कभी 50 कदम भी चलना नहीं था संभव, अब दुनिया को पैदल नापने निकले योगेन

कैंसर से जंग जीतकर दुनिया को पदयात्रा कर के देंगे बीमारियों से आजादी का मंत्र, वड़ोदरा से पदयात्रा कर उदयपुर पहुंचे

By: madhulika singh

Published: 26 Jun 2020, 04:13 PM IST

उदयपुर. जो व्यक्ति 12 साल तक कैंसर से जूझ रहा था, जो 50 कदम चलने पर ही लडख़ड़ा कर गिर जाता था, वह एक दिन देश और दुनिया को पैदल नापने निकलेगा, यह कोई सपने में नहीं सोच सकता था। लेकिन, इस असंभव को संभव कर दिखाया है वड़ोदरा के योगेन शाह ने। योगेन 40 हजार किमी. की पद यात्रा कर लोगों को बताएंगे कि जिस तरह से उन्होंने कैं सर और दवाओं से आजादी पाई है, दुनिया भी इन चीजों से आजाद हो जाए। स्वास्थ्यवर्धक चीजें खाएं और अपना, दूसरों का व पर्यावरण का भला सोचें। गुरूवार को योगेन अपने पहली चरण की यात्रा के तहत उदयपुर पहुंचे थे।

5 साल में पदयात्रा पूरी करने का लक्ष्य

योगेन ने बताया कि वे वड़ोदरा में शिक्षक हैं। उन्होंने अपनी पदयात्रा 15 जून को शुरू की थी। यह उनकी पदयात्रा का पहला चरण है जिसमें वे 1500 किमी. की यात्रा करेंगे। इसमें उन्होंने बड़ौदा, चंडीगढ़ और दिल्ली का रूट लिया है। अभी वे प्रतिदिन 25 किमी. चल रहे हैं। उन्हें 40 हजार किमी. की यात्रा पूरी करने में कम से कम 5 साल लगेंगे। पहले वे भारत में ही यात्रा करेंगे। इसके बाद विदेश यात्रा करेंगे जिसमें करेंगे। अपनी यात्रा के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए पूरी सुरक्षा रखते हैं। हर दिन अपना तापमान चैक करते हैं, लोगों से दूरी बनाकर ही मिलते हैं और घरों में जाने से बचते हैं।


12 साल तक लड़ी बीमारी से जंग

योगेन ने बताया कि जब वे वर्ष 2002 में यूके में थे तब उन्हें आंक्यालोसिंग स्पॉन्डिलाइटिस बीमारी का पता चला जो एक तरह का कैंसर ही थी। तब उन्होंने 6 साल यूके में और फिर 6 साल भारत में इलाज कराया। डॉक्टर्र्स ने ठीक होने की आशा छोड़ दी थी और दवाओं के ही भरोसे रखा था। लेकिन, वे अपनी जीवनशैली में बदलाव लाए। योगा, प्राणायाम शुरू किया, प्रोसेस्ड फूड कोल्ड ड्रिंक्स खाना बिल्कुल बंद कर दिया। केवल उबला खाना और कच्चा खाना जिसमें वे फल लेते हैं, वो शुरू किया जिससे उन्हें बीमारी से लडऩे में बहुत मदद मिली। धीरे-धीरे साइकलिंग, स्वीमिंग, मेडिटेशन भी शुरू कर दिया और दवाइयां खानी कम कर दी। अब एक साल से ज्यादा हो गया जब दवाओं से उन्होंने खुद को आजाद कर दिया है। आजादी का यही संदेश वे देश और दुनिया को देना चाहते हैं। वे बीमारी मुक्त दुनिया चाहते हैं।

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned