विश्व गाैैरैया दिवस : पेड़़ा़ेें-घरों से गायब होकर कहां गई चिडि़या रानी ?

प्राचीन काल से ही हमारे संस्कृति, स्वतंत्रता, उल्लास और परम्परा की संवाहक रही गौरैया अब संकट में है

उदयपुर चीं-चीं कर आती और घर-आंगन में फुदकती... नन्हीं सी चिडि़या...जो कभी घरों की शान थी। कच्चे घरों की खपरैल के बीच, दिवार की दरारों, तस्वीरों के पीछे, गडर के कोनों, टीन-टप्परों व छज्जों के नीचे तथा छत पर पानी के नालदों में तिनकों से बनाये हुए इनके घौंसले देखे जाते थे। इनकी चहचहाहट से वीरान घर भी आबाद और जीवंत होते रहते थे। इसी नन्हीं चिडि़या को दाना-पानी देकर देखभाल करते घर के छोटे बच्चों से लेकर बूढ़े हाथ कभी भी थकते नहीं थे। प्राचीन काल से ही हमारे संस्कृति, स्वतंत्रता, उल्लास और परम्परा की संवाहक रही गौरैया अब संकट में है। आज विकास की दौड़ में गांव-शहरों में उग आए सीमेंट के जंगलों और पेड़ों के स्थान पर उगे बिजली व मोबाइल के टावरों ने इस गाैैरैया को घरों से गायब सा कर दिया है। विश्व गाैैरैया दिवस पर एक रिपोर्ट:

किसानों की मित्र है नन्हीं गोरैया:
उदयपुर के पक्षीविद् विनय दवे बताते हैं कि सामान्य बोलचाल में जिसे चिडि़या कहा जाता है, वह हमारी गोरैया ही है। गोरैया एक छोटे आकार की चिडि़या है। इसके पंख काले या घूसर रंग के होते हैं। गोरैया की लम्बाई 14-18 सेमी के बीच होती है। इसका सिर गोल, पूंछ छोटी व चोंच नुकीली पिरामिडाकार होती है। गोरैया विवर नीडन है यानि कि ये अपना घोसला पेड़ों, चट्टानों, घरों या इमारतों के विवर में बनाना पसंद करती है। इसके प्रजनन का समय अप्रेल से अगस्त तक है, हालांकि कई जगह पूरे साल इसके घांेसलें देखे गये हैं। यह एक बार में 4-5 अंडे देती है। अंडे का रंग सफेद, हल्का नीला, सफेद या हल्का रंग-सफेद होता है। ऊष्मायन अवधि 11-14 दिन है। इसके चूजे 14-16 दिनों में उड़ने लगते है।
दवे बताते हैं कि गोरैया किसानों की मित्र मानी जाती है। गोरैया कीटभक्षी है और यह हज़ारों वर्षों से खेतों और हमारे घर-आंगन में कीट-पतंगों, मक्खी, मच्छर, मकडि़यां, इल्लियां आदि को खाकर पर्यावरण को संतुलित करती है और हमारे जीवन को सहज बनाने में मदद करती है। वह अपने चूजों को भी वो इल्लियां खिलाती है जो फसल को नुकसान पहुंचाती हैं। इस मायने में गोरैया स्वस्थ पर्यावरण की जैव-सूचक है।

इसलिए गायब हो रही है गाैैरैया
पक्षी विशेषज्ञ और जनसंपर्क उपनिदेशक डॉ. कमलेश शर्मा बताते हैं कि अत्यधिक शहरीकरण व पक्के आवासों के कारण गोरैया को अपना घौंसला बनाने के लिए जगह नहीं मिल पा रही है। अब इनके लिए न तो खपरैल है और ना ही टीन टप्पर। पक्के मकान भी बन चुके हैं और इनके दरवाजे गोरैया के लिए बंद हो चुके हैं। खिड़कियों और रोशनदानों पर जाली लगाए जाने के कारण इनकी पहुंच घरों के भीतर नहीं हो पा रही है और ये घौंसलें नहीं बना पा रही है। दूसरी तरफ इनकी आश्रय स्थली पेड़ों व झाडि़यों की बेतहाशा कटाई के कारण प्रजनन के लिए उपयुक्त स्थान नहीं मिल पा रहा है और अब इनका अस्तित्व अब खतरे में दिखाई दे रहा है। इसके अलावा फसलों में कीटनाशकों के अंधाधुंध प्रयोग से इनके मुख्य भोजन कीट-पतंगों की कमी के कारण भी ये गायब हो रही हैं। विभिन्न शोधों में यह भी बताया जाता है कि मोबाईल टावरों के रेडिएशन के कारण भी इसकी प्रजनन क्षमता में कमी आ रही है और इससे लगातार इनकी संख्या कम हो रही है।
यह सुखद है कि अब पशुपक्षियों के प्रति संवेदनशील लोगों के कारण नन्हीं गोरैया के लिए घरों में लकड़ी और गत्ते के कृत्रिम घौंसलें लगाने का प्रचलन बड़ा है और इन घौंसलों में अब ये अपनी वंशवृद्धि भी कर रही है।

20 से अधिक देशों में गौरैया पर डाक टिकट
उदयपुर की पक्षीप्रेमी डाक टिकट संग्रहकर्ता पुष्पा खमेसरा बताती है कि प्राकृतिक रूप से गाैैरैया भारत के साथ यूरोप, अफ्रीका, एशिया, म्यांमार व इंडोनेशिया में आसानी से देखी जा सकती है। गाैैरैया का गौरव समूचे विश्व में है इसी कारण अब तक भारत सहित 20 से अधिक देशों में गौरैया पर डाक टिकट किए गए हैं। खमेसरा के अनुसार गाैैरैया पर यूूगोस्लाविया में 1982 में पहली बार डाक टिकट जारी की गई। भारतीय डाक विभाग ने 9 जुलाई 2010 को गोरैया पर पाँच रुपये मूल्य वर्ग का डाक टिकट जारी किया। इस डाक टिकट में एक नर व मादा गोरैया को दर्शाया गया है।

चिडि़या एक नाम अनेक
अलग-अलग बोलियों, भाषाओं, क्षेत्रों में गौरैया को विभिन्न नामों से जाना जाता है।
उर्दू- चिरैैया
सिंधी- झिरकी
पंजाब- चिरी
जम्मू और कश्मीर-चेर
पश्चिम बंगाल-चराई पाखी
उड़ीसा- घराछतिया
गुजरात - चकली
महाराष्ट्र- चिमनी
तेलगु- पिछुका
कन्नड- गुबाच्ची
तमिलनाडुुगाैैरैया और केरल- कुरूवी

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned