अगले तीन दिन रहेगा यात्री बसों का टोटा, 150 बसें रूट पर नहीं दौड़ेंगी

अगले तीन दिन रहेगा यात्री बसों का टोटा, 150 बसें रूट पर नहीं दौड़ेंगी
elections,trouble,Passenger bus,

Lalit Saxena | Publish: May, 17 2019 08:30:00 AM (IST) Ujjain, Ujjain, Madhya Pradesh, India

स्कूल-कॉलेज बसें भी अच्छी संख्या में होने से कुछ रूट पर अधिक दिक्कत नहीं रहेगी, जहां बस कम वहां यात्रियों को वैकल्पिक साधनों को लेना पड़ेगा सहारा

उज्जैन. चुनाव के मद्देनजर जिले के विभन्न रूट पर चलने वाली 150 यात्री बसों को भी अधिगृहित किया गया है। ये बसें 17 मई से अधिग्रहण में ले ली जाएंगी और 19 की देर रात तक मुक्त होगी। यानी अगले तीन दिनों तक शहर में यात्री बसों का टोटा रहेगा। हालांकि कुल अधिग्रहण में स्कूल-कॉलेज व स्पेयर की बसें अधिक होने से कुछ रूट पर स्थिति सामान्य भी रह सकती हैं, लेकिन जिन मार्गों पर बसें कम हैं, वहां की बसें हटने से यात्रियों को परेशानी उठाना पड़ सकती है।

वैकल्पिक साधनों का सहारा

यात्री बसें चुनाव में होने से लोगों को वैकल्पिक साधनों का सहारा लेना पड़ेगा। कहीं मैजिक व अन्य वाहन तो बड़े शहरों के लिए ट्रेनों के सफर का आसरा रहेगा। हालांकि परिवहन विभाग का दावा है कि रूट पर चलने वाली बसों को संतुलन के साथ अधिग्रहण में लिया है। ताकि किसी मार्ग विशेष पर पूरी तरह बसों की किल्लत ना आएं। ये दावा कितना सही है यह तो चुनाव के दिन व उससे एक दिन पहले ही मालूम चलेगा, लेकिन लोगों को चाहिए कि वे बसों से अलग वैकल्पिक साधनों के लिए भी तलाश रखें। अन्यथा ऐनवक्त पर आवाजाही में परेशानी उत्पन्न हो सकती है।

चुनाव ड्यूटी में लगी बसें

किसी चुनाव में पहली बार ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) लैस वाहनों में इवीएम का परिवहन होगा। स्ट्रांग रूम से जारी इवीएम के केंद्र तक पहुंचने व मतदान के बाद वहां से वापस निकलने तक के रास्ते में निगरानी के लिए चुनाव आयोग ने ये व्यवस्था कराई है। लोकसभा निर्वाचन में अधिग्रहित होने वाली 670 बसों में जीपीएस लगाएं जा रहे हैं। इससे मतदान दलों के साथ इवीएम की निगरानी हो सकेगी। गुरुवार को परिवहन अमले ने 500 से अधिक अधिग्रहित बसों को नानाखेड़ा स्टेडियम बुलवा लिया। अलग पेट्रोल पंपों पर इन्हें डीजल भरने के लिए रवाना भी किया। देर रात तक बसों में डीजल भराने की प्रक्रिया चली।

लोकसभा निर्वाचन में मतदान दलों के साथ बस में इवीएम भेजी जाएगी। कौन सी बस कब किस केंद्र पहुंचीं और मतदान बाद वापस कब किस रास्ते से निकली इस पर निगरानी के लिए जीपीएस लगवाए जा रहे हैं। भोपाल से तय एजेंसी इस काम में जुटी है। वहीं जिन बसों में पहले से जीपीएस लगे हैं, उन्हें सिस्टम से जोड़ा जा रहा है। साथ ही प्रत्येक बस पर चलने वाले स्टाफ का मोबाइल नंबर रिकॉर्ड भी जुटाया जा रहा है। गुरुवार को एडीएम आरपी तिवारी, आरटीओ संतोष मालवीय सहित अन्य अधिकारी नानाखेड़ा स्टेडियम पहुंचे और अमले के साथ व्यवस्थाएं तय कराईं। बसों पर नंबरिंग भी की जा रही है, ताकि इन्हें कतारबद्ध करने व दलों को इनमें बैठने में सुविधा रहे।

...और इधर डीजल भराने के लिए लगी कतार
मुनि नगर तालाब के समीप स्थित फिलिंग स्टेशन पर अधिगृहित बसों में डीजल भराने के लिए कतार लग गई। बीच सड़क बसों की लंबी लाइन से एक तरफ का यातायात भी जाम चला। तैनात स्टाफ ने एक-एक कर इन बसों में सरकारी खर्च पर डीजल भरवाया। बस मालिकों को आयोग द्वारा तय किराए का भुगतान भी चुनाव बाद किया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned