ट्रैक्टर लेकर आए, पुलिस ने रोका, फिर दी स्वीकृति, नियमों की उड़ाई धज्जियां

यूथ कांग्रेस की रैली, बिना स्वीकृति रैली, ऐनवक्त पर दी मंजूरी

By: Mukesh Kumar Hinger

Updated: 22 Oct 2020, 10:57 AM IST

उदयपुर. किसान बिल के विरोध में बुधवार को उदयपुर में ट्रैक्टर रैली निकली लेकिन इससे पहले रैली को लेकर प्रशासन और आयोजकों में तकरार की स्थिति बन गई। असल में जिले में धारा 144 से लेकर कोविड-19 की गाइड लाइन लागू थी और ऐसे में भीड़भाड़ को लेकर पुलिस ने टै्रक्टर रुकवा दिए। बात आगे बढ़ी तो बाद में कुछ प्रतिनिधि जिला कलक्टरी गई और पूरी बातचीत हुई और प्रशासन ने 50 टै्रक्टर की स्वीकृति दी। इसके बाद निकली रैली में नारेबाजी करते हुए भीड़ आगे बढ़ी। सोशल डिस्टेंस की पालना का दावा करने वाले सब भूल गए थे।
सुबह से ही शहर में अलग-अलग दिशाओं में टै्रक्टर आने लगे और पुलिस भी हर चौराहा पर तैनात थी। पुलिस ने कई जगह टै्रक्टर रुकवा दिए और अनुमति पत्र मांगा लेकिन आयोजकों के पास नहीं था। शहर के रामपुरा चौराहा, बडग़ांव, सलूंबर रोड सहित अलग-अलग जगह से टै्रक्टर आ रहे थे। रामपुरा चौराहा पर यूथ कांग्रेस के जिलाध्यक्ष हिमांशु चौधरी दूसरे रास्ते से टै्रक्टर लेकर आ गए, बाद में उनको राड़ाजी चौराहा पर रोक दिया गया, बाद में चौधरी चेतक पहुंच ही गए। इस बीच कुछ प्रतिनिधि कलक्टरी पहुंचे और पूरी स्थिति प्रशासन को बताई। उन्होंने तर्क दिए कि पूरी पालना के साथ रैली निकालेंगे बाद में प्रशासन ने 50 टै्रक्टर की स्वीकृति दी। टै्रक्टर रैली में नारेबाजी करते हुए पदाधिकारी व कार्यकर्ता चेतक सर्कल से रवाना हुए, रैली हाथीपोल, अश्विनी बाजार, देहलीगेट होकर कलक्टरी पहुंची। वहां पर राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया और सभा हुई। सभा को कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्य रघुवीर सिंह मीणा, यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीवी श्रीनिवासन, राष्ट्रीय महासचिव व राजस्थान प्रभारी अब्राहम रॉय मनी, राष्ट्रीय सचिव पलक वर्मा, सह प्रभारी मंजू तोंगड़, पूर्व मंत्री डा. मांगीलाल गरासिया, प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोघरा आदि ने संबोधित किया। इस दौरान कांग्रेस नेता लालसिंह झाला, गोपाल शर्मा, विवेक कटारा, यूथ कांग्रेस शहर अध्यक्ष रवि सुखवाल, प्रदेश प्रभारी विकास श्रीवास्तव, मोहित नायक आदि उपस्थित थे। इस कार्यक्रम में खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना का कार्यक्रम प्रस्तावित था लेकिन वे नहीं आए।

सोशल डिस्टेंस तो भूल गए
रैली स्थल से लेकर कलक्टरी तक सोशल डिस्टेंस तो भूल ही गए थे। रैली में बिना मास्क और बिना दो गज दूरी के कार्यकर्ता नारेबाजी करते चल रहे थे। यही तस्वीर कलक्टरी के बाहर की थी। लागू धारा 144 से लेकर सोशल डिस्टेंस की खुलकर धज्जियां उड़ी। इस दौरान पुलिस अधिकारी व पुलिस बल साथ चल रहा था।

इनका कहना है...
किसानों का गुस्सा था। रैली पहले तय थी, पुलिस ने अनुमति की बात कही तो किसानों के प्रतिनिधिमंडल को स्वीकृति प्रशासन से मिल गई थी।
- हिमांशु चौधरी, अध्यक्ष यूथ कांग्रेस

Mukesh Kumar Hinger Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned