शिक्षक द‍िवस : घर पर बैठे-बैठे दुनियाभर के लाखों बच्चों को फ्री में पढ़ा रही उदयपुर की मुमताज पचीसा

शिक्षक दिवस 2019 के मौके पर आइए हम आपको मिलवाते हैं एक ऐसी शिक्षिका से, जो घर बैठे—बैठे शिक्षा की लौ जला रही हैं। इससे न केवल भारत बल्कि दुनियाभर के लाखों बच्चे लाभान्वित हो रहे हैं। नए जमाने की इस शिक्षिका का नाम है मुमताज पचीसा। ये राजस्थान के उदयपुर की रहने वाली हैं।

By: madhulika singh

Updated: 05 Sep 2019, 05:39 PM IST

मधुल‍िका स‍िंह/उदयपुर. सिंगापुर में रह रहीं उदयपुर की मुमताज पचीसा घर बैठे-बैठे ही दुन‍ियाभर के बच्‍चों को श‍िक्षित कर रही हैं। वो भी फ्री में। दरअसल, मुमताज होम कैम्‍पस नाम की वेबसाइट चलाती हैं ज‍िस पर आकर कोई भी 6 से 14 साल तक के बच्‍चेे कभी भी कोई भी क्‍लास ऑनलाइन अटेंड कर सकते हैं।

मुमताज का कहना है कि शिक्षा में जब तकनीक जुड़ जाती है तो इससे चीजें ज्यादा आसान हो जाती हैं। अब समय तकनीक का है, ऐसे में शिक्षा में इसका उपयोग और बेहतर कल बनाने के लिए किया जाना चाहिए। मुमताज भी अपने पति फरहत के साथ मिलकर तकनीक के जरिये बच्चों का भविष्य संवारने में जुटी हैं। मुमताज ने बताया कि वे सिंगापुर में पिछले 9 साल से वेबसाइट https://my.homecampus.com.sg/ चला रही हैं जिसके माध्यम से वे दुनियाभर के बच्चों के लिए नि:शुल्क शिक्षा उपलब्ध करा रही हैं। इसमें प्राइमरी लेवल के स्टूडेंट्स के लिए वे वीडियो लेसंस बनाकर वेबसाइट्स पर डालते हैं। इसमें लर्निंग फ्री है, टेक्स्ट बेस्ड कॉन्टेंट भी फ्री है। ये विजुअल टेक्नीक है और होम बेस्ड लर्निंग है। इससे बच्चों को काफी फायदा होता है। वे देखकर, सुनकर, समझकर पढ़ते हैं।

मुुमताज ने बताया क‍ि जब उनका खुद का बच्‍चा छोटा था तब उन्‍हें लगा क‍ि कोई ऐसा प्‍लेटफार्म होना चाह‍िए जहां बच्‍चे आसान तरीके से मैथ्‍स व अन्‍य व‍िषय पढ़़ सकें और उसे समझ सकें। जो गणि‍त उन्‍हें हार्ड लगती थी, उसे सरल तरीके से कैसे पढ़ाया जाए बस इसी सोच से उन्‍होंने ये वेबसाइट शुरू की और आज लाखों बच्‍चे इसका फायदा उठा रहे हैं।

शिक्षक द‍िवस व‍िशेष :  घर पर बैठे-बैठे दुनियाभर के लाखों बच्चों को फ्री में पढ़ा रही उदयपुर की मुमताज पचीसा
madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned