scriptFourth accused arrested in Raku murder case, many secrets revealed | राकू हत्याकांड में चौथा आरोपी गिरफ्तार, खोले कई राज | Patrika News

राकू हत्याकांड में चौथा आरोपी गिरफ्तार, खोले कई राज

ऑफिस में ही राकू को ढेर करने की थी साजिश, पहला राउंड फायर होने के बाद दूसरा पिस्टल में ही फंस गया, गोली लगने के बाद राकू तरुण को दबोचकर बाहर तक आ गया था, जिससे जुड़ती गई कडिय़ां

उज्जैन

Published: January 05, 2022 12:31:55 am

नागदा. राकू हत्याकांड मामले में एक और नया खुलासा हुआ है। हत्याकांड को अंजाम देने में तीन आरोपी सामने आने के बाद पुलिस ने चौथे आरोपी का नाम भी खोल दिया है। पुलिस के अनुसार हत्याकांड में विजय अनकिया की भी संलिप्ता सामने आने पर उसे हिरासत में लेकर पूछताछ चल रही है। पूछताछ में विजय ने हत्याकांड में शामिल होने की बात कबूली है। हत्याकांड में प्रयुक्त की गई पिस्टल कहां से और किससे खरीदी गई थी। इस पर अब भी संशय बना हुआ है। मगर विश्वस्त सूत्रों की माने तो पिस्टल मुहैया कराने वाला व्यक्ति भी पुलिस के हत्थे चढ़ गया है। संभवत: गुरुवार को पुलिस इसका नाम पुलिस खोल सकती है।
इधर प्रारंभिक पूछताछ में फिलहाल विजय की राकू से रंजिश सामने नहीं आई है। विजय भी तरुण, पृथ्वीराज और आर्यन का दोस्त था। वह केवल दोस्ती के खातिर इस हत्याकांड में शामिल हुआ है। मामले में पुलिस ने विजय पर भी केस दर्ज कर लिया है। अब तक चली जांच में यह सामने आया है कि वर्चस्व की लड़ाई में इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया है। तरुण, आर्यन, पृथ्वी, विजय का गुट अलग था। इनके सामने राकू के पास भी युवाओं की अच्छी लॉबी थी। क्षेत्र में राकू का दबदबा अधिक होने से तरुण, पृथ्वी, आर्यन का वर्चस्व कम होता जा रहा था। दूसरी तरफ पिता जसवंत व मुकेश से हुई मारपीट से आर्यन व तरुण पहले ही राकू पर रंजिश रखे हुए थे। राकू के बढ़ते दबदबे व पुरानी रंजिश को लेकर तरुण, आर्यन व पृथ्वी ने राकू को मारने की योजना बनाई। हत्याकांड से करीब सात दिन पहले भगतपुरी स्थित कैफे में मीटिंग हुई। इस मीटिंग में तरुण, आर्यन व पृथ्वी के अलावा विजय भी शामिल हुआ। पहले यह तय हुआ था कि राकू जहां मिला, वहीं ढेर कर देंगे। फिर 25 दिसंबर को निकली शौर्य यात्रा में मारना तय हुआ, लेकिन भारी पुलिस बल तैनात होने से आरोपियों ने प्लान बदल दिया। मृतक की हर गतिविधि की रैकी की गई। खबर लगी कि राकू गीताश्री गार्डन के समीप स्थित अपने ऑफिस पर बैठा है। वहां अकेला पाकर उसे मारा गया।
आर्यन पहले ही शहर छोड़ चुका था, गोली मारने के बाद तरुण को भगाने की फिराक में थे पृथ्वी व विजय
हत्याकांड से पहले ही आर्यन शहर छोड़ चुका था। जबकि तरुण, पृथ्वी व विजय साथ थे। चारों फोन पर एक दूसरे से संपर्क में थे। प्लान के मुताबिक राकू को ऑफिस में ही ढेर करने के बाद तरुण को अंडरग्राउंड कर देंगे। जिसकी जिम्मेदारी पृथ्वी व विजय पर थी। इसलिए जब तरुण राकू को मारने गया था। तब पृथ्वी व तरुण घटनास्थल के आसपास ही नजर रखे हुए थे। मगर यहां प्लानिंग उलटी पड़ गई। तरुण बाइक से राकू के ऑफिस पहुंचा। यहां उसने राकू पर पहला राउंड फायर किया। गोली गले के रास्ते सीने में उतरी। तरुण ने दूसरा फायर किया, लेकिन राउंड पिस्टल में ही फंस गया। शारीरीक रुप से मजबूत राकू ने गोली लगने के बावजूद एक हाथ से तरुण से पिस्टल छीनकर काउंटर से बाहर आया। फिर दूसरे हाथ से तरुण की गर्दन दबोचकर ऑफिस के बाहर गीताश्री गार्डन के सामने तक पहुंच गया। मगर गोली सीने में धंस जाने से राकू अचेत होकर गिर गया और उसके साथ में मौजूद तरुण की पिस्टल भी वहीं गिर गई। फिर तरुण राकू से छुटकर भाग गया। हत्याकांड होते ही पहले से नजर रखे हुए पृथ्वी व विजय भी घबराकर भाग गए। दूसरी तरफ राकू को मारने के बाद तरुण ने पृथ्वी से संपर्क किया। मगर राकू द्वारा तरुण को दबोच लेने से इसका चेहरा ऊजागर हो गया। ऐसी स्थिति में तरुण मौके से भागने के बाद पृथ्वी से मिला। यहां सरेंडर करना तय हुआ, क्योंकि बाहर रहते तो इनकी जान को खतरा हो सकता था। पृथ्वी ने तरुण को घर छोड़ा और वहां से वह थाने जाकर सरेंडर हुआ। तरुण के सरेंडर के बाद एक के बाद एक कडिय़ां जुड़ती गई और नाम सामने आते गए। अगर हत्या करने के बाद तरुण भागने में सफल हो जाता तो अब तक यह गुत्थी उलझी हुई ही रहती।
आज पिस्टल मुहैया कराने वाले का नाम ओपन कर सकती है पुलिस
इस मामले में अब तक यह संशय बना हुआ था कि आखिर राकू को मारने के लिए पिस्टल कहां से लाई गई। मगर पुलिस ने पिस्टल मुहैया कराने वाले युवक को भी हिरासत में ले लिया है। संभवत: गुरुवार को पुलिस इसके नाम का खुलासा कर सकती है। पिस्टल मुहैया कराने वाले इस युवक से नया खुलासा यह होगा कि आखिर शहर में अवैध हथियारों की खरीद-फरोख्त कहां से हो रही है और इसके तार कहां-कहां से जुड़े हुए है। इसलिए हत्याकांड के इस केस के साथ शहर को अवैध हथियारों की मंडी बनाने वाले कई तस्करोंं के नाम भी ओपन हो सकते हैं।
Fourth accused arrested in Raku murder case, many secrets revealed
ऑफिस में ही राकू को ढेर करने की थी साजिश, पहला राउंड फायर होने के बाद दूसरा पिस्टल में ही फंस गया, गोली लगने के बाद राकू तरुण को दबोचकर बाहर तक आ गया था, जिससे जुड़ती गई कडिय़ां

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.