ये खाएं, बनी रहेगी सेहत, नशे से भी पा सकेंगे छुटकारा

ये खाएं, बनी रहेगी सेहत, नशे से भी पा सकेंगे छुटकारा
Health Benefits : amino acid in fennel

Lalit Saxena | Updated: 28 Sep 2016, 08:36:00 AM (IST) Ujjain, Madhya Pradesh, India

सौंफ बहुत ही गुणकारी होती है, यह न सिर्फ मुंह की दुर्गंध दूर करती है, बल्कि एसीडिटी को भी नियंत्रित करती है। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद उपयोगी सिद्ध हो सकती हैं।

उज्जैन. दैनिक उपयोग में आने वाली खाने-पीने की चीजें कितनी गुणकारी हैं, यह कई लोगों को नहीं पता होता है, लेकिन यदि उनके गुणों के बारे में जान लें, तो यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद उपयोगी सिद्ध हो सकती हैं। सौंफ बहुत ही गुणकारी होती है, यह न सिर्फ मुंह की दुर्गंध दूर करती है, बल्कि एसीडिटी को भी नियंत्रित करती है। 


कैसे करें सौंफ का इस्तेमाल
एक गिलास पानी में 2 चम्मच सौंफ डालकर उबालें। रात भर रखे रहने दें, फिर सुबह छानकर उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से एसीडिटी नियंत्रण रहती है।

पुदीने का रस और उसका तेल पेट की गैस और अम्लता को दूर करता है। यह एक कुदरती पदार्थ है। इसके कैप्सूल भी मिलते हैं।

फलों का उपयोग अम्लता निवारण में बहुत गुणकारी है। खासकर केला, तरबूज, ककड़ी और पपीता बहुत फायदेमंद हैं।




5 ग्राम लौंग और 3 ग्राम इलायची को पीसकर पावडर बना लें। भोजन पश्चात चुटकी भर पावडर मुंह में रखकर चूसें। मुंह की बदबू दूर होगी और अम्लता में भी लाभ होगा।

दूध और दूध से बने पदार्थ अम्लता नाशक माने गए हैं। 

अचार, सिरका, तला हुआ भोजन, मिर्च-मसालेदार चीजों का परहेज करें। इनसे अम्लता बढ़ती है। चाय, काफी और अधिक बीडी, सिगरेट से एसीडिटी की समस्या होती है। इन्हें छोडऩे का प्रयास करें।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned