video : पर्दाफाश : तांत्रिक गिरोह की महिला ने उगले कैसे-कैसे राज, पुलिस भी रह गई हैरान

video : पर्दाफाश : तांत्रिक गिरोह की महिला ने उगले कैसे-कैसे राज, पुलिस भी रह गई हैरान

Lalit Saxena | Publish: Sep, 04 2018 10:20:14 PM (IST) | Updated: Sep, 04 2018 11:22:09 PM (IST) Ujjain, Madhya Pradesh, India

जरूरतमंद और रिटायर्ड कर्मचारियों को बनाते थे शिकार, पुलिस को मिली कई शिकायतें

उज्जैन. वशीकरण कर तंत्र क्रिया के नाम पर जरूरतमंद और रिटायर्ड कर्मचारियों को शिकार बनाकर उनके साथ लाखों रुपए की ठगी करने वाले एक गिरोह की महिला सहित चार ठगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इस अंतरराज्यीय गिरोह का मुख्य सरगना और तंत्र क्रिया के नाम पर ठगी करने वाला बाबा फरार है, जिसे पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है। उस पर रतलाम थाने में भी धोखाधड़ी का मामला दर्ज है।

गिरोह के सरगना की पत्नी को पुलिस ने गिरफ्तार किया

रतलाम के रहने वाले इस गिरोह के सरगना की पत्नी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जिससे पूछताछ में पता चला कि फरार बाबा ने लोगांे को तंत्र क्रिया कर लाखों रुपए को करोड़ों में बदलने के सब्जबाग दिखाए और रुपए लेकर भाग निकला। इस तरह की कई लोगों को शिकार बनाकर इन्होंने करोंड़ों रुपए की सम्पत्ति बनाई है। बाबा का रतलाम में आलीशान मकान और इन्दौर में होटल बताई जा रही है, जिसे भी पुलिस कुर्क करने की तैयारी कर रही है। फिलहाल पुलिस ने इस गिरोह से एक लग्जरी चार पहिया वाहन जब्त किया है, जिसकी नम्बर प्लेट पर भारतीय जनता पार्टी का चिह्न लगा है।

रिटायर्ड एसडीएम रीडर से ठगे 11 लाख 76 हजार
लाखों रुपए को तंत्र क्रिया के माध्यम से दोगुना करने नाम पर इस गिरोह ने अगस्त 2017 में सेवानिवृत्त एसडीएम रीडर पुनीत सोनी निवासी खाचरौद को झांसे में लेकर 11 लाख 76 हजार रुपए ठग लिए। इसके लिए इन्होंने फोन से संपर्क बनाया और 51 हजार रुपए लेकर पुनीत सोनी को गुजरात के गोधरा में बुलाया। यहां गिरोह के सरगना लोंगनाथ पिता वजानाथ, उसकी पत्नी गुड्डी बाई, मदननाथ पिता रायसिंह नाथ, तेजूनाथ पिता पन्नानाथ सभी निवासी खाराखेड़ी रतलाम व भैरवनाथ पिता बनानाथ निवासी रत्नागिरी रतलाम रिटायर्ड कर्मचारी पुनीत सोनी को दशा माता मंदिर में ले गए और वहां फर्श पर ढेर सारे नोट दिखाकर वशीकरण किया और फिर कुछ रुपए देकर उन्हें बाजार में चलाने को कहा। अगले दिन फोन कर गिरोह के सदस्यों ने उन्हें 2 करोड़ 25 लाख रुपए तंत्र क्रिया से मिलना बताए। इसके लिए 21 लाख रुपए की दान राशि मांगी गई। झांसे में आकर वे 11 लाख रुपए की व्यवस्था कर गोधरा पहुंचे। यहां गिरोह ने उन्हें रुपए से भरी लोहे की पेटी दिखाई और उसे घर ले जाने और आदेश मिलने के बाद ही खोलने की हिदायत दी। अगले दिन गिरोह ने फिर से मोबाइल पर 10 लाख रुपए की मांग करते हुए तब ही बाबा के आदेश देने की बात कही, जिस पर सोनी को शक हुआ और उन्होंने पेटी खोलकर देखी तो उसमें गुलाबी कागज भरे हुए थे। ठगों ने सोनी से 51 हजार, 11 लाख और 25 हजार रुपए मिलाकर कुल 11 लाख 76 हजार रुपए ठग लिए। सोनी ने 27 अगस्त 2018 को खाचरौद थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।

ठगी में करोड़ों की सम्पत्ति बनाई
खाचरौद टीआई अरविंद राठौर ने बताया कि बाबा लोंगनाथ का रतलाम शहर में आलीशान मकान है। उसके दो पुत्र इन्दौर में रहकर होटल संचालित करते हैं, जबकि पत्नी गुड्डी बाई (45) उसके इस ठगी के कारोबार में बराबर की हिस्सेदार है। वह रिटायर्ड और जरूरतमंद लोगों को आसान शिकार बनाती थी। पुलिस को जानकारी लगी है कि इसी तरह ठगी कर दंपती ने करोड़ों रुपए की संपत्ति बनाई है। जिसे भी कुर्क करने की तैयारी की जा रही है। पुनीत सोनी से ठगी की राशि भी गुड्डी बाई ने मकान मंे खर्च करना बताई है। गिराह से पुलिस ने चार पहिया वाहन भी जब्त किया है। उक्त गिरोह ने मप्र के अलावा राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, उप्र व बिहार में ठगी की है।

इस मामले में भी हो सकता है खुलासा
राजस्थान पाली निवासी मदनलाल माली पिता पुखराज माली ने भी पिछले दिनों एसपी सचिन अतुलकर को शिकायत की है, जिसमें उन्होंने 29 जून को रामघाट पर रमेश नाथ साधु नामक व्यक्ति द्वारा 7 लाख रुपए ठग कर फरार होने की बात कही है। पीडि़त ने पुलिस को यह भी बताया था कि इस गिरोह में करीब दो दर्जन लोग शामिल हैं। इस मामले में भी पुलिस को आरोपियों की खोजबीन कर रही है। यह गिरोह भी कालबेलिया समाज का ही बताया गया है।

कुर्क करेंगे सम्पत्ति
फिलहाल मुख्य सरगना फरार है। इस मामले के उजागर होने के बाद अन्य पीडि़तों के भी सामने आने की उम्मीद है। ठगी गई राशि की रिकवरी के लिए आरोपी की सम्पत्ति कुर्क की जा सकती है।

- प्रमोद सोनकर, एएसपी, क्राइम


इधर, नागदा में मोबाइल छीनने वाले पकड़ाए
मोबाइल छीनकर भागने वाले बदमाशों को नागदा पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इन्होंने दो वारदात करना कबूली है। इनके पास से पुलिस ने 3 मोबाइल व बाइक भी जब्त र्की है। इन्हें साइबर सेल की मदद से गिरफ्तार किया है। एसपी सचिन अतुलकर ने बताया कि 23 अगस्त को नागदा निवासी विजय पिता रमेशचंद्र परमार के हाथ से बात करने समय दो बाइक सवार मोबाइल छीनकर भाग निकले थे। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने अर्जुन पिता थावरलाल मालवीय निवासी पासलोद व संजय पिता कैलाश धाकड़ निवासी उन्हेल को घेराबंदी कर गिरफ्तार किया, जिनके पास से 3 मोबाइल व बाइक जब्त की है। बदमाशों ने पूर्व में पीथमपुर, धार और इन्दौर में भी मजदूरी की है। इस पर पुलिस इन क्षेत्रों में हुई वारदातों के बारे में पूछताछ कर रही है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned