प्रदेश में दूसरा शहर होगा उज्जैन, जहां बनेंगे दिव्यांगों के कृत्रिम अंग

१५ जनवरी तक भवन निर्माण पूरा कर हस्तांतरण के निर्देश, १८ मार्च को होगा शुभारंभ

By: Gopal Bajpai

Published: 09 Dec 2017, 12:58 PM IST

उज्जैन. मध्यप्रदेश में उज्जैन जल्द ही दिव्यांगों के लिए कृत्रिम अंग व उपकरण बनाने वाला दूसरा शहर बनेगा। एलिम्को के कृत्रिम अंग उपकरण निर्माण केंद्र का कार्य अंतिम चरण में हैं और १८ मार्च को इसके शुभारंभ की डेडलाइन तय की है। इसके लिए १५ जनवरी तक बिल्डिंग एलिम्को को हैंडओवर करने के निर्देश दिए हैं।

देवासरोड अभिलाषा कॉलोनी के नजदीक ग्राम मानपुरा में भारतीय कृत्रिम अंग निर्माण निगम (एलिम्को) करीब ४ एकड़ भूमि पर कृत्रिम अंग उपकरण निर्माण केंद्र स्थापित कर रहा है। जबलपुर के बाद एलिम्को द्वारा प्रदेश में यह दूसरा केंद्र स्थापित किया जा रहा है। शुक्रवार को केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद गेहलोत ने निर्माणाधीन केंद्र का निरीक्षण कर समीक्षा बैठक की। अधिकारियों ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से एनओसी नहीं मिलने की समस्या बताई। गेहलोत ने इस संबंध में कलेक्टर संकेत भोंडवे को आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए। उन्होंने बिल्डिंग सहित अन्य इन्फ्रास्ट्रक्चर का निर्माण १५ जनवरी तक पूरा कर भवन एलिम्को को हैंडओवर करने के निर्देश दिए। उनके अनुसार १८ मार्च २०१८ को निर्माण केंद्र का शुभारंभ किया जाएगा। इसके बाद यहां बनने वाले कृत्रिम अंग व उपकरण शहर सहित पूरे देशभर में सप्लाय होंगे। देश में एलिम्को का यह छठा निर्माण केंद्र होगा।

८५ फीसदी निर्माण पूरा
केंद्र के लिए इसी वर्ष फरवरी में निर्माण शुरू हुआ था। अधिकारियों के अनुसार भवन निर्माण का कार्य ८५ फीसदी पूरा हो गया है। इसमें असेंबली निर्माण, पावडर कोटिंग सिस्टम, फेब्रिकेशन, रॉ मटेरियल स्टोरेज, ग्राउण्ड वर्क आदि का बड़ा हिस्सा निर्मित किया जा चुका है।

स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार
केंद्र स्थापित होने से स्थानीय लोगों को भी रोजगार मिलेगा। शुरुआत में केंद्र पर करीब १०० कर्मचारियों की नियुक्ति की जाएगी। इनमें से करीब ७० कर्मचारी अस्थायी होंगे। इनमें से ज्यादातर स्थानीय लोग होंगे। इसके अलावा रॉ मटेरियल की आवश्यकता के चलते स्थानीय बाजार को भी लाभ मिलने की उम्मीद है। गेहलोत ने शुभारंभ से पूर्व स्टॉफ की नियुक्ति के निर्देश दिए हैं।

एक साल में बनेंगे ७० हजार उपकरण
निर्माण केंद्र में प्रतिवर्ष करीब ७० हजार कृत्रिम अंग व उपकरणोंं का निर्माण होने का आकलन हैं। इनमें 2018-19 में 20 हजार ट्रायसिकल, 15 हजार व्हील चेयर्स, छह हजार मोटराइज्ड ट्रायसिकल, 30 हजार एक्झिला क्रच, छह हजार वॉकर, 12 हजार एल्बोक्रच, 16 हजार वॉकिंग स्टिक, 12 हजार ट्रायपॉड टेट्रापॉड बनाने का लक्ष्य है। लक्ष्य पूर्ति के लिए उच्च स्तरीय क्षमता व गुणवत्ता की मशीनरी स्थापित की जाएंगी।

कांग्रेस अय्यर को बाहर करके दिखाए
मीडिया से चर्चा में केंद्रीय मंत्री गेहलोत ने कहा, मणिशंकर अय्यर उदंडताभरे व्यवहार करते आ रहे हैं। देश के पीएम को लेकर संसदीय आचार संहिता बनी है, उन्होंने आचार संहिता का उल्लंघन किया है। कांग्रेस ने उन्हें दिखावे के लिए निलंबित किया है। कांग्रेस में साहस है तो अय्यर को बाहर निकालकर दिखाए। गेहलोत ने राहुल गांधी को लेकर भी सवाल उठाया कि वह बताएं क्या राम और कृष्ण में उनकी आस्था है। क्या वह राम सेतु के अस्तित्व को स्वीकार करते हैं और क्या कांग्रेस राम मंदिर के पक्ष में हैं। गुजरात चुनाव को लेकर उनका दावा है कि भाजपा दो तिहाई मतों से विजयी होगी।

Gopal Bajpai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned