गायों की कब्रगाह बन रही यह गोशाला

निगम की कपिला गोशाला में 10 गाय और मरी, पशु विभाग जेडी व टीम ने बीमार गायों को जांचा, अब महू से आएंगे विशेषज्ञ

By: Gopal Bajpai

Published: 19 Jan 2019, 07:00 AM IST

उज्जैन। नगर निगम की कपिला गोशाला में शुक्रवार को १० गाय और मर गई। बीमार अवस्था वाली इन गायों ने मध्य रात में दम तोड़ दिया, सुबह इसकी जानकारी लगने पर पशु चिकित्सा सेवाएं विभाग संयुक्त संचालक सहित पशु चिकित्सकों की टीम गोशाला पहुंचीं। टीम ने मौके पर बीमार गायों की जांच की और मृत गायों के शव पीएम के लिए भिजवाए। गोशाला में गायों के मरने का सिलसिला बदस्तूर जारी रहने से निगम अमला खासा चिंतित है। भरी ठंड में क्षमता से ढाई गुना गाय यहां होने व समुचित देखभाल नहीं होने से गायें मर रही हैं। बता दें, गुरुवार को भी गोशाला में ७ गाय मर गई थीं। इधर इन अव्यवस्थाओं को लेकर निगमायुक्त ने गोशाला प्रभारी व अस्थायी कर्मी मनीष शिंदे को सेवा से बर्खास्त कर दिया।
बुधवार को १२ गायों की मौत पर महापौर मीना जोनवाल का अपने ही अमले के खिलाफ गोशाला में धरना देने के बाद से यहां गायों की मौत का सिलसिला जारी है। तीन दिन में कुल २९ गायों की मृत्यु हो चुकी है। शेड के अभाव में खुले में रखी जा रही गाय बीमार होकर दम तोड़ रही हैं। शुक्रवार को जो गायें मरीं इनके कारणों का पता पीएम रिपोर्ट आने के बाद चल सकेगा। पशु चिकित्सा सेवा विभाग के संयुक्त संचालक डॉ. नरेंद्र बामनिया, डॉ. हरीवल्लभ त्रिवेदी, डॉ. पवन माहेश्वरी आदि ने पॉली क्लिनक स्टाफ के साथ गोशाला का निरीक्षण किया। बीमार गायों को जांचा और कुछ को अस्पताल भेजने की सलाह दी।
बड़ों की जंग में छोटे कर्मी पर गाज
गोशाला में पनपी अव्यवस्था व महापौर-निगमायुक्त के बीच हुई खटपट में एक छोटे कर्मी की नौकरी चली गई। निगमायुक्त ने शुक्रवार को गोशाला प्रभारी अस्थायी कर्मी मनीष शिंदे को सेवा से बर्खास्त कर दिया। जबकि मनीष को २६ दिसंबर २०१८ को ही गोशाला में तैनात किया गया था। भोपाल स्तर तक मामले की गूंज होने के बाद निगम प्रशासन को कार्रवाई करना ही थी, इसलिए छोटे कर्मी को मोहरा बना दिया गया। इधर निगम प्रशासन गोशाला में नया शेड निर्माण पूर्ण नहीं करा पा रहा। इससे जितने दिन ठंड रहेगी गायों के मरने की और आशंका रहेगी।
विभाग ने पशु पालन मंत्रालय को गई रिपोर्ट
गोशाला में गायों की मौत पर पशु चिकित्सा सेवाएं विभाग ने पशु पालन मंत्रालय भोपाल को भी प्रकरण से जुड़ी रिपोर्ट भेजी है, जिसमें गायों के मरने की वजह, पीएम रिपोर्ट का सार, गोशाला में व्याप्त समस्या आदि का उल्लेख है। ये रिपोर्ट संभागायुक्त को भी प्रस्तुत हुई है, ताकी यहां जरूरी इंतजाम किए जा सके।
महू कॉलेज से आएगी टीम, करेगी गायों की जांच
पशु चिकित्सा विभाग ने गायों की लगातार मौत पर महू स्थित पशु चिकित्सा एवं विज्ञान महाविद्यालय को भी सूचित किया है। एक साथ इतनी गायों के मरने पर अब वहां के विशेषज्ञ कपिला गोशाला आकर जांच करेंगे कि एेसा क्यों हो रहा है। एक-दो दिन में इस टीम के पहुंचने की संभावना है।

Gopal Bajpai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned