उज्जैन में ही क्यों करते हैं काल सर्प पूजा, क्या है इसका राज

उज्जैन में ही क्यों करते हैं काल सर्प पूजा, क्या है इसका राज
kaal sarp dosh nivaran in ujjain

Lalit Saxena | Publish: Sep, 17 2016 01:36:00 PM (IST) Ujjain, Madhya Pradesh, India

उज्जैन को अन्य तीर्थों से तिल भर बड़ा होने का गौरव प्राप्त है, इसीलिए यहां की गई कोई भी पूजन जैसे महामृत्युंजय जाप, कालसर्प दोष निवारण पूजा, ग्रह शांति आदि करने से देवी-देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त होता है।


उज्जैन. सारे संसार में उज्जैन ही एकमात्र ऐसा तीर्थ स्थल है, जिसे धर्म की राजधानी कहा जाता है। उज्जैन को अन्य तीर्थों से तिल भर बड़ा होने का गौरव भी प्राप्त है, इसीलिए यहां की गई कोई भी पूजन जैसे महामृत्युंजय जाप, कालसर्प दोष निवारण पूजा, ग्रह शांति, पितृ पूजन, वायव्य दोष निवारण, समस्त धार्मिक अनुष्ठान आदि करने से शिव परिवार की कृपा के साथ ही अन्य देवी-देवताओं का भी आशीर्वाद प्राप्त होता है, ऐसा ग्रंथों में उल्लेख है। 

यहां है भैरव का तीर्थ 
अवंतिका खंड में भैरव तीर्थ तथा नागतीर्थ का भी उल्लेख है, चूंकि जन्मेजय के नाग सत्र के बाद जरकतारू पुत्र आस्तिक मुनि के द्वारा नाग सत्र रोका गया था और उनका स्थान परिवर्तित किया गया था, उसमें महाकाल वन की कई सीमाएं ली गई थीं, यह भी एक कारण है कि यहां की गई पूजा सफल होती है। उज्जैन नागों का शरण स्थली भी रहा है, इसलिए यहां नाग पूजा की मान्यता शास्त्रों में वर्णित है। 


कालसर्प पूजा भारत में कहां-कहां
काल सर्प पूजन के लिए संपूर्ण भारत में उत्तर तथा दक्षिण के तीर्थों का प्रभाव इसलिए विशेष माना गया है, क्योंकि राहू एवं केतु का स्थान वैज्ञानिक तथा धार्मिक दृष्टिकोण से इनमें दिखाई देता है। इसलिए महाराष्ट्र, त्र्यंबकेश्वर, तिरुपति बालाजी के पास कालाहस्थि, कर्नाटक का नाग मंदिर, आंध्र प्रदेश का नाग मंदिर, रामेश्वर के पास नाग तीर्थ, महाराष्ट्र में नागेश्वर ज्योतिर्लिंग, दक्षिण में नागार्जुन इन सभी स्थानों पर अलग-अलग विधि से पूजा संपन्न की जाती है।

क्या है काल सर्प दोष पूजा
सबसे पहले जातक अपनी जन्म कुंडली या जन्म पत्रिका किसी विद्वान पंडित को दिखाए, ताकि उसमें क्या दोष है, किस तरह की पूजा करवाई जाना चाहिए, इसका पता लग सके। इसके बाद ही तीर्थ नगरी उज्जैन आकर दोष से संबंधित पूजा कराई जाना चाहिए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned