42 दिन के संथारे के बाद नवदीक्षित साध्वी महाभाग्यवानश्री का देवलोकगमन

आज उदयपुर में डोल यात्रा

By: Mukesh Kumar Hinger

Updated: 17 Nov 2020, 11:29 PM IST

मुकेश हिंगड़ / उदयपुर. नवदीक्षित साध्वी महाभाग्यवान श्री का 42 दिन के संथारे के बाद मंगलवार को उदयपुर में देवलोकगमन हो गया। साधुमार्गी जैन संघ के आचार्य रामेश की सुशिष्या साध्वी समताश्री के सान्निध्य में मंगलवार शाम 5 बजे साध्वी महाभाग्यवानश्री का देवलोकमगन हुआ। उनकी दीक्षा 26 अक्टूबर 2020 को उदयपुर में ही श्रुतप्रभमुनि महाराज के सान्निध्य में हुई। दीक्षा से पहले ही सांसारिक जीवन में 20 दिन तक तिविहार संथारा रहा, संथारे के 20वें दिन 26 अक्टूबर को दीक्षा अंगीकार। नवदीक्षित साध्वी ने 12 नवम्बर को चौविहार संथारा ग्रहण कर लिया था। साध्वी महाभाग्यवानश्री की सेवा में यहां ऋषभ भवन में साध्वी समताश्री, साध्वी रविप्रभा, साध्वी अक्षयप्रभा, साध्वी स्वर्णज्योति व साध्वी प्रसिद्धिश्री दिन-रात समर्पण भाव से जुटी थी। संघ के प्रवक्ता अल्पेश जैन ने बताया कि साध्वी की डोल यात्रा बुधवार प्रात: 9 बजे ऋषभ भवन आयड़ से रवाना होगी।

20 दिन के संथारे के बाद 81 वर्षीय श्राविका कमलादेवी ने ली दीक्षा, अब तिविहार संथारा लिया

झीलों की नगरी में गुजराती पर्यटकों की रेलमपेल देखें तस्वीरों में

सुविवि के 6 नवनिर्मित भवनों का उद्घाटन कल
उदयपुर. मोहनलाल सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय में उच्चतर शिक्षा अभियान रूसा के तहत नवनिर्मित 6 भवनों का ऑनलाइन उद्घाटन 19 नवंबर को राज्यपाल कलराज मिश्रा करेंगे। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अमेरिका सिंह ने बताया कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की रूसा परियोजना में छह इमारतों का निर्माण किया गया है। कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष प्रोफेसर सीपी जोशी एवं उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी भी अतिथि होंगे।

Mukesh Kumar Hinger Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned