हमने सिखाया तब इनकी समझ में आया स्वाइन फ्लू का कायदा

हमने सिखाया तब इनकी समझ में आया स्वाइन फ्लू का कायदा

Sushil Kumar Singh Chauhan | Updated: 24 Jan 2019, 11:34:10 PM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

स्वाइन फ्लू को लेकर सख्त एमबी प्रशासन, एहतियात के तौर पर रखवाए दस्ताने

उदयपुर. आरएनटी मेडिकल कॉलेज के अधीन संचालित स्वाइन फ्लू वार्ड में चिकित्सकों के स्तर पर स्वाब नमूना लेने में बरती जा रही कोताही का मामला गुरुवार को गरमाया रहा। राजस्थान पत्रिका में संक्रमण को लेकर बरती जा रही असावधानी वाले मुद्दे पर महाराणा भूपाल चिकित्सालय अधीक्षक डॉ. लाखन पोसवाल ने वार्ड प्रभारी सहित अन्य स्टाफ की आवश्यक बैठक ली। पाबंद किया कि आगे से मरीजों के स्वाब नमूने लेने के दौरान हर मरीज के लिए दस्ताने (ग्लब्स) आवश्यक तौर पर बदले जाएंगे। सावधानी बरतते हुए प्रशासनिक स्तर पर दस्तानों का स्टोर वार्ड में पहुंचाया गया। इसी तरह व्यवस्था खामियों में सुधार करते हुए रूटीन में मरीज में स्वाइन फ्लू जांचने वाली प्रक्रिया पर भी प्रतिबंध लगाया गया। यानी कि अब स्पेशल कैटेगरी वाले मरीज की ही स्वाब जांच होगी। सामान्य कारणों वाले मरीज को इस प्रक्रिया से दूर रखा जाएगा। खुले में लिए जा रहे स्वाब नमूनों को लेकर अधीक्षक ने स्पष्ट किया कि आउटडोर वाले मरीजों को बाहर कर स्थान विशेष की चार दीवारी के भीतर मरीजों का स्वाब लिया जाएगा। इसी तरह बाजार में महंगी मिलने वाली वीटीएम को लेकर भी सख्त निर्देश जारी किए गए। गौरतलब है कि राजस्थान पत्रिका ने २४ जनवरी के अंक में 'नादानी से बढ़ रहा स्वाइन फ्लूÓ शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर चिकित्सालय प्रशासन का ध्यान खामियों की ओर आकर्षित किया था। गौरतलब है कि चिकित्सालय के इस वार्ड में प्रतिदिन करीब 10से अधिक मरीजों के स्वाब नमूना लेने का सिलसिला प्रतिदिन जारी था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned