कलक्टर बोले- कार्यग्रहण-कार्यमुक्त नहीं हो सकेंगे, विद्युत निगम में एक सीट पर हो गए दो एइएन

हाल ए आचार संहिता: राज्य निर्वाचन विभाग से अनुमति लिए बगैर जॉइनिंग

By: Pankaj

Published: 06 Oct 2021, 11:33 AM IST

उदयपुर. जिले में उपचुनाव के चलते जहां एक ओर निर्वाचन विभाग ये राग अलाप रहा है कि आचार संहिता के चलते सरकारी पदों पर जॉइनिंग और कार्य मुक्ति नहीं हो सकेगी, वहीं दूसरी ओर विद्युत निगम में नियमों की धज्जियां उड़ती नजर आ रही है। विद्युत निगम में ट्रांसफर के चलते एक इंजीनियर ने उदयपुर में जॉइन कर लिया, जबकि उसी पद पर पहले से बैठे इंजीनियर रिलीव नहीं हो पाए। ऐसे में एक एइएन की सीट पर दो इंजीनियर काबिज हो गए।

अजमेर विद्युत वितरण निगम ने 15 सितम्बर को ही ट्रांसफर लिस्ट निकाली थी। इसके बाद 28 सितम्बर को आचार संहिता लग गई। इसके बावजूद जिले में ट्रांसफर होकर आए इंजीनियर्स जॉइन करने पहुंच गए। उदयपुर में एइएन (सिविल) नरेश भंसाली और बांसवाड़ा में एइएन (सिविल) बीएल शर्मा का परस्पर स्थानान्तरण हुआ। आचार संहिता का ध्यान रखते हुए एइएन नरेश भंसाली यहां से रिलीव नहीं हुए, जबकि एइएन बीएल शर्मा बांसवाड़ा से रिलीव होकर जॉइन करने उदयपुर आ गए। विद्युत निगम की व्यवस्था देखिए कि एइएन बीएल शर्मा को जॉइन भी करवा दिया। ऐसे में उदयपुर एइएन (सिविल) सीट पर दो-दो इंजीनियर हो गए।
इधर, भीडर डिवीजन में एक्सइएन नासीर अली रंगवाला का स्थानान्तरण अन्यत्र हो गया था, लेकिन वे कोर्ट से स्टे ले आए, जिससे वे ही एक्सइएन है, जबकि स्टे आने से पहले ही केएल कालबेलिया ने जॉइन कर लिया था। लिहाजा इस सीट पर भी दो-दो एक्सइएन हैं।

स्क्रीनिंग कमेटी का आदेश

कलक्टर देवड़ा ने बताया कि मुख्य निर्वाचन अधिकारी के आदेशानुसार आचार संहिता के संबंध में स्पष्टीकरण या शिथिलता के लिए स्क्रीनिंग कमेटी का गठन किया है। कोई प्रकरण स्क्रीनिंग कमेटी के माध्यम से ही भिजवाने के निर्देश दिए गए हैैं। जिले के सभी विभागाध्यक्षों को स्थानान्तरणाधीन कार्मिकों को नवीन पदस्थापन पर कार्यग्रहण या कार्यमुक्त करने से पहले निर्वाचन विभाग से अनुमति लेने के बाद ही कार्रवाई के निर्देश दिए है।
इनका कहना है
वल्लभनगर और धरियावद विधानसभा सीट पर उपचुनाव के चलते जिले में 2 नवम्बर तक आचार संहिता प्रभावी है। इस दौरान विभिन्न विभागों व कार्यालयों के उदयपुर जिले से बाहर व उदयपुर जिले में स्थानान्तरित होने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों को कार्यमुक्त या कार्यग्रहण नहीं करने के आदेश जारी किए हैं। जिले के सभी विभागाध्यक्षों व कार्यालयाध्यक्षों को निर्देशित किया है।

चेतन देवड़ा, जिला निर्वाचन अधिकारी (कलक्टर)
बांसवाड़ा में आचार संहिता नहीं है तो वहां से इंजीनियर रिलीव होकर उदयपुर आ गए। उन्हें नहीं आना चाहिए था। यहां के इंजीनियर को रिलीव नहीं किया है। ऐसे में एक सीट पर दो इंजीनियर हैं। इस संबंध में डिस्कॉम मुख्यालय से मार्गदर्शन मांगा है। वल्लभनगर एक्सइएन सीट से ट्रांसफर होने वाले इंजीनियर कोर्ट से स्टे ले आए, जबकि दूसरे ने जॉइन कर लिया था। ऐसे में वहां भी एक एक्सइएन सीट पर दो इंजीनियर है।
गिरीश कुमार जोशी, एसइ, एवीवीएनएल, उदयपुर सर्कल

Show More
Pankaj Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned