इमोशन और एक्सप्रेशंस जाहिर करना है तो इमोजी है ना..

इमोशन और एक्सप्रेशंस जाहिर करना है तो इमोजी है ना..

Madhulika Singh | Publish: Jul, 17 2019 02:39:07 PM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

ऑक्सफॉर्ड डिक्शनरी ने फे स विद टियर्स ऑफ जॉय यानीहंसते-हंसते आंसू निकलने वाले इमोजी को जो सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा शेयर किया गया, उसे वर्ष 2015 में वर्ड ऑफ द ईयर घोषित किया। अगर आप अपनी पसंद का इमोजी बनाना चाहते हैं, तो आपको प्लेस्टोर पर कई सारे एप्स मिल जाएंगे जिनके जरिए आप खुद का इमोजी क्रिएट कर सकते हैं।

मधुलिकासिंह चौहान/उदयपुर. एक दौर था जब लोग लैटर्स लिख कर अपनी भावनाएं व्यक्त किया करते थे, इसके बाद मैसेजेज आ गए और फिर सोशल मीडिया का दौर। अब फे सबुक हो या ट्विटर का प्लेटफार्म लोग लिखने से ज्यादा अपने इमोशंस और एक्सप्रेशंस इमोजी के माध्यम से व्यक्त करना पसंद करते हैं। यही कारण है कि इस डिजिटल युग में सोशल मीडिया पर अपनी भावनाओं को लिखने का चलन कम और ईमोजी भेजने का ट्रेंड बढ़ता जा रहा है। अब हालत यह हो गई है कि 17 जुलाई को विश्व इमोजी डे के रूप में मनाया जाने लगा है।

एक इमोजी बयां कर देती है ‘मन की बात’उदयपुर के युवाओं की बात की जाए तो वे इमोजीज को सोशल मीडिया का जरूरी हिस्सा मानते हैं। उनका मानना है कि कई बातें ऐसी होती हैं जो सिर्फ एक इमोजी के जरिये ही बयां हो जाती है। ऐसे में लंबे मैसेज टाइप करने के बजाय जब एक या दो इमोजी से ही काम चल जाता है तो ये ज्यादा बेहतर है। वहीं, हर तरह के एक्सप्रेशंस और इमोशंस के लिए इमोजी मौजूद हैं। आपको हंसना है, सोना है, गुस्सा जाहिर करना है या फिर पार्टी ही करने का मन हो तो आप ये सब इमोजीज के जरिये बता सकते हैं।

‘फे स विद टियर्स ऑफ जॉय’ है टॉप इमोजी
टेक कंपनी बॉबल एआई ने वल्र्ड इमोजी डे से एक दिन पूर्व ही ‘फे स विद टियर्स ऑफ जॉय’ यानीहंसते-हंसते आंसू निकलने और ‘ब्लोइंग किस ’ वाले इमोजी को स्मार्ट फोन कंवर्सेशन में टॉप टू इमोजी घोषित किया है। कंपनी के वर्ष 2018 के आंकड़ों के अनुसार, सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर इमोजी शेयर करने वालों में 36 प्रतिशत का इजाफा हुआ है।


इस तरह हुई शुरुआत

इमोजी डे मनाने की शुरुआत 2014 में उस वक्त हुई थी जब जेरेमी बर्ज ने इमोजी के लिए इमोजीपीडिया शुरू किया था। इमोजी का सबसे पहले इस्तेमाल 1995 में किया गया था। उस दौरान लोग इमोजी का इस्तेमाल पेजर के साथ करते थे। इमोजी के जन्म की भी बड़ी दिलचस्प कहानी है। दरअसल 1990 में जापान निवासी शिगेटिका कुरिता ने पहली बार इमोजी को तैयार किया था। शिगेटिका कुरिता ने यह इमोजी वाली फोटो जापान की एक टेलीकॉम कंपनी एनटीटी डोकोमो के लिए बनायी थी ताकि किशोर बच्चों को रिझाया जा सके।

एफबी पर 2300 इमोजी का इस्तेमाल और ट्विटर पर 5

भारत के ट्विटर यूजर्स 5 इमोजी का सबसे ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। इनमें खुशी के आंसू, आंखों में दिल के साथ मुस्कुराता हुआ चेहरा, नमस्कार, खुशी और दिल के इमोजी शामिल हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक फेसबुक और फेसबुक मैसेंजर पर रोज 2,300 इमोजी का लोग इस्तेमाल करते हैं। फेसबुक पर कुल 2,800 इमोजी हैं। इसके अलावा पूरी दुनिया में रोज 900 मिलियन इमोजी ऐसे भेजे जाते हैं जिनके साथ कोई टेक्स्ट (शब्द) नहीं होता।

ये है इमोजी

आज के दौर में हम सोशल मीडिया पर किसी को मैसेज भेजने के लिए सिर्फ शब्दों या वाक्यों का ही प्रयोग नहीं करते बल्कि इसके साथ-साथ तरह के स्माइली फेस, दिल, जानवरों, खाद्य पदार्थों, गणितीय प्रतीकों,कार,जहाज,पेड़,मौसम,फूल,गिफ्ट,नमस्कार आदि की छवियों को भी भेजते हैं। यही छवियां इमोजी कहलाती हैं। इमोजी का इस्तेमाल मैसेंजर,फेसबुक, ट्विटर आदि पर ज्यादा किया जाता है।


ये हैं वॉट्सएप पर यूज की जाने वली टॉप टेन इमोजीज

- ‘फे स विद टियर्स ऑफ जॉय’

- ब्लोइंग ए किस

- स्माइलिंग फेस विद हार्ट आइज

- किस मार्क

- ओके हैंड

- लाउडली क्राइंग फेस

- बीमिंग फेस विद स्माइलिंग आइज

- थम्स-अप

- फोल्डेड हैंड्स

 

 

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned