीच स्वीच के रूप में काम करता है। यह लाइनेक्स प्लेटफॉर्म से जुड़ा होता है। महिलाओं ने डिवाइस को मोडिफाई करवाकर सर्वर का रूप दे दिया था। इसे एटीएम में जाकर बैंक के सर्वर पोर्ट की जगह लगा दिया। वाईफाई से जोड़कर एटीएम को ऑपरेट कर दिया। इससे एटीएम का बैंक के सर्वर से संपर्क कट गया और फिर कार्ड लगाकर मशीन से रुपए निकाल लिए। डिवाइस के माध्यम से रुपए निकालने का मैसेज बैंक तक नहीं पहुंचा।
दिखावा भारतीय होने का

एसओजी के डीआईजी शरत कविराज ने बताया कि इस तरह की ठगी का मामला राजस्थान में पहली बार सामने आया है। यूगांडा और गांबिया की महिलाओं ने अपनी पहचान छिपाने के लिए भारतीय रूप में दिखने का प्रयास किया। उन्होंने नकली बार लगाए, वहीं वारदात के समय सलवार सूट पहना।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री की मौजूदगी में शौर्य का प्रदर्शनरेलवे का बड़ा फैसला: NTPC और लेवल-1 परीक्षा पर रोक, रिजल्‍ट पर पुर्नविचार के लिए कमेटी गठितRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर दिल्ली की किलेबंदी, जमीन से आसमान तक करीब 50 हजार सुरक्षाबल मुस्तैदरायबरेली में जहरीली शराब पीने से 6 की मौत, कई गंभीर, जांच के आदेशBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयरेलवे ट्रेक पर प्रदर्शन किया तो कभी नहीं मिलेगी नौकरी, पढ़े पूरी खबरUP Election 2022: “यहां वोट मांगने मत आइये” सियासी दलों के नेताओं को चेतावनी, जानिए कहाँ का है मामलाLucknow Super Giants : यूपी की पहली आईपीएल टीम का नाम है लखनऊ सुपर जाइंट्स
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.