कांधों पर काम का बोझ...तकनीकी शिक्षा विभाग ने गढ़ डाले नए 'रोबोट

स्लग: एक-एक अधिकारी के कांधे पर पांच-पांच प्रभारकाम का बोझ, फिर भी गढ़ डाले 'रोबोटÓकार्य का दबाव

भुवनेश पण्ड्या
उदयपुर. तकनीकी शिक्षा विभाग की टेक्निक स्टाफ की कमी से फेल हो गई है। आलम यह है कि जहां एक ओर विभाग में अधिकारियों से लेकर कार्मिकों का अभाव है वहीं दूसरी ओर एक-एक अधिकारी के कांधे पर कई-कई काम सौंप उन्हें 'रोबोटÓ की तरह तैयार करने पर विभाग जुटा हुआ है। इससे न तो अधिकारी अपना मूल काम कर पा रहे हैं और न ही अतिरिक्त काम। प्रदेश की ऊंची कुर्सियों पर बैठे अधिकारी विभिन्न माध्यमों से अपने मातहतों में जोश भरने का प्रयास तो करते हैं, लेकिन खाली कुर्सियों के फूटते बम ने पूरी व्यवस्था को ही मटियामेट कर दिया है।

-----

आधे से अधिक पदों पर खाली कुर्सी का 'ग्रहणÓप्रदेश में राज्य सेवा से लेकर संविदा के काफी पद रिक्त हैं। कुल ५२५४ में से ३६२२ पद रिक्त पडे़ हैं। न तो आईटीआई की व्यवस्था संभालने वाले हैं और न ही आने वाली पीढि़यों को पढ़ाने वाले। १ मार्च, २०१९ तक की स्थिति पर नजर डालंे तो तकनीकी शिक्षा की स्थिति डावांडोल है।संवर्ग- पदनाम-स्वीकृत पद- रिक्त पदराज्य सेवा- राजपत्रित- २९५-१८१अधीनस्थ सेवा- समूह अनुदेशक- २७३-१३०मंत्रालयिक सेवा- मंत्रालयिक- ७०४-३५८चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी सेवा- मशीनमैन, जमादार, दफ्तरी, कार्यशाला परिचारक, चौकीदार, सफाईकर्मी-८३७-३८२संविदा सेवा- अनुदेशक, कम्प्यूटर, ऑपरेटर, अंशकालीन, स्वीपर- १०९-१००कुल- ५२५४ में से ३६२२ पद रिक्त पडे़ हैं।

----

ये है उदयपुर संभाग के हाल इन प्रभारियों को कई-कई जिलों में आईटीआई का काम सौंप रखा है, वह भी कई किलोमीटर दूर। एेसे में वे किसी एक पर फोकस कर बेहतर काम नहीं कर पाते। कुछ दिन यहां तो कुछ दिन वहां में ही निकल जाते हैं।१ - नीरज नागौरी प्रधानाचार्य औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान उदयपुर के पास वर्तमान में पांच प्रभार है।औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, उदयपुरऔद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, मावलीऔद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, राजसमन्दउत्पा.के उदयपुरऔद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, बांसवाड़ाऔप्रसं, कुराबड़औप्रसं छोटी सरवन, बांसवाड़ाऔप्रसं, अरथूनाऔप्रसं तलवाड़ामहिला औप्रसं, बांसवाड़ा

------

२- केसी पानेरी, आचार्य औ.प्र.सं कपासन- औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, अरनोद- औ.प्र.संस्थान भदेसर (चित्तौडग़ढ)़- औ.प्र.संस्थान, धरियावद- औ.प्र.सं, कोटड़ा- औ.प्र.सं, कपासन- औप्रसं, राशमी- औप्रसं, आसपुर

----

३- राजकुमार बागोराऔप्रसं, प्रतापगढ़औप्रसं, सलूम्बरसीईटीटी, उदयपुरऔप्रसं, लसाडि़याऔप्रसं, केन्द्रीय जेल उदयपुरऔप्रसं, पीपलखंूट------

४- सुभाषचन्द्र सुथारमहिला औप्रसं, उदयपुरऔप्रसं बडग़ांव---

५- केसी अग्रवालऔेप्रसं, बेगंू----

६- पीके अग्रवालऔप्रसं, बड़ीसादड़ीऔप्रसं, चित्तौडग़ढ़औप्रसं, डूंगला-----७- कमलेश मीणाअधीक्षक, औप्रसं, भवानी मंडीऔप्रसं, रावतभाटा-----

८- रवीन्द्रकुमार जोशीआचार्य, औप्रसं, गंगापुरऔप्रसं, नाथद्वाराऔप्रसं गंगरार----

९-सुनील गुप्ताआचार्य, औप्रसं, आमेट----

१०. कनकमल जैनउपाचार्य औप्रसं, डूंगरपुरऔप्रसं, सागवाड़ाऔप्रसं, डूंगरपुरऔप्रसं, दोवड़ाऔप्रसं, बिछीवाड़ाऔप्रसं, सीमलवाड़ाऔप्रसं, गलियाकोटऔप्रसं, चिखलीऔप्रसं, झोथाली-----

११- आलोक गुप्ताआचार्य, औप्रसं, खेरवाड़ाऔप्रसं, बागीदौराऔप्रसं, सज्जनगढ़औप्रसं, आनन्दपुरीऔप्रसं, कुशलगढ़औप्रसं, घाटोल

स्टाफ की कमी से कार्य प्रभावित स्टाफ कम होने का असर तो तकनीकी शिक्षा पर पड़ता ही है। हालांकि कुछ समय से विभागीय कार्यों में गति आई है। जैसे ही पूरा स्टाफ मिलेगा तो आगे की स्थितियां बेहतर होती चली जाएंगी। फिलहाल कई कार्मिकों के पास अतिरिक्त भार कुछ ज्यादा है।

सुनील जोशी, उपनिदेशक, तकनीकी शिक्षा उदयपुर संभाग

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned