खाकी की सख्ती पर बोले छात्र-'अंकल इससे बढि़या तो आप चुनाव ही मत करवाते'

खाकी की सख्ती पर बोले छात्र-'अंकल इससे बढि़या तो आप चुनाव ही मत करवाते'

Madhulika Singh | Publish: Sep, 12 2018 08:00:00 AM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

मो. इलियास/उदयपुर. छात्रसंघ चुनाव में मतदान के दिन हुडदंग करने वाले प्रत्याशियों व समर्थकों के विरुद्ध मुकदमे दर्ज होने के बाद मतगणना में छात्रों में चुप्पी साधे रखी। उनके जहन में पुलिस का एेसा खौफ बैठा कि वे खुद ड्यूटी पर लगे अधिकारियों तक को कहने लगे 'अंकल इससे बढि़या तो आप चुनाव ही मत करवाते। पुलिस की इस सख्ती से जहां आमजन ने राहत महसूस किया वहीं छात्रों के मायूसी रही। हुडदंग में ढोल-नगाड़ों के बीच न तो वह नाचगान कर सके न हीं रैली व जुलूस मजा ले पाए।

मतगणना से पहले ही एसपी कुंवर राष्ट्रदीप ने सभी प्रत्याशियों व समर्थकों को सावचेत करते हुए बैनर, पोस्टर लगाने व रैली, जुलूस को पूरी तरह से प्रतिबंधित किया था। मतदान के दिन कुछ प्रत्याशियों ने अपने पेम्पलेट उड़ाए तो पुलिस ने हाथोंहाथ 14 प्रत्याशियों सहित कई समर्थकों पर मुकदमे ठोक दिए। भविष्य में रोड़ा बनने वाले इन मुकदमों को देख कइयों ने माफी तक मांगी। मतगणना में इन मुकदमों का असर भी दिखा, छात्र समूह कॉलेजों के बाहर दूर खड़े रहे। प्रत्याशियों के रूझान व परिणाम आने पर वे खुश हुए लेकिन कोई हुडदंग, नारेबाजी व ढोल नगाड़े बजा नहीं पाए। खुशी का इजहार करने से पहले भी वे हर बार पुलिस अधिकारियों के चेहरों को निहार रहे थे। एसपी ने समस्त कॉलेजों के बाहर इतना जाप्ता लगाया कि छात्रों की एक भी नहीं चली।


READ MORE : रिश्वत का आरोपी रिटायर्ड जिला आबकारी अधिकारी गिरफ्तार, दो वर्ष पहले शराब की दुकानों से मंथली बंधी लेते पकड़ा था एसीबी ने

 

एक-एक को घर छोड़कर आई पुलिस
पुलिस ने चुनाव में प्रत्याशियों पर पूरी तरह से नजर रखते हुए बाडाबंदी की। हार-जीत को लेकर कोई उलझ न जाए, झगड़ा न हो, इसका पूरा ध्यान रखा। पुलिस जीतने वाले प्रत्याशियों के शपथ लेते ही उन्हें सरकारी गाडि़यों में बिठाकर उनके घर तक छोडऩे गई। प्रत्याशियों को पूरे रास्ते पाबंद किया कि वे सड़क पर किसी तरह को शोरगुल नहीं करेंगेे। जीत का जश्न, पार्टी, भोज जो कुछ भी आयोजन है वे अपने घर पर करे। सुविवि के संघटक महाविद्यालय के समस्त कॉलेजों के प्रत्याशियों के जीतते ही सीधा सरकारी में रवानगी एकबार किसी के समझ में भी नहीं आई। कई समर्थक तो प्रत्याशी के बाहर आने का इंतजार करते रहे।

--
साफ-सुधरी रही सडक़े व दीवार

पुलिस की सख्ती से इस बार न तो सड़कों पर प्रत्याशियों व समर्थकों की गाडि़यां दौड़ी। सड़क व दीवारे गंदी हुई। पुलिस बैनर लगाना तो छोड़ों छात्रों को पेम्पलेट तक नहीं उड़ाने दिए। छात्रों पर पुलिस की लगाम का सभी व्यापारियों व आमजन ने प्रशंसा की। प्रतिवर्ष चुनाव में हुडदंग के साथ तोडफ़ोड़, मारपीट व झगड़ों के प्रकरण सामने आते है लेकिन इस बार नियम तोडऩे के प्रकरण सामने आए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned