OMG!! यहां सास के खिलाफ रपट लिखाने में बहुएं अव्वल... उदयपुर पुलिस ने किया ये खुलासा…

OMG!! यहां सास के खिलाफ रपट लिखाने में बहुएं अव्वल... उदयपुर पुलिस ने किया ये खुलासा…

Jyoti Jain | Publish: May, 18 2018 02:40:38 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

उदयपुर. मोबाइल फोन के दौर में अब सास-बहू के झगड़े घर की दहलीज लांगकर पुलिस के कानों में गूंजने लगे हैं।

 

उदयपुर . सास-बहू के बीच तनातनी या झगड़ा कोई नई बात नहीं हैं। जिस किसी घर में ये रिश्ता बना, सास की नसीहतों,घर के नियम-कायदों से बहू के माथे की सिलवटें बढ़ती चली जाती हैं और जब पानी सिर से गुजरने लगता है तो शुरू हो जाता है ताने-उलाहने का दौर। अब तक तो सास-बहू की यही रामकहानी सुनी-सुनाई जाती रही। लेकिन, मोबाइल फोन के दौर में अब सास-बहू के झगड़े घर की दहलीज लांगकर पुलिस के कानों में गूंजने लगे हैं।

 

खास बात यह कि उदयपुर में विगत दो सालों में पुलिस के फोन पर सास की शिकायतों की घंटियां घनघनाने में बहुओं ने बड़ी फुर्ती दिखाई। एक भी सास ऐसी नहीं थी जिसने पुलिस को बहू की शिकायत की हो। पिछले दो से तीन सालों में पुलिस में रपट भी लिखाई तो बहू ने सास के खिलाफ। एक भी सास बहू के खिलाफ थाने नहीं गई। हैल्प डेस्क के फोन पर पहुंची शिकायतों में घरेलू झगड़ों की फेहरिस्त भी कुछ कम नहीं है। कुल मिलाकर यह कहना गलत नहीं होगा कि उदयपुर के घरों में बड़बोली बहू पर सास का सब्र कुछ ज्यादा ही भारी है।

 

READ MORE : PICS: शांतिलाल चपलोत के अनशन तोड़ने ने नाराज अधिवक्ताओं ने उनके फोटो पर पोत दी कालिख, फाड़ें पोस्टर, देखें तस्वीरें


वर्ष में करीब 40 से 50 मामले
वर्षभर में सास-बहू की शिकायतों के करीब 40 से 50 मामले आते हैं। मोबाइल फोन पर केवल बहुओं ने ही सास की शिकायतें की हैं, इन स्थितियों में सास का सब्र साफ नजर आता है। सास-बहू के घरेलू झगड़ों की ज्यादातर शिकायतों का निस्तारण केवल आपसी समझाइश से ही किया जाता है।

 


आमतौर पर पुलिस के पास ऐसे मामले आते हैं जो बड़े या गंभीर अपराधों से जुड़े हो। लेकिन, उदयपुर की महिला डेस्क पर छेड़छाड़, मोबाइल क्राइम या पति के अत्याचार के मसलों के अलावा कुछ ऐसे मामले पहुंच रहे हैं जो बेहद रोचक हैं।


यहां झुक जाता है शर्म से सिर मोबाइल पर परेशान करने के मामलों की संख्या जरूर ज्यादा है। महिलाएं व युवतियां ऐसे मामले हैल्प डेस्क तक दे रही है, जिसमें कोई पुरुष, युवा उन्हें मोबाइल पर परेशान या छेड़छाड़ कर रहा है। ऐसे मामले साल में 600 से अधिक आ रहे हैं। इसे लेकर हैल्प डेस्क तत्काल संबंधित थाना पुलिस को मामला सौंपता है और त्वरित कार्रवाई की जाती है। पति द्वारा परेशान करने, मारपीट या एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर्स को लेकर भी औसतन दिन की तीन शिकायतें सामने आ रही हैं।

 

अक्सर यह देखा गया है कि बड़ी उम्र की महिलाओं का सब्र बढ़ जाता है, वे रिश्तों को अनुकूल बनाए रखने में विश्वास रखती हैं। छोटी उम्र की महिलाओं में अनुभव कम होता है, शादी के बाद सास-बहू का सामंजस्य घरेलू झगड़ों को रोकता है। परिवार बनाए रखने के लिए समन्वय जरूरी है।
मोनिका नागौरी, व्यााख्याता, समाजशास्त्र

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned