बंद विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट

विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट तीन दिन से बंद थी। न परिणाम नजर आए और ना ही अधिसूचना दिख रही थी। इससे संभागभर के छात्र परेशान थे। वेबसाइट बंद होने की जानकारी मिली तो हड़कंप मचा गया। इसके बाद इसे जैसे-तैसे प्रारंभ किया गया।

By: Shailesh Vyas

Published: 05 Sep 2019, 10:34 PM IST

उज्जैन. एक तरफ जहां विक्रम विश्वविद्यालय की ओर से परिणामों की घोषणा के साथ प्रवेश प्रक्रिया प्रारंभ की गई है वहीं दूसरी ओर विवि की वेबसाइट ही ठप पड़ी है। ऐसे में विवि परिक्षेत्र के हजारों छात्र परेशान हुए। हड़कंप मचने के बाद देर शाम को वेबसाइट चालू की गई।विक्रम विश्वविद्यालय में समस्याएं खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही है। विवि प्रशासन के कुप्रबंधन का खमियाजा विवि परिक्षेत्र के विद्यार्थियों को भुगतना पड़ रहा है। तीन दिन से विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट ठप थी। इस पर न परिणाम नजर आ रहे और ना ही अधिसूचना दिखाई दे रही है। कोई जानकारी भी नहीं मिल रहीं है। विवि की अधिकृत वेबसाइट पर विवि से संबंधित विभिन्न जानकारी शैक्षणिक विभागों में प्रवेश के आवेदन, विवि की सूचना/अधिसूचना, परीक्षा फॉर्म, पात्रता प्रमाण-पत्र, स्टूडेंट इंफारमेशन सिस्टम के साथ परीक्षा के परिणाम अपलोड किए जाते हैं। विवि द्वारा विभिन्न परीक्षाओं के परिणाम जारी किए जा रहे हैं तो उच्च शिक्षा विभाग के निर्देश पर विक्रम विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों और संस्थानों में संचालित स्नातक, स्नातकोत्तर, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट पाठ्यक्रमों में रिक्त सीटों पर प्रवेश दिया जा रहा है। प्रवेश की प्रक्रिया ऑनलाइन है और इसका विवि की वेबसाइट से सीधा कोई वास्ता नहीं है, लेकिन प्रवेश से संबंधित जानकारी विवि की वेबसाइट पर होती है। वेबसाइट बंद होने से विद्यार्थियों को परेशानी का सामना करना पड़ा।
निजी कंपनी के पास संधारण, संचालन
विवि की अधिकृत वेबसाइट के संचालन और संधारण का जिम्मा एक निजी एजेंसी के पास है और विवि द्वारा एजेंसी को इसका भुगतान भी किया जा रहा है। इसके बाद भी विवि वेबसाइट हैक हो जाती है तो कभी बंद रहती है। बीते तीन दिनों से वेबसाइट बंद है और विवि के जिम्मेदारों ने निजी एजेंसी से इसका कारण जानने की जहमत नहीं उठाई है।
कुकीज और टै्रफिक बढ़ गया था
कुछ तकनीकी समस्या, कुकीज और टै्रफिक बढऩे के कारण वेबसाइट बंद हो रही थी। इस ठीक कर दिया गया है। परिणाम और अन्य जानकारी साइट पर नजर आ रहीं है।
- विष्णु सक्सेना,आइटी प्रभारी विक्रम विवि

Shailesh Vyas Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned