दिनभर शांति, रात के अंधेरे में जेसीबी ने तोड़ा घर

अवैध कॉलोनी में बन रहे मकानों पर अंधेरे में चली जेसीबी, पुलिस फोर्स की मौजूदगी में निगम ने इंदौर रोड केजीसी के पीछे की कार्रवाई

By: aashish saxena

Updated: 06 Jan 2020, 09:16 PM IST

उज्जैन. माफिया के खिलाफ शुरू हुई मुहिम में सोमवार को दिनभर कोई कार्रवाई नहीं हुई, वहीं शाम को नगर निगम की जेसीबी का पंजा अवैध कॉलोनी में हो रहे निर्माणों पर चल ही गया। अंधेरे में निगम टीम ने एक मकान सहित तीन प्लिंथ स्तर के निर्माण तोड़े। इस दौरान मौके पर भारी पुलिस बल भी जमा था।

इंदौर रोड स्थित केजीसी होटल के पीछे भूमि सर्वे क्रमांक 46/1/2 मीन एक पर रामविहार नाम से अवैध कॉलोनी काट कई लोगों को प्लॉट बेच दिए गए हैं। उक्त अवैध कॉलोनी दीपक नोकवान व रामसिंह सोलंकी द्वारा काटना बताई जा रही है। वहीं रजिस्ट्री पर विक्रेता के रूप में मोहनलाल सूर्यवंशी के नाम है। नगर निगम उक्त अवैध कॉलोनी को लेकर संंबंधितों के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी कर चुका है। सोमवार को सीएए के समर्थन में रैली आयोजित होने और पुलिस-प्रशासन के इसमें व्यस्त रहने के चलते दिनभर अवैध निर्माण को लेकर कोई कार्रवाई नहीं हुई लेकिन शाम को व्यवस्था उपलब्ध होते ही निगम ने पुलिस बल के साथ अवैध कॉलोनी पर धावा बोल दिया। कार्यपालन यंत्री अरुण जैन, सहायक आयुक्त सुबौध जैन दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे और यहां हो रहे अवैध निर्माण तोड़े। मौके पर खासा अंधेरा पसरा था, एेसे में जेसीबी की लाइट में निर्माण तोड़े गए। कुछ लोगों ने प्लॉट की रजिस्ट्री, नामांतरण होने का हवाला दिया लेकिन निर्माण अनुमति नहीं होने के कारण कार्रवाई जारी रखी गई।

15 लाख रुपए में मिला था प्लॉट

सचिन नीमा के निर्माणाधीन मकान पर भी कार्रवाई हुई है। नीमा ने बताया उन्होंने करीब डेढ़ वर्ष पूर्व रामसिंह सोलंकी से 1200 वर्ग फीट का प्लॉट खरीदा, जिसमें रजिस्ट्री व अन्य दस्तावेज सहित 15 लाख रुपए खर्च हुए थे। मकान का निर्माण लगभग 90 फीसदी हो चुका था और अब निगम ने कार्रवाई कर उसे तोड़ दिया है।

गरीबों को नुकसान पहुंचाने का आरोप

कार्रवाई के बाद प्रभावितों का आक्रोश फूटा। उन्होंने बताया, जिन्होंने करोड़ों रुपए का घोटाला किया, उन पर कोई कार्रवाई नहीं कर गरीबों के मकान तोड़े जा रहे हैं। जब हमने जमीन खरीदी, रजिस्ट्री करवाई, नामांतरण करवाया और लाखों रुपए सरकार को दिए तब किसी ने नहीं बताया कि यह सरकारी जमीन है। अब जब कर्जा लेकर जैसे-तैसे घर बना रहे हैं तो गरीबों के मकान तोड़े जा रहे हैं। जबकि जो बड़े माफिया हैं, उन पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही। लोगों ने बताया कि इसी कॉलोनी में करीब सौ प्लॉट की रजिस्ट्री हो चुकी है और कई लोगों ने मकान बनाकर रहना शुरू कर दिया है। प्रभावित लोग कार्रवाई के बाद कांग्रेस नेता बटुशंकर जोशी से मिलने भी गए।

Show More
aashish saxena Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned