हाथों-हाथ दिलाई शैक्षिक लोन की राशि

www.patrika.com/rajasthan-news

By: Dhirendra

Updated: 10 Jan 2019, 10:05 PM IST

Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

धीरेंद्र् जोशी/उदयपुर. अधिकारियों की मौजूदगी में जब एक कॉलेज छात्रा ने कलक्टर को अपनी व्यथा बताई। छात्रा ने कहा कि उसके शैक्षिक लोन की किस्त तकनीकी कारणों से बैंक द्वारा नहीं दी जा रही। आज उसकी फिस जमा करवाने की अंतिम तिथि है, एेसे में काफी परेशानी हो रही है तो कलक्टर ने संबंधित बैंक मैनेजर से बात की और शाम चार बजे तक अन्य ब्रांच से छात्रा के ऋण का डीडी बनवा दिया गया।

यह वाकया गुरुवार को नई कलक्टर आनंदी की पहली जनसुनवाई के दौरान देखने को मिला। इस दौरान बोयणा निवासी यामिनी कुंवर राव सुनवाई में पहुंची और लिखीत शिकायत करते हुए बताया कि वह फिशरिज कॉलेज में चतुर्थ वर्ष की विद्यार्थी है। शिक्षा के लिए ऋण लिया है। सात बार (सात सेमेस्टर) के लिए लोन की सहायता से महाविद्यालय में फीस जमा करवाई। लेकिन इस बार एसबीआई बैंक नाहर मगरा के बैंक मैनेजर ने कहा कि मशीन खराब है। कब तक सही होगी यह पूछने पर उनहोंने कहा कि यह सरकारी काम है पता नहीं जब होगी तब होगी। इस पर बैंक मैनेजर की कॉलेज डीन से भी बात करवाई लेकिन डीन का कहना था कि फीस डिमांड ड्राफ्ट के माध्यम से ही जमा होगी और इस पर बैंक से केश राशि मांगी गई, लेकिन नहीं मिली। इधर आज फीस जमा करवाने का अंतिम दिन है। इस पर कलक्टर ने सुनवाई के दौरान ही अधिकारी से बात की और छात्रा के ऋण की किस्त जारी करवाते हुए अन्य बैंक से डिमांड ड्राफ्ट बनवाया।

फीस जमा करवाओ तो मिलेगी टीसी

इधर एक अभिभावक ने निजी स्कूल संचालक के खिलाफ कलक्टर को शिकायत की। इसमें बताया गया कि उसके तीन बच्चे एक निजी स्कूल में पढ़ते हैं। इन बच्चों को शुरुआत में तो निजी स्कूल ने फीस की छूट प्रदान की। लेकिन अब जब टीसी मांग रहे हैं तो फीस जमा करवाने के लिए दबाव बना रहा है। एेसे में कलक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी को पाबंद किया कि फीस के कारण किसी की टीसी नहीं रोकी जा सकती। एेसे में शुक्रवार को निजी स्कूल संचालक से बच्चों की टीसी दिलवाई जाए।

अगली सुनवाई तक हो सभी शिकायतों का निस्तारण

सुनवाई के दौरान उपस्थित विभिन्न विभागों के अधिकारियों को कलक्टर आनंदी ने निर्देश दिए कि जनसुनवाई में प्राप्त इन समस्त शिकायतों का निस्तारण अगली जनसुनवाई से पूर्व अर्थात 30 दिन के भीतर करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि संबंधित अधिकारी इस बात का विशेष ध्यान रखें की कोई भी शिकायत पुन: प्राप्त न हो। गौरतलब है कि प्रत्येेक माह के दूसरे गुरुवार को जिला कलक्टर की अध्यक्षता में जनसुनवाई होती है।

ये समस्याएं भी आई सामने

जनसुनवाई के दौरान करीब डेढ़दर्जन से अधिक प्रकरण प्राप्त हुए। इनमें सड़क पर सीवर का पानी छोडऩे, कुएं में विद्युत कनेक्शन के क्रम में, विद्यालय भवन मरम्मत, आवास, फर्जी पट्टे बनवाने, छात्रवृत्ति संबंधी, यूआईटी की भूमि पर पेड़ों का कटाई व खुदाई रूकवाने बाबत आदि शामिल थी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned