महाकाल मंदिर : इस बार महाशिवरात्रि पर भी भस्मारती में शामिल नहीं हो सकेंगे भक्त, बैठक में लिये गए ये फैसले

इस बार महाशिवरात्री पर भस्मारती में शामिल नहीं हो सकेंगे भक्त।

By: Faiz

Published: 18 Feb 2021, 06:02 PM IST

उज्जैन/ आगामी 11 मार्च से महाशिवरात्रि पर्व की शुरुआत होने जा रही है। इसे लेकर उज्जैन प्रशासन और महाकाल प्रबंधन की ओर से मंदिर की तैयारियां शुरू कर दी हैं। इस संबंध में गुरुवार को आयोजित बैठक में निर्णय लिया गया कि, महाशिवरात्रि के दिन बोने वाली भस्मारती के दौरान भी श्रद्धालुओं का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। बैठक में महाशिवरात्रि को लेकर कई सुझावों पर भी चर्चा की गई।

 

पढ़ें ये खास खबर- महाकाल मंदिर की प्राचीनता और मजबूती बनाए रखने के लिए CBRI टीम ने की जांच, SC को सौंपेगी सुझाव रिपोर्ट


कलेक्टर आशीष सिंह ने दी जानकारी

मंदिर प्रबंधन और उज्जैन प्रशासन की बैठक के बाद कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया कि, कोरोना काल के बाद से ही फिलहाल भस्मारती के दौरान आम श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगी हुई है, इसीलिए महाशिवरात्रि पर होने वाली भस्मारती में भी इस रोक को जारी रखा जाएगा। उन्होंने ये भी बताया कि, हमें इस बात का ध्यान रखना होगा कि, कोरोना के कारण श्रद्धालुओं को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। वीआईपी, पंडे-पुजारियों और मीडिया के लोगों को दर्शन की अलग से व्यवस्था होगी, ताकि आम श्रद्धालुओं को किसी तरह की अव्यवस्था का सामना न करना पड़े। कलेक्टर सिंह ने बताया कि, शिवरात्रि के स्वरूपों के लेकर भी 22 फरवरी को एक बैंठक होगी, जिसमें अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- भूमाफियाओं पर अबतक की सबसे बड़ी कार्रवाई, 3250 करोड़ की जमीन मुक्त कराई, 1500 हितग्राहियों को मिलेगा लाभ


महाशिवरात्री के दौरान 9 दिनों तक अपने 9 रूपों में दर्शन देंगे महाकाल

ये बात तो सभी जानते हैं कि, महाशिवरात्री के दौरान महाकाल हर दिन अपने अलग अलग नौ रूपों में दर्शन देते हैं। इसी के तहत भोले बाबा को नौ दिनों तक अलग अलग रूपों में सजाया जाता है। अंतिम दिन महाशिवरात्रि को बाबा महाकाल को दूल्हे के रूप में दर्शन देते हैं। माता पार्वती के साथ उनके विवाह को देखने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ती है।

 

पढ़ें ये खास खबर- पत्नी और ससुराल पक्ष की प्रताड़ना से परेशान था न्यायालयीन कर्मचारी! फांसी लगाकर की आत्महत्या

 

नौ दिन के महाकाल के विविध रूप

-3 मार्च को वस्त्र एवं चंदन
-4 मार्च को शेषनाग
-5 मार्च को घटाटाेप
-6 मार्च को छबीना
-7 मार्च को हाेल्कर
-8 मार्च को मनमहेश
-9 मार्च को उमा-महेश (अर्द्धनारीश्वर)
-10 मार्च को शिव तांडव
-11 मार्च को महाशिवरात्रि

 

हादसों से नहीं ले रहे सबक - video

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned