scriptWe are at number three in the state in FIR | एफआईआर में हम प्रदेश में तीसरे नंबर पर | Patrika News

एफआईआर में हम प्रदेश में तीसरे नंबर पर

जयपुर पहले व अजमेर दूसरे स्थान पर

कोटा व जोधपुर से आगे उदयपुर संभाग दक्षिणी राजस्थान में अपराध बेलगाम

बीते ढाई वर्ष के हाल-स्पॉटलाइट

उदयपुर

Published: June 23, 2022 07:51:14 am

राजस्थान का दक्षिणांचल उदयपुर संभाग और उसके छह जिलों में से दो बोर्डर के बीच फंसे चार जिले अपराधों की गहरी काली चादर ओढे़ हुए हैं। इसमें कुख्यात अपराधियों के बढ़ते कई जुर्म, अवैध शराब तस्करी, गोवंश परिवहन और मादक पदार्थ की हेराफेरी के गुनाह भी खूब हो रहे हैं। बालश्रम का दंश, मजबूरी व मजदूरी में पिसता बचपन भी यहां सब रिकॉर्ड तोड़ता जा रहा है। इस सबके बीच आदिवासी बहुल इलाकों में परस्पर झगड़ों में छोटी-छोटी बातों में जान लेने की घटनाओं ने यहां अपराधों का ग्राफ काफी तेजी से बढ़ा दिया है। संपत्ति-महिला व जमीनी संघर्ष में खून करने व मौताणे के डर के बीच यहां अरावली की सुरम्य पहाडि़यों व प्राकृतिक आबोहवा में आम जनजन का दम घूंट रहा है। बीते दो वर्ष व आधे बीते 2022 की बात करें तो प्रदेश में कुल दर्ज 698899 एफआईआर में से में से अकेले उदयपुर संभाग 11.9 प्रतिशत शामिल है।

Crime: हत्या के मामले में किशोर निरुद्ध
Crime: हत्या के मामले में किशोर निरुद्ध

--------------

ऐसे दर्ज हुई एफआईआर- वर्ष 2020,2021,2022

स्थान-संभाग दर्ज एफआईआर- प्रतिशत

पहला- जयपुर - 135,155- 19.3

दूसरा- अजमेर- 89629 12.8

तीसरा- उदयपुर- 83159 11.9

चौथा- भरतपुर- 76573 10.8

पांचवां- कोटा- 75471- 10.7

छठा- जयपुर कॉमन- 74864 10.7

सातवां- जोधपुर- 70361- 10.1

आठवां- बीकानेर - 69163- 9.9

नौवा- जोधपुर कॉमन-21099- 3.0

दसवां-जीआरपी- 3098- 0.4

अन्य- 327- 0.0

-----------------

संभाग के छह जिलों में एफआईआर

उदयपुर - 27602डूंगरपुर - 8333

बांसवाड़ा - 11372राजसमन्द - 11075

चित्तौड़गढ़- 16124प्रतापगढ़ - 8653

---------

ये भी खास- क्राइम एनालिटिक्स की बात करें तो प्रदेश में कुल 69889 दर्ज एफआईआर में से 86.41 फीसदी एफआइआर डिस्पोज हो चुकी हैं, जबकि 13.59 प्रतिशत एफआईआर फिलहाल पेंडिंग है, यानी इनमें अनुसंधान जारी है।

- इसका सकारात्मक पहलु ये भी- एफआईआर यदि ज्यादा दर्ज हो रही है, तो पुलिस के पास जाने वाले मामलों की जांच होने लगी है। यानी एफआईआर दर्ज करने में ना नूकुर या आनाकानी नहीं हो रही है।- एक चेहरा ये भी- सभी छह जिलों में बढ़ते अपराधों परएफआईआर भले ही दर्ज हो, लेकिन कोटा व जोधपुर के मुकाबले ज्यादा मामले दर्ज होना बड़ा सवाल खड़ा करता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: अयोग्यता नोटिस के खिलाफ शिंदे गुट पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, सोमवार को होगी सुनवाईMaharashtra Political Crisis: एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने पर दिया बड़ा बयान, कहीं यह बातBypoll Result 2022: उपचुनाव में मिली जीत पर सामने आई PM मोदी की प्रतिक्रिया, आजमगढ़ व रामपुर की जीत को बताया ऐतिहासिकRanji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबKarnataka: नाले में वाहन गिरने से 9 मजदूरों की दर्दनाक मौत, सीएम ने की 5 लाख मुआवजे की घोषणाअगरतला उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस नेताओं पर हमला, राहुल गांधी बोले- BJP के गुड़ों को न्याय के कठघरे में खड़ा करना चाहिए'होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा' की मानसिकता से निकलकर 'करना है, करना ही है और समय पर करना है' का संकल्प रखता है भारतः PM मोदीSangrur By Election Result 2022: मजह 3 महीने में ही ढह गया भगवंत मान का किला, किन वजहों से मिली हार?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.