आखिर विधायक नाराज होकर क्यों लौट गए!

आखिर विधायक नाराज होकर क्यों लौट गए!

Lalit Saxena | Publish: Feb, 15 2018 08:03:04 AM (IST) Ujjain, Madhya Pradesh, India

महाकाल मंदिर की व्यवस्था बिगड़ी, सुबह ९ बजे से ही गेट बंद कर दिए, भस्म आरती में वीआईपी और पुलिस वालों का कब्जा, अफसर श्रद्धालुओं को छोड़कर वीआईपी की सेवा में जुटे रहे

उज्जैन. महाशिवरात्रि पर्व के दूसरे दिन महाकाल मंदिर में अव्यवस्था फैल गई। दोपहर की भस्म आरती में जरूरत से ज्यादा पास बांट दिए गए। इससे मंदिर के मुख्य गेट से नंदी हॉल तक अफरा-तफरी के हालत रहे। सपरिवार पहुंचे तराना विधायक अनिल फिरोजिया अव्यवस्थाओं से नाराज होकर लौट गए। वहीं आम श्रद्धालु प्रवेश के लिए पुलिस के आगे गिड़गिड़ाते रहे। प्रवेश मार्गों पर धक्कामुक्की तो विवाद की नौबत बनती रही। पुलिस की सख्ती से बच्चे रो पड़े तो बुजुर्ग परेशान होते रहे। नंदीगृह में भी वीआईपी और पुलिस के कब्जे था। जिन लोगों ने एक दिन पहले भस्म आरती अनुमति ली उन्हें प्रवेश तक नहीं मिला। वहीं अफसर व्यवस्थाएं बनाने की बजाय वीआईपी की आवभगत में जुटे रहे।
चार घंटे पहले ९ बजे मंदिर के गेट बंद
महाकाल के पुष्प मुकुट दर्शन चल रहे थे कि सुबह ९ बजे ही मंदिर के सभी गेट पर ताले लगा दिए। इससे अफरा-तफरी रही। मंदिर प्रभाव-दबाव वाले तो जोड़तोड़ कर प्रवेश करने में कामयाब हुए। आम श्रद्धालु प्रत्येक गेट पर प्रवेश के लिए जद्दोजहद करते रहे। इस दौरान गेट पर विवाद की स्थिति निर्मित हुई, लेकिन पुलिस ने किसी की नहीं सुनी।
आपाधापी से रो पड़ी महिलाएं-बच्चे
मंदिर के सभी गेट बंद करने के क्रम में उस गेट को भी बंद कर दिया गया, जिससे भस्मआरती अनुमति धारकों को प्रवेश दिया जाना था। भस्म आरती गेट जैसे ही खोला गया भीतर जाने के लिए आपाधापी मच गई। जिसके पास अनुमति नहीं थी वे भी प्रवेश करना चाहते थ। इसको लेकर धक्का-मुक्की और खूब विवाद हुए। स्थिति यह थी विवाद के चलते बच्चें और महिलाएं रोने लगी। बुजुर्ग तक प्रवेश के लिए गिड़गिड़ाते रहे लेकिन अंदर नहीं जाने दिया।
सुरक्षा ताक पर, गर्भगृह में ली सेल्फी
महाकाल मंदिर की सुरक्षा के लिए मोबाइल ले जाने पूर्णत: प्रतिबंध है। भस्म आरती में पहुंचने वाले वीआईपी व अन्य श्रद्धालु मोबाइल लेकर पहुंचे। श्रद्धालुओं ने मोबाइल से रिकार्डिंग की तो सेल्फी भी ली ।
दो तरह के प्रवेश कार्ड, फिर भी अव्यवस्था
व्यवस्था बनाने के लिए मदिर समिति ने दो तरह की अनुमति पास जारी किए थे। एक सामान्य रोजमर्रा की तरह सादे कागज पर प्रिंटेड और दूसरी अनुमति कार्ड थे, जो गले में टांगने के थे। इसके बाद भी अव्यवस्था फैली और अनुमति धारकों को प्रवेश तक नहीं मिला।
नाराज विधायक बोले- ऐसी रहती है व्यवस्था...
मंदिर में श्रद्धालुओं के प्रवेश, गणेश मंडपम और नंदी हॉल में अव्यवस्था से तराना विधायक अनिल फिरोजिया नाराज हो गए। सपरिवार मंदिर पहुंचे विधायक फिरोजिया को परेशानी का सामना करना पड़ा। बगैर दर्शन कर जब वे लौटने लगे तो मंदिर प्रशासक अवधेश शर्मा, सहायक प्रशासनिक अधिकारी एसपी दीक्षित विधायक को मनाने पहुंचे। हालांकि वे नहीं माने और बोले कि ऐसी व्यवस्था रहती है। हालांकि बाद में वे नैवेद्य द्वार तक गए और प्रणाम कर यह कहते हुए बाहर चल दिए कि उनको दर्शन करना थे कर लिए, अब कोई काम नहीं है। वे नंदीगृह में जाने को तैयार नहीं हुए और पत्नी,बच्चों को लेकर प्रवचन हॉल के रास्ते बाहर चले गए।
मेनन पर नाराज हो गई महिला
भाजपा नेता अरविंद मेनन ने नैवेद्य द्वार से किया प्रवेश।
भाजपा के पूर्व प्रदेश संगठन मंत्री अरविंद मेनन ने नंदी हॉल के लिए नैवेद्य द्वार से प्रवेश कराया गया। मेनन को नंदीगृह में पीछे की ओर स्थान मिला, वे तीन बार उठ आगे बढ़ते रहे। यह देख एक महिला ने नाराज होकर कहा भाईसाहब आप हो कौन एक जगह बैठते क्यों नहीं।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned