एनएसयूआई के ज्ञापन से भड़के एबीवीपी कार्यकर्ता, कैम्पस में बहा खून

एनएसयूआई के ज्ञापन से भड़के एबीवीपी कार्यकर्ता, कैम्पस में बहा खून

Gopal Bajpai | Publish: Aug, 12 2018 12:04:47 PM (IST) Ujjain, Madhya Pradesh, India

हंगामा : अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन के कार्यकर्ता आमने-सामने, ज्ञापनबाजी को लेकर माधव साइंस कॉलेज में चाकूबाजी, दोनों पक्ष से चार घायल, कार्रवाई के लिए अभाविप का चक्काजाम

उज्जैन. नए सत्र की शुरुआत से पहले ही कॉलेजों में विवाद और हंगामे शुरू हो गए हैं। माधव साइंस कॉलेज में शनिवार को ज्ञापन को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन के कार्यकर्ता आमने-सामने हो गए और जमकर मारपीट हुई। घटना में एक-दूसरे पर चाकू और डंडे तक से हमला हुआ। एबीवीपी के जयसिंह उमठ और अंकित जाटवा घायल हो गए। इसके हाथ में चोट लगी है।

दूसरी तरफ एनएसयूआई के बंटी मालवीय और अखिलेश आस्ते घायल होकर अस्पताल पहुंच गए। इधर, घटना के विरोध में थाने पहुंचे एबीवीपी संगठन मंत्री प्रवीण शर्मा ने नया विवाद कर दिया। कॉलेज में विवाद की सूचना मिलने पर करणी सेना का पदाधिकारी शिवराज चंद्रावत थाने पर जानकारी लेने पहुंचा था। शिवराज को देख संगठन मंत्री ने गुस्से में आ गए। खुद के साथ भीड़ और शिवराज को अकेला पाकर थाने में ही चांटा जड़ दिया। इस घटना की सूचना मिलते ही करणी सेना के अध्यक्ष जीवन सिंह सहित अन्य कार्यकर्ता थाने पहुंच गए और जमकर हंगामा किया। इसके बाद प्रवीण के खिलाफ शिकायत दर्ज कर ली गई। पुलिस ने भी अभी दोनों पक्षों के बयान लिए हैं। एएसपी नीरज पांडे ने बताया कि अभी जांच की जा रही है। इसके बाद प्रकरण दर्ज करेंगे।

एनएसयूआइ का आरोप
एनएयूआइ के बबलू खिंची का कहना है कि हम सीट वृद्धि के लिए ज्ञापन देने के लिए पहुंचे। तो एबीवीपी के पदाधिकारी ने विरोध किया। उनका कहना था कि तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई यहां आने की। ज्ञापन दे दिया। अब चलो जाओं यहां से। इसके बाद वह हमसे भिडऩे लगे और दोनों पक्षों में हथापाई हो गई।

एबीवीपी का आरोप

एबीवीपी के महानगर मंत्री हिमांशु रावल का कहना है कि एनएयूआइ वाले ज्ञापन देने के लिए आए। इन्होंने प्राचार्य और शिक्षकों के साथ अभद्रता की। हमने उन्हें रोका। तो उन्होंने हम पर भी हमले कर दिए। उनके पास डंडे और हथियार थे।

पहले था बाहरी, अब एबीवीपी पदाधिकारी
माधव कॉलेज में कुछ माह पूर्व भीम सेना के कार्यकर्ता के साथ मारपीट हुई थी। घटना के बाद अजाक्स थाने में एफआइआर के लिए घंटों प्रदर्शन हुआ। इस घटना में अंकित जाटवा का नाम आया था। तब एबीवीपी का कहना था कि अंकित व घटना से उनका कोई लेना देना नहीं। अब एबीवीपी का कहना है कि अंकित का एडमिशन हो गया है। उसने एबीवीपी ज्वाइन कर ली। बता दें, भीम सेना व अन्य आरक्षित वर्ग के संगठन कॉलेज की समस्या व स्कॉलरशिप के लिए ज्ञापन देने पहुंची थे। तब भी मारपीट करने वालों पर ज्ञापन देने से रोकने का आरोप लगा था। इस दौरान कॉलेज की तरफ से अधिकृत रूप से विवाद से जुड़े लोगों को बाहरी बताया गया था।

प्राचार्य बोले- मेरे कक्ष में नहीं हुई घटना
माधव साइंस कॉलेज के प्राचार्य अर्पण भारद्वाज का कहना है कि मेरे कक्ष में कोई घटना नहीं हुई। किसी ने ज्ञापन नहीं फाड़ा और न ही किसी ने अभद्रता की।

चक्काजाम कर दिया

कॉलेज में हुए छात्रों के विवाद के बाद कार्रवाई की मांग को लेकर एबीवीपी ने रात करीब 10 बजे चामुण्डा माता चौराहे पर चक्काजाम कर दिया। करीब डेढ़ घंटे तक चौराहे पर जाम लगा रहा। इसके बाद कुछ पुलिसकर्मी पहुंचे और आपस में चर्चा करते रहे। दूसरी तरफ कार्यकर्ताओं का हंगामा जारी रहा। एबीवीपी के समर्थन में भारतीय जनता युवा मोर्चा और भाजपा के नेता भी पहुंच गए। हंगामे के बाद एएसपी नीरज पांडे मौके पर पहुंचे और कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद चक्काजाम खुल गया। वहीं एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष अंबर माथुर ने कहा कि एबीवीपी वालों ने तोडफ़ोड़ कर खुद को घायल कर लिया। सीसीटीवी फुटेज में पूरी घटना साफ दिखाई दे जाएगी।

 

Ad Block is Banned