अगर बच्चे खा लेते ये खीर तो हो जाता अनर्थ

अगर बच्चे खा लेते ये खीर तो हो जाता अनर्थ

Ashish Sikarwar | Publish: Aug, 14 2019 10:00:00 AM (IST) Ujjain, Ujjain, Madhya Pradesh, India

शासन की महती योजना सांझा चूल्हा के तहत केंद्र व राज्य की संयुक्त पहल पर प्रदेश के सभी आंगनवाड़ी केंद्रों पर बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए खाना

महिदपुर. शासन की महती योजना सांझा चूल्हा के तहत केंद्र व राज्य की संयुक्त पहल पर प्रदेश के सभी आंगनवाड़ी केंद्रों पर बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए खाना व नाश्ता स्व-सहायता समूहों के माध्यम से किया जाता है परंतु महिदपुर के नगरीय क्षेत्र के केंद्रों पर बच्चों को दिया जाने वाला पोषण आहार एकदम निम्न स्तर का प्रदाय किया जाकर शासन की मंशा के विपरीत बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ हो रहा है।
नगरीय क्षेत्र के सभी स्कूलों व 25 आंगनवाड़ी पर श्री साईं स्व-सहायता समूह 4 वर्षों से भोजन प्रदाय किया जा रहा है परंतु समूह को राजनीतिक संरक्षण के चलते इसके घटिया किस्म के भोजन व नाश्ते को बिना किसी जांच के अधिकारियों ने अच्छा होने का प्रमाण-पत्र देकर बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ किया जाता रहा। पूर्व में केंद्रों पर आई शिकायतों के पंचनामे बने, नोटिस जारी हुए लेकिन समूह ने समय पर जवाब देना तक उचित नहीं समझा।
13 अगस्त को मीनू के अनुसार भोजन में खीर-पूड़ी दी जानी थी जो दी भी गई लेकिन अंतर केवल इतना था कि खीर का दूध खराब होकर फट चुका था। समूह ने उसे ही केंद्रों पर बच्चों को खिलाने के लिए भिजवा दिया। वार्ड 11 पर कार्यकर्ता ने जब खीर देखी तो वह आश्चर्य चकित रह गई। केंद्र पर उपस्थित अन्य लोगों ने भी खीर को खराब बताते हुए बच्चों को नहीं बांटने की सलाह दी। यह मामला जब सुर्खियों में आया तो परियोजना अधिकारी ने मैसेज के माध्यम से खीर नहीं बांटने
का निर्देश दिया तथा समूह को अच्छी खीर लाने का निर्देश देकर मामले का पटाक्षेप करना चाहा। परंतु तब तक मामला तूल पकड़ चुका था। जागरूक लोगों ने इस मामले की शिकायत एसडीएम से करते हुए स्वत: संज्ञान ले बच्चों को घटिया खाना परोसने वाले समूह के विरुद्ध कार्रवाई की बात कही। एसडीएम ने भी मामले की गंभीरता को समझते हुए तत्काल परियोजना अधिकारी देवयानी कुचेकर को बुलवा समूह के विरुद्ध उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए।
मामले में महिला एवं बाल विकास विभाग की परियोजना अधिकारी से जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हम समूह को कल नोटिस जारी करेंगे परंतु अनुबंध निरस्त करने का अधिकार नहीं है। जिला पंचायत ही अनुबंध निरस्त कर सकती है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned