महाकाल आ रहे हैं तो यह जरूर पढ़ें, क्योंकि बदल गई है दर्शन व्यवस्था

Gopal Bajpai

Publish: Nov, 15 2017 11:44:43 (IST)

Ujjain, Madhya Pradesh, India
महाकाल आ रहे हैं तो यह जरूर पढ़ें, क्योंकि बदल गई है दर्शन व्यवस्था

मंदिर में सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए प्रशासक ने दर्शन के लिए कुछ नियम तय किए हैं। ये नियम मंगलवार को तत्काल प्रभाव से लागू कर दिए गए।

उज्जैन. श्री महाकालेश्वर मंदिर में सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए मंदिर प्रशासक ने दर्शन करने के लिए कुछ नियम तय किए हैं। ये नियम मंगलवार को तत्काल प्रभाव से लागू कर दिए गए। मंदिर में श्रद्धालुओं की संख्या को बढ़ता देख प्रशासक प्रदीप सोनी ने मंदिर परिसर का निरीक्षण किया। जिसके बाद शीघ्र दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं को विशेष दर्शन पास काउंटर से पास परिचय पत्र देखकर देने के निर्देश जारी किए। इसी प्रकार शीघ्र दर्शन काउंटर के कर्मचारी को निर्देश दिए कि वह 250 रुपए के विशेष दर्शन पास देने के पूर्व संबंधित श्रद्धालु से उनका पहचानपत्र अनिवार्य रूप से देखें और पास पर दर्शनार्थी का नाम, पता, मोबाइल नम्बर एवं पहचान लिखें।

अधिकारियों को निर्देश दिए

सत्कार शाखा में पुलिस चौकी के अधिकारियों एवं डी गेट पर तैनात कर्मचारी और शीघ्र दर्शन काउंटर पर कर्मचारियों को व्यवस्थाओं के संबंध में चर्चा की। प्रशासक सोनी ने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए कि मंदिर के सफल संचालन एवं सुरक्षा को सुदृढ़ करने की दृष्टि से डी गेट से प्रवेश लेने वाले श्रद्धालुओं से पहचान पत्र अनिवार्य रूप से देखना होगा।

भस्मारती ऑफलाइन बुकिंग में भी परिचय पत्र
भस्मारती की ऑफलाइन बुकिंग के समय श्रद्धालु या प्रोटोकॉल में बुकिंग करवा रहे व्यक्तियों को अपना परिचय पत्र की फोटोप्रति उपलब्ध करवाना आवश्यक होगी। बगैर पहचान-पत्र अनुमति किसी को भी न दी जाए।

महाकाल परिसर के अंदर तक पहुंचे वाहन, प्रशासक ने हटवाए
महाकाल मंदिर के सामने और आसपास बेतरतीब वाहन खड़े रखने की समस्या तो पहले से ही थी, अब कई लोग परिसर के अंदर तक वाहन खड़े करने लगे हैं। मंगलवार को मुआयने के दौरान मंदिर प्रशासक को भी पुलिस चौकी के नजदीक परिसर में वाहन खड़े मिले। उन्होंने वाहन हटवाने के साथ ही भविष्य में ऐसी स्थिति पर कार्रवाई की चेतावनी दी है।

परिसर से हटवाए वाहन

मंदिर के आसपास कई लोग मनमाने तरीके से दो-चार पहिया वाहन खड़े कर देते हैं। इससे क्षेत्र की यातायात व्यवस्था तो प्रभावित होती ही है मंदिर के आसपास भी स्थिति खराब होती है। कुछ दिन से लोगों ने मंदिर परिसर के अंदर भी दो पहिया वाहन खड़े करना शुरू कर दिया था। मंदिर प्रशासक प्रदीपकुमार सोनी ने निरीक्षण में जब यह स्थिति देखी तो परिसर से तत्काल वाहन हटवाए। भविष्य में वाहन अंदर न आए, इसके लिए गेट पर ताला लगा दिया गया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned