video : आखिर न‍िगम ने बि‍ना जुर्माना छोड़ी गायें, आयुक्‍त ने न‍िकाला समाधान

Mukesh Hingar

Updated: 17 Jan 2018, 03:50:56 PM (IST)

Udaipur, Rajasthan, India

उदयपुर . सरकार के उदयपुर आने पर हेलीपेड के आसपास आई गायों को नगर निगम की ओर से पकड़ कर काइन हाउस में लाने और उनको छोडऩे के एवज में भारी भरकम जुर्माना मांगने के विवाद का मंगलवार को आखिरकार पटाक्षेप हो गया। नगर निगम ने गायों को बगैर जुर्माने के छोडऩे का आदेश दिया। बड़ी क्षेत्र के कटारा व लेई का गुड़ा गांव के ग्रामीणों ने मंगलवार को निगम की गोशाला समिति के अध्यक्ष रमेश चंदेल से मुलाकात कर मदद मांगी। इस पर चंदेल ने आश्वस्त किया अगर ग्रामीण क्षेत्र से गाय लेकर आए हैं तो मैं जरूर मदद करूंगा। बाद में बड़ी के वार्ड पंच मदन पंडित, नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष मोहसिन खान, ग्रामीण लालसिंह चौहान, राजवीर सिंह ने काइन हाउस प्रभारी एक्सईएन मुकेश पुजारी, सहायक अभियंता शशिबाला सिंह व स्वास्थ्य अधिकारी नरेन्द्र श्रीमाली से मुलाकात की लेकिन बात नहीं बनी। इस बीच, ये लोग आयुक्त सिद्धार्थ सिहाग से भी मिले। पंडित ने सिहाग से कहा कि निगम सीमा के बाहर से ग्रामीणों की गायें को लेकर आ गए हैं। इसमें गलती स्वास्थ्य शाखा टीम की है लेकिन वे मानने को तैयार नहीं हैं।

 

READ MORE : गोगुंदा प्रधान और विकास अधिकारी के बीच विवाद का मामला, अब बिना कार्यादेश सीसीटीवी लगाने पर विवाद


उन्होंने आयुक्त से राहत की गुजारिश की। बाद में सिहाग ने दोनों इंजीनियर व स्वास्थ्य अधिकारी से इस बारे में पूरी रिपोर्ट मांगी। पहले तो यह तय किया कि 5500 रुपए जुर्माना के बजाय प्रतिदिन 100 रुपए की हिसाब से दिनों की गणना कर राशि लेकर गायें छोड़ दी जाएं लेकिन ग्रामीणों ने सिहाग के समक्ष बिना किसी राशि लिए गायें देने की बात रखी। अंत में तीनों की रिपोर्ट के बाद तय किया गया कि गायों को बिना किसी जुर्माना या राशि के छोड़ दिया जाए। शाम करीब सात बजे काइन हाउस से ग्रामीण गायों को लेकर निकले। उल्लेखनीय है कि मुख्य सचेतक सम्मेलन के दौरान सरकार के बड़ी के पास हेलीपेड पर उतरने से पहले निगम ने सात गायें उस गांव से पकड़ काइन हाउस ले गए।

स्वास्थ्य शाखा ने बढ़ाया विवाद
पंडित ने कहा कि आयुक्त ने पूरे मामले को समझने के बाद बेहतर तरीके से निस्तारित कर दिया लेकिन स्वास्थ्य शाखा के स्टाफ के कारण मामला इतने आगे बढ़ा और निगम की बदनामी हुई। पंडित ने कहा कि स्वास्थ्य अधिकारी श्रीमाली हमारी बात सुनने के बजाय यह जवाब दे रहे हैं कि उनके पास समय नहीं है?

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned