भ्रष्टाचार में शौचालय नहीं बने, टूट रहे रिश्ते

जनसुनवाई में शिकायत, ग्रामीणों ने सुनाई समस्या

By: Lalit Saxena

Published: 25 Apr 2018, 08:01 AM IST

उज्जैन. गांव बंबोरी निवासी ईश्वरसिंह के परिवार में तीन साल पहले छोटे भाई की शादी हुई थी। घर में शौचालय नहीं है। शासन की योजना से शौचालय निर्माण का आवेदन देने पर इसे अमान्य कर दिया गया। ईश्वरसिंह कहते हैं कि शौचालय की कमी के कारण छोटे भाई की पत्नी मायके चली गई है।
यह समस्या सिर्फ ईश्वरसिंह की ही नहीं घट्टिया ग्राम पंचायत बनड़ा अंतर्गत बंबोरी गांव के कई परिवारों की है। शौचालय की कमी के कारण कुछ बने बनाए रिश्तों में दरारें पड़ रही हैं तो कुछ बनने से पहले ही टूट गए हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि स्वच्छता अभियान की शौचालय निर्माण योजना में भ्रष्टाचार के कारण गांव में नए रिश्ते नहीं हो रहे हैं। मंगलवार को कलेक्टर की जनसुनवाई में बंबोरी गांव के राजेंद्रसिंह, ईश्वरसिंह, अमलगसिंह, प्रदीपसिंह, शुभमसिंह, उदयसिंह, उपसरपंच किशोर वर्मा आदि पहुंचे। उन्होंने सरपंच, सचिव व सहायक सचिव पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए। ग्रामीणों ने बताया गांव में शौचालय नहीं बनाए गए हैं और पुराने शौचालयों पर ही नाम लिख बाले-बाले राशि निकाल ली गई है। वास्तविक जरूरतमंदों को योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। करीब सौ परिवारों की आबादी वाले गांव में कई घरों में शौचालय नहीं है। इसके कारण ऐसे परिवारों में कोई अपनी लड़की की शादी नहीं करवा रहा है। यहां तक कि कुछ की पत्नियां मायके चली गई हैं। ग्रामीणों ने शौचालय के अलावा, सामुदायिक भवन, पीएम आवास योजना आदि में भी भ्रष्टाचार के आरोप लगाए। मामला जिपं को जांच के लिए भेजा गया है।
जनसुनवाई में यह शिकायतें भी
- दयाराम चौहान ने बताया करंट लगने से पुत्र सुरेश की मृत्यु हो गई थी। स्वीकृति के बाद भी सहायता राशि नहीं मिली है।
- गणेशपुरा के गेंदालाल ने बताया सरकारी संस्था में ३० वर्ष चौकीदारी की, लेकिन कंपनी का बोर्ड भंग होने के कारण वेतन के ६७ हजार रुपए नहीं मिले।
- ग्राम गोंसा की पार्वतीबाई ने बताया कि दो साल पहले पुत्र मनीष की दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी लेकिन सहायता राशि नहीं मिली है।

Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned