इस गांव में जरा सी लापरवाही ने लोगों की जिंदगी को बना दिया है नरक!

इस गांव में जरा सी लापरवाही ने लोगों की जिंदगी को बना दिया है नरक!

Sushil Kumar Singh Chauhan | Publish: Jun, 20 2019 07:52:22 PM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

सड़क पर कीचड़ और गंदगी का 'कहर, ग्राम पंचायत के खिलाफ आमजन में आक्रोश

उदयपुर/ मेनार. वल्लभनगर विधानसभा क्षेत्र के मेनार गांव में गर्मी के तपते दिनों के बीच प्री-मानसून की बरसात राहत भरा संकेत लेकर आई तो झमाझम बरसात से गलियों व सड़कों पर भरा कीचड़ और गंदगी उनके लिए नई मुसीबत बनकर सामने आया। ग्राम पंचायत की अनदेखी से पहली बरसात में ही पूरे गांव में कीचड़ और नालियों का पानी सड़कों पर आ गया। कुछ जगहों पर तो उफान में आई नालियों का पानी लोगों के घरों में भी घुस गया। संकड़ी गलियों और सड़कों पर गंदगी अब लोगों के लिए बीमारी की वजह बनता दिख रहा है। मच्छरों के जन्मने से लेकर जहरीले जानवरों की मौजूदगी को निमंत्रण देते कीचड़ को लेकर अब लोगों में आक्रोश बना हुआ है।
कस्बे के ओंकारेश्वर चबूतरे से जाने वाले पांचों रास्तों पर पसरी गंदगी ने ग्राम पंचायत की ओर से मानसून पूर्व जिम्मेदारी की पोल खोल कर रख दी है। ग्रामीणों का आरोप है कि पिछले 2 वर्षों से नालियों की सफाई जैसे कार्य को लेकर पंचायत स्तर पर अनदेखी हुई है। राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय मार्ग एवं पीपली चौक से जलदाय विभाग की पानी की टंकी तक नालियों के आस-पास सड़क के दोनों ओर कांटे उगने के कारण मार्ग के हालात संकट भरे हो गए हैं। सबसे ज्यादा समस्या स्कूल मार्ग पर है। विद्यार्थियों को उनके कपड़ों को संभालते हुए गंतव्य तक जाना पड़ेगा। फिसलन के बीच राहगीरों व दुपहिया सवारों का गिरना बदस्तूर शुरू हो गया है। आलम यह है कि जिम्मेदारों ने गांव के एक किलोमीटर लंबे नाले की सफाई भी नहीं कराई। मलबा यहां मुसीबत बना हुआ है।

युवाओं में फूटा गुस्सा
गांव में पसरी गंदगी को लेकर युवाओं में आक्रोश व्याप्त है। सोशल मीडिया के माध्यम से युवा उनके इस आक्रोश को जता रहे हैं। सोशल मीडिया पर वह स्थानीय जनप्रतिनिधयों को खरी खोटी सुनाने से भी गुरेज नहीं कर रहे। आरोप है कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत पंचायत को लाखों रुपए का बजट मिलता है। बावजूद इसके पंचायत स्तर पर सफाई व्यवस्था को लेकर उदासीनता पसरी हुई है।

फिर लापरवाही क्यों?
ग्राम पंचायत की कोरम बैठक में उपसरपंच शंकरलाल मेनारिया ने सरपंच व सचिव को कई बार मुख्य चौराहों सहित स्टेट बैंक, स्कूल मार्ग, मंदिर मार्ग की नियमित साफ-सफाई, कंटीली झाडिय़ों की कटाई जैसी समस्याओं को लेकर लगातार ध्यान आकर्षित किया। इसके बाद भी पंचायत स्तर पर ऐसी लापरवाही क्यो की जाती रही। ये सोचने का विषय बना हुआ है।

कोई ध्यान नहीं देता
बीते दो माह से मेरे खुद के स्तर पर सरपंच व ग्राम सचिव से सफाई को लेकर लगातार बोला जा रहा है। बैठक में भी बाहरी मजदूरों से सफाई सुनिश्चित करने को कहा गया, लेकिन किसी स्तर पर ध्यान नहीं दिया गया।
शंकर लाल मेनारिया, उप सरपंच, ग्राम पंचायत मेनार

संकट में जीवन
पंचायत प्रशासन को लंबे समय से गंदगी और नालियों की सफाई को लेकर अवगत कराया गया, लेकिन किसी ने जिम्मेदारी को लेकर तत्परता नहीं दिखाई।
जसवंत दियावत, ग्रामीण, मेनार

दो दिन में समाधान
मजदूरों की कमी से सफाई संभव नहीं हो सकी। बाहरी मजदूरों को बुलाकर दो दिन में मुख्य मार्गों की सफाई व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी।
गणपत लाल, सरपंच, ग्राम पंचायत, मेनार

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned