महंगाई खा रही ताव, प्याज सेब के भाव

- पिछले दिनों हुई बारिश से फसल खराबे का दिखने लगा असर

By: Dhirendra

Published: 03 Dec 2019, 12:46 PM IST

धीरेंद्र्र्र्र् कुमार जाेशी/उदयपुर. मानसूनी बारिश के दौरान कई जगह फसल खराबे के बाद प्याज के भाव नीचे उतरने के नाम नहीं ले रहे हैं। जुलाई में 9 से 12 रुपए प्रतिकिलो बिकने वाला प्याज इस समय 75 से 80 रुपए किलो बिक रहा है। यहां उल्लेखनीय बात ये है कि इस समय फलों का राजा सेव भी 75 से 80 रुपए किलो बिक रहा है। जानकारी के अनुसार केन्द्र सरकार बढ़ते भावों पर अंकुश के लिए प्याज व्यापारियों के भंडारण की सीमा तय करने का विचार कर रही है। संभव है कुछ दिनों में ये सीमा तय होने के बाद प्याज के भाव देश की बड़ी मंडियों में फिर से जमीन पर नजर आने लगे। इसका असर देश की अन्य मंडियों में पड़ेगा। उदयपुर जिले में प्याज मुख्यत: नासिक, इंदौर, रतलाम आदि क्षेत्रों से आते हैं। यहां बेमौसम हुई बारिश से फसल खराब हुई ऐसे में प्याज की दरे आसमान छूने लगी है।

लहसुन भी 180 रुपए पार

मंडी में बिक रहे लहसून भी 180 से 200 रुपए किलो के भाव से बिक रहे हैं। इसकी आपूर्ति नीमच और आसपास के क्षेत्रों से होती है। जानकारों के अनुसार इस बार लहसुन की खेती कम हुई है। ऐसे में इसके भाव भी आसमान छू रहे हैं। आमतौर पर लहसून का भाव 30 से 60 रुपए प्रति किलो रहता है।

इस खेल का भी अंदेशा

प्राकृतिक आपदा के कारण प्यास-लहसुन के भाव बढऩे के साथ ही व्यापारियों द्वारा इनके भण्डारण की बात से इनकार नहीं किया जा सकता। कुछ व्यापारी मानते हैं कि फसल खराब होना तो मुख्य कारण है ही, लेकिन ऊंचे भावों पर मुनाफा कमाने के लिए कुछ स्टॉकिस्ट दोनों प्रमुख सब्जियों का भण्डारण भी कर रहे हैं।

ऐसे समझे भाव

सब्जी मंडी के व्यापारी दिलीप कुमार कटारिया ने बताया कि मंडी में नए प्याज 58 से 62 रुपए होलसेल में बिक रहे हैं। जबकि पुराने 65 से 70 रुपए किलो बिक रहे हैं। यही प्यास रिटेल में क्रमश: 65 से 70 और 75 से 80 रुपए के भाव में लोगों के घरों तक पहुंच रहे हैं। इसी प्रकार होलसेल में लहसुन 140 से 160 रुपए प्रतिकिलो और रिटेल में 180 से 200 रुपए प्रतिकिलो तक बिक रहा है।

Dhirendra Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned