आखिर क्यों किसानों ने काट दिया बवाल

कालीसिंध नदी पर बन रहे बैराज के डूब में आने वाली जमीनों का मुआवजा नहीं मिलने पर किसानों ने शनिवार को निर्माण रोको नहीं तो आंदोलन के नारे लगाए।

By: Ashish Sikarwar

Published: 08 Dec 2019, 10:00 AM IST

इंदौख. कालीसिंध नदी पर बन रहे बैराज के डूब में आने वाली जमीनों का मुआवजा नहीं मिलने पर किसानों ने शनिवार को निर्माण रोको नहीं तो आंदोलन के नारे लगाए।
महिदपुर तहसील के अंतिम छोर पर इंदौख व छोटी कालीसिंध पर बनाए जा रहे बांध का निर्माण रोकने के लिए इंदौख, बनसिंग, पाताखेड़ी क्षेत्र के किसान बैराज निर्माण स्थल पहुंचे और काम रोकने हेतु वहां उपस्थित सिंचाई विभाग के अधिकारी व ठेकेदारों को आवेदन देकर अनुरोध किया है कि आप शीघ्र निर्माण रुके, जब तक हमारा मुआवजा नहीं मिलता है। किसानों ने मांग की कि जब तक हमारे कृषि भूमि का मुआवजा नहीं मिले निर्माण कार्य नहीं करें, अन्यथा आगे और भी आंदोलित कदम उठाएंगे। किसानों ने आरोप लगाया है कि जनप्रतिनिधि भी हमारी समस्या की ओर नहीं देख रहे हैं। लाखों नहीं करोड़ों रुपए की कृषि भूमि इस बैराज के डूब क्षेत्र है। रजिस्ट्री भी हमने शासन व संबंधित विभाग को कर दी गई है लेकिन हमें हमारा हक काम अभी तक नहीं मिला है। कहीं ना कहीं हमारे साथ सौतेला व्यवहार है। हमने कमिश्नर उज्जैन, कलेक्टर उज्जैन, महिदपुर अनुभाग अधिकारी सहित सिंचाई विभाग के आला अधिकारियों को भी इस संबंध में अवगत करवा चुके हैं। आज बांबे राजस्थान पर पहुंचकर इन किसानों ने आंदोलन का रास्ता तैयार करने पर मजबूर होना पड़ रहा है। इस मौके पर ग्राम पंचायत सरपंच ओमप्रकाश शर्मा, श्यामसिंह चौहान, बन सिंह, प्रहलाद सिंह पटेल, भगवान सिंह तंवर, रामसिंह, गुमान सिंह, शंकर सिंह, कालू सिंह, सुजानसिंह विलाल, तफानसिंह, दुलेसिंह, नरवर सिंह, नैन सिंह सहित तीनों ग्रामों के किसानों ने आवेदन देकर तुरंत निर्माण कार्य रोकने की मांग की है और कहा कि जब तक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी पूर्णता आश्वासन नहीं दें कब तक उक्त बैराज का निर्माण कार्य रोका जाएगा।
इस संबंध में बांध पर स्थित किसानों से चर्चा की गई तो उनका कहना है निर्माण कार्य तेज गति से प्रारंभ है अगर हमारा मुआवजा राशि नहीं तब तक निर्माण कर रोकने का निवेदन किया है। अन्यथा हमें धरना आंदोलन करने पर बाध्य होना पड़ेगा। जब सिंचाई विभाग के वरिष्ठ कार्यपालन यंत्री टीके परमार से चर्चा की तो उनके द्वारा कहा गया कि आज सभी किसान बैराज स्थल पर पहुंचे थे, जो निर्माण रोकने का निवेदन कर रहे थे। हमने उनको समझाने की कोशिश की। दिसंबर में पूरक बजट में मुआवजे की राशि उनके खाते में डल जाएगी लेकिन संतोष रखना पड़ेगा।
मामला मेरी जानकारी में आया है। मैंने तहसीलदार व अन्य अधिकारी को कालीसिंध बैराज स्थल पर किसानों से चर्चा करने के लिए भेजा है। साथ जिलास्तर के अधिकारियों से भी चर्चा कर रहा हूं। शीघ्र कुछ हल निकले यह प्रयास रहेगा।
अभिलाष मिश्रा, एसडीएम महिदपुर
एसडीओ सिंचाई विभाग कमल कंवल से दूरभाष पर चर्चा हुई उनके द्वारा कहा कि किसानों से सतत संपर्क में हैं। उनसे चर्चा है कल बैराज स्थल पर पहुंचकर किसानों से चर्चा की जाएगी।

Show More
Ashish Sikarwar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned