रोडवेज को अपने 'ठिकाने' के लिए नहीं मिली अपनी जमीन

राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम: प्रदेश में 224 उपखंड, जहां नहीं है निगम का बस स्टैंड, स्थानीय निकायों की ओर से जमीन आवंटन में अड़ंगा

By: Pankaj

Updated: 12 Jul 2021, 10:58 AM IST

उदयपुर. प्रदेशभर में दौड़ती रोडवेज बसों के ठहराव को लेकर उचित बंदोबस्त नहीं है। राज्य में 224 ऐसे उपखंड मुख्यालय हैं, जहां रोडवेज पहुंचती है, लेकिन उनके ठहराव, यात्री सुविधाओं के लिहाज से बस स्टैंड नहीं बन पाए। इसमें सबसे बड़ी रुकावट जमीन आवंटन की है, जो स्थानीय निकाय की ओर से नहीं मिल पाती।
रोडवेज बसों का संचालन सुदूर गांवों तक भी होता है, ऐसे में उपखंड मुख्यालय पर बसों के ठहराव को लेकर बस स्टैंड की जरूरत रहती है। उपखंड मुख्यालयों पर बसें पहुंचती है, लेकिन उनके ठहराव को लेकर बंदोबस्त नहीं। ऐसे में बसें खुले में यहां-वहां पर ही खड़ी रह जाती है। बस के इंतजार में यात्री भी इधर-उधर छांव तलाशते बैठे रहते हैं।
बस स्टैंड पर सुविधाएं
आमतौर पर बस स्टैंड पर टिकट विंडो के साथ ही छाया, पानी, जलपान और बैठक व्यवस्था होती है। इन सुविधाओं के अभाव में यात्री इधर-उधर जगह तलाशते रहते हैं। ऐसे में थड़ी, ठेला संचालक भी ग्राहकी के चक्कर में खुली जगह में पहुंचती बसों के इर्द गिर्द खड़े हो जाते हैं।
प्रदेश में उपखंड, जहां बस स्टैंड नहीं
जयपुर - 08, अजमेर - 07, अलवर - 12, बाड़मेर - 11, भरतपुर - 09, बारां - 07, भीलवाड़ा - 15, बीकानेर - 09, चूरू - 05, दौसा - 04, धौलपुर - 05, गंगानगर - 07, हनुमानगढ़ - 07, जैसलमेर - 04, जालोर - 07, झालावाड़ - 07, झुंझुनंू - 06, जोधपुर - 09, करौली - 05, कोटा - 05, नागौर - 09, पाली - 07, हनुमानगढ़ - 07, सवाईमाधोपुर - 07, सीकर - 05, सिरोही - 01, टोंक - 04

Show More
Pankaj Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned