भगवान महावीर के जन्मोत्सव पर भक्तों को मिला तोहफा, जीते सोने के सिक्के

भगवान महावीर के जन्मोत्सव पर भक्तों को मिला तोहफा, जीते सोने के सिक्के

Lalit Saxena | Publish: Sep, 11 2018 08:20:33 PM (IST) Ujjain, Madhya Pradesh, India

नयापुरा श्वेतांबर मंदिर में हुआ जन्मवाचन, पालने में झूले भगवान

उज्जैन। श्रेयांसनाथ राजेन्द्र सूरि जैन श्वेतांबर मंदिर नयापुरा में पर्युषण महापर्व के अंतर्गत जन्म वाचन का कार्यक्रम गच्छाधिपति आचार्य नित्यसेन सूरिश्वर आदि श्रमण-श्रमणी वृंद की निश्रा में मंगलवार को हुआ। भक्ति गीतों के बीच भगवान का जन्म हुआ तथा समाजजनों ने भगवान को पालने में झुलाया। वहीं दानीगेट स्थित अवंति पाश्र्वनाथ मंदिर में भी जन्म वाचन का आयोजन किया गया। यहां भक्तों ने आराधना के बाद बंपर पुरस्कार में सोने के सिक्के जीते।

14 स्वप्नजी की आरती
त्रिस्तुतिक श्रीसंघ के प्रचार मंत्री राजेन्द्र पगारिया एवं राजेन्द्र पटवा ने बताया कि जन्मवाचन मंगलवार दोपहर 12.39 से प्रारंभ हुआ, जिसमें 14 स्वप्न, आरती एवं कुमार पाल की आरती आदि के चढ़ावे संपन्न हुए। इसमें भगवान के मुनीम बनने की बोली सुरेशचंद्र हितेश पगारिया, लक्ष्मी के स्वप्न की बोली का लाभ सुशीलकुमार बसंतीलाल गिरिया, भगवान की आरती एवं मंगल दिवा की आरती का लाभ कांतिलाल राजेश कुमार पगारिया, दादा गुरुदेव की आरती का लाभ श्रीपाल चांदमल लोढ़ा, कुमार पाल बनकर आरती का लाभ दीपचंद चांदमल चत्तर ने लिया।

जन्म वाचन में पालनाजी की बोली
जन्म वाचन में पालनाजी की बोली मुकेशकुमार हीरालाल रांका ने ली, जिसमें संपूर्ण श्रीसंघ बाजे गाजे से परिवार के निवास पर पधारे पश्चात रात्रि भक्ति संपन्न हुई। जन्म वाचन कार्यक्रम में नयापुरा संघ अध्यक्ष सुरेश पगारिया, राजमल चत्तर, सुशील गिरिया, कपिल सकलेचा, अतुल चत्तर, राजेश पगारिया, प्रवीण गादिया, राकेश चत्तर आदि उपस्थित थे।

दिगंबर जैन समाज के पर्युषण 14 से, आज पूजी जाएगी रोट तीज
शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर बोर्डिंग में विदक्षाश्री माता के सान्निध्य में व पर्युषण पर्व में 10 दिनों तक विधि विधान से पूजा एवं दोपहर में तत्व चर्चा शाम को आरती एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। वहीं महावीर तपोभूमि में मीना दीदी साधना दीदी इंदौर के सान्निध्य में श्रावक संस्कार शिविर का आयोजन होगा, जिसमें संपूर्ण शिविरार्थी 10 दिन तक महावीर तपोभूमि में रहेंगे। समाज सचिव सचिन कासलीवाल के अनुसार दशलक्षण व्रत भाद्रपद शुक्ल पंचमी शुक्रवार 14 सितम्बर से शुरू होगा, जो भाद्रपद शुक्ल चतुर्दशी 23 सितम्बर तक रहेगा। 12 सितंबर को सभी घरों में रोट तीज पूजी जाएगी। इसके बाद संपूर्ण दिगंबर जैन समाज में पर्वाधिराज पर्युषण महापर्व शुरू होंगे।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned