न्यायालय के फैसले से अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद को बड़ी राहत

न्यायालय के फैसले से अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद को बड़ी राहत
court,decision,simhastha,akhara,akhara parishad,juna akhara,

Lalit Saxena | Publish: Jun, 02 2019 07:10:00 AM (IST) Ujjain, Ujjain, Madhya Pradesh, India

अखाड़ा परिषद के कार्यालय, बैठक का संकट दूर हुआ, 12 जून को होगी बैठक।

उज्जैन. न्यायालय के फैसले से अभा अखाड़ा परिषद के कार्यालय, बैठक का संकट दूर हुआ। न्यायालय ने माना कि उक्त स्थान पर जूना अखाड़ा और अखाड़ा परिषद का कब्जा है। इसके बाद 12 जून को अखाड़ा परिषद की बैठक और अन्य प्रस्तावित आयोजन पूर्व निर्धारित योजना के अनुसार होंगे।

कार्यक्रम पर कोई संशय के बादल नहीं रहे

सिंहस्थ आरक्षित भूमि जो कि नीलगंगा पर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की भूमि पर अखाड़ा परिषद के कब्जे को माननीय न्यायालय ने भी मानते हुए श्याम गृह निर्माण संस्था के द्वारा मांगी गई राहत को निरस्त कर दिया है। इसके बाद अब 12 जून को अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की बैठक सहित अन्य कार्यक्रम पर कोई संशय के बादल नहीं रहे हैं। प्रस्तावित कार्यक्रम यथावत रहेंगे। शनिवार को सप्तम एडीजे अनिल कुमार सुहाने द्वारा दिए गए फैसले में श्री पंच दशनाम जूना अखाड़ा और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद को बड़ी राहत मिली है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद और जूना अखाड़ा के अभिभाषक सत्यनारायण व्यास द्वारा प्रस्तुत की गई खरीद की रसीद और बिजली के बिल को भी न्यायालय ने मान्य किया हैं। वहीं श्याम गृह निर्माण संस्था को निर्देशित किया है, कि वह कब्जा धारी अखाड़ा परिषद के कब्जे पर किसी प्रकार का हस्तक्षेप नहीं करेगी। मामले में अगली सुनवाई 27 जून को निर्धारित की गई है।

 

Read More : अभा अखाड़ा परिषद कार्यालय उद्घाटन व बैठक पर छाए संकट के बादल, संस्था पहुंची कोर्ट

 

पूर्व प्रबंधक ने न्यायालय में दिया शपथ पत्र
श्याम गृह निर्माण सहकारी संस्था के पूर्व प्रबंधक गोविंद सिंह कुशवाह ने पंच दशनाम जूना अखाड़ा और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के पक्ष में एक शपथ पत्र माननीय न्यायालय में प्रस्तुत किया है। इसमें उन्होंने स्पष्ट तौर पर लिखा है कि उक्त भूमि को श्याम गृह निर्माण ने अखाड़ा परिषद और जूना अखाडा को विक्रय की थी। उल्लेखनीय है कि श्याम गृह निर्माण सहकारी संस्था में गोविंद सिंह कुशवाह प्रबंधक के पद पर मौजूद थे। उन्होंने ही उस दौरान सारी कार्रवाई तत्कालीन बोर्ड के मार्गदर्शन में पूरी की। कुशवाह का कहना है कि क्योंकि कि उक्त भूमि पर प्राचीन समय से सिंहस्थ के दौरान पेशवाई और अखाड़ों के डेरे का स्थान होने के कारण बोर्ड निर्णय ने कर उक्त भूमि अखाड़ा परिषद और जूना को विक्रय कर दी थी।

गंगा दशहरा पर 11 और 12 जून को दो दिनी महोत्सव

न्यायालय के फैसले के बाद 12 जून को आयोजित होने वाली अखाड़ा परिषद की बैठक व कार्यालय के उद्घाटन पर छाए संकट के बादल छंट गए हैं। गंगा दशहरा पर 11 और 12 जून को दो दिनी महोत्सव आयोजित होगा। इसमें भजन गायक अनूप जलोटा की भजन संध्या होगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned