मरने से पहले स्कूल संचालिका ने पति और भतीजी को फोन पर क्या कहा

पारिवारिक विवाद में स्कूल संचालिका ने की आत्महत्या

By: Gopal Bajpai

Published: 25 Apr 2018, 08:30 AM IST

उज्जैन. पति-पत्नी के विवाद में स्कूल संचालिका ने सोमवार शाम घर में सल्फास की गोलियां खाकर पति को फोन लगाया और कहा कि अपना ध्यान रखना। इसके बाद पति को शक हुआ तो वे दोस्त के साथ इंदिरानगर स्थित घर पहुंचे तो पत्नी अचेत अवस्था में पड़ी थी। जिसे जिला अस्पताल में भर्ती किया गया, जहां उपचार के दौरान देर रात उनकी मौत हो गई। सुबह चिमनगंज मंडी थाना पुलिस ने शव का पीएम करवाकर परिजनों को सौंपा है।
चिमनगंज मंडी एसआई मनीष दुबे के अनुसार पड़ोसियों से फिलहाल पति और पत्नी के बीच विवाद की जानकारी लगी है, वहीं मामले में मृतका के पति के बयान लिए जाएंगे, इसके बाद ही कार्रवाई होगी। एसआई दुबे ने बताया सेठीनगर में विध्यांचल अकेडमी के नाम से स्कूल संचालित करने वाली रेखा (४५) पति बजरंगसिंह गौर निवासी इंदिरा नगर ने सोमवार शाम को घर में सल्फास की गोलियां खा ली। उन्हें पति बजरंगसिंह ने जिला अस्पताल में भर्ती किया था, जहां उपचार के दौरान मौत हो गई। दुबे ने बताया कि प्रथम दृष्टया जांच में सल्फास की गोलियां खाना बताई जा रही है, वहीं पड़ोसियों से पूछताछ में सामने आया कि पति और पत्नी के बीच अक्सर विवाद की स्थिति बनती थी और रेखा सेठी नगर में विंध्याचल अकेडमी स्कूल संचालित करती हैं, जो १५ दिनों से पति से अलग इंदिरानगर स्थित मकान में रह रही थी, जबकि पति सेठी नगर स्थित मकान में रहते हैं।
पति ने मीडिया को बताया कि तीन माह पूर्व ही पत्नी को एक्टिवा गाड़ी दिलाई थी। पति ने यह भी बताया दोनों को कोई बच्चा नहीं होने से पत्नी अक्सर टेंशन में रहती थी, जिसे लेकर उसने यह कदम उठाया है।

रेखा ने मरने से पहले सबको फोन किया

मरने से पहले रेखा ने पति बजरंगसिंह और १५ वर्षीय भतीजी को फोन कर कहा कि दादी और परिवार का ध्यान रखना अब मैं जा रही हूं। इसके बाद भतीजी ने परिवार वालों को फोन किया इसके पूर्व महिला ने पति बजरंग सिंह को भी फोन कर कहा था कि अपना ध्यान रखना।

Gopal Bajpai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned