उदयपुर के लिए ऐसे बनेगा जोनल डवलपमेंट प्लान, इतने दिनों में काम होगा पूरा, पढ़े यह​ खास रिपोर्ट

उदयपुर के लिए ऐसे बनेगा जोनल डवलपमेंट प्लान, इतने दिनों में काम होगा पूरा, पढ़े यह​ खास रिपोर्ट

Mukesh Hingar | Publish: May, 01 2019 11:12:18 AM (IST) | Updated: May, 01 2019 11:12:19 AM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

प्रदेश में तेजी से हो रहे शहरीकरण के साथ ही शहरों में आधारभूत सुविधाओं को लेकर समस्याओं और चुनौतियां बढ़ गई है। सरकार ने इनसे बचने के लिए भविष्य में शहरों के सुनियोजित विकास के लिए जोनल डवलपमेंट प्लान बनाने का मानस बनाया है।

मुकेश हिंगड़/उदयपुर . उदयपुर जोनल डवलपमेंट प्लान के लिए यूआईटी, आवास एवं स्वायत्त शासन विभाग ने निकायों को कार्य योजना भेजी है। इसके अनुरूप 275 दिन में प्रत्येक निकाय को जोनल प्लान तैयार करना होगा। प्लान बनाते समय ध्यान रखना होगा कि पत्रिका समूह के प्रधान संपादक गुलाब कोठारी बनाम राज्य सरकार के मामले में हाईकोर्ट के फैसले में दिए निर्देशों की पालना हो। सरकार ने कहा कि जोनल प्लान बनाने के लिए पहले ही निर्देशित किया जा चुका था। सभी निकायों से लागू मास्टर प्लान में सम्मिलित नगरीय व कृषि भूमि का जोनल डवलपमेंट प्लान तैयार करने को कहा है।

आधारभूत सुविधाएं :
शैक्षणिक सुविधाएं : प्राथमिक, उप्रावि, माध्यमिक, उमावि व निशक्तजन स्कूल
स्वास्थ्य सुविधाएं : छोटे-बड़े अस्पताल, नर्सिंग होम, उप स्वास्थ्य भवन
सामाजिक सुविधाएं : आंगनवाड़ी, शिशु गृह, सामुदायिक भवन, बारातघर, पुस्तकालय, धार्मिक स्थल, कब्रिस्तान, श्मशान
मनोरंजन की सुविधाएं : पार्क व प्ले ग्राउण्ड
वितरण सुविधाएं : पेट्रोल, डीजल, सीएनजी फिलिंग स्टेशन, एलपीजी गैस गोदाम
सुरक्षा सुविधाएं : पुलिस चौकी, पुलिस स्टेशन,
टैफिक पुलिस नियंत्रण कक्ष, फायर स्टेशन।
अन्य सुविधाएं : विशिष्ट बाजार, ट्रांसपोर्ट सुविधाएं, पार्किंग, ग्रिड सब स्टेशन, जलापूर्ति स्थल, सीवरेज पंप स्टेशन आदि
आर्थिक संरचना : स्थानीय बाजार, सर्विस सेंटर, साप्ताहिक बाजार, वेंडिग जोन, दुग्ध वितरण केन्द्र, डेयरी बूथ व फुटकर व्यापार केन्द्र

शहरीकरण में ये हैं चुनौतियां
यातायात फैलाव : उदयपुर शहर में जगह-जगह जाम की स्थिति रहती है। पार्किंग स्थलों की कमी एवं भवन निर्माण अनुमति के अनुरूप घरों में पार्किंग स्पेस नहीं बनने से समस्या बढ़ी है।
मूलभूत सुविधाओं का अभाव : नव विकसित कॉलोनियों से विकास का पैसा तो ले लिया जाता है लेकिन विकास नहीं हो रहा है। इन क्षेत्रों में पानी, बिजली, सडक़, नालियों जैसी मूलभूत सुविधाओं की जरूरत है।
आवासों की कमी : आशियाने का सपना देखने वालों की संख्या ज्यादा है लेकिन उनको खुद का घर नसीब नहीं हो रहा है।
पर्यावरण संकट : शहर में ऑक्सीजन पॉकेट खत्म हो रहे हैं। गली- कॉलोनियों में घरों के बाहर हरियाली मिलती थी लेकिन आज पेड़- पौधे नहीं है।


फुटपाथ व साइकिल टे्रक जरूरी
सरकार ने कहा कि किसी भी सेक्टर की योजना तैयार करते समय इस बात का पूरा ख्याल रखें कि वहां पर फुटपाथ व साइकिल ट्रेक भी बनाए जाएं जिसके लिए मापदंड तक तय किए गए हैं।


प्लान में ये विशेषताएं दर्शाना अनिवार्य
भौतिक व प्राकृतिक : सडक़ें, रेलवे लाइन, नहरें, नदी-नाले, जलाशय, वन क्षेत्र, जलाशय आदि
सार्वजनिक उपयोगिता : एचटी लाइन, एलटी लाइन, गैस लाइन, टेलीफोन व जलापूर्ति लाइन आदि
नक्शे : राजकीय भूमि, नगरीय निकाय की भूमि, चरागाह भूमि आदि सहित जोन में अवस्थित सभी प्रमुख लैण्डमार्क
जोनल बेसमेप : जोन में स्थित सभी अकृर्षि सम्पत्ति का अंकन, विद्यमान भू उपयोग के साथ किया जाना आवश्यक है।


जोनल प्लान बनाएंगे
इस पर काम तो पहले से चल रहा था। अभी सरकार के नए निर्देश आए हैं, उसके तहत जोनल प्लान तैयार किया जाएगा। तय समय में प्रक्रिया पूरी कर प्लान सरकार के समक्ष अनुमोदन के लिए भेज देंगे। - उज्ज्वल राठौड़, सचिव-नगर विकास प्रन्यास उदयपुर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned