एम शिक्षा मित्र एप: सरकारी स्कूलों में अब विद्यार्थियों की उपस्थिति भी होगी ऑनलाइन

एप का प्रयोग बढ़ा रहा शिक्षा विभाग में

By: Gopal Bajpai

Published: 10 Feb 2018, 08:02 AM IST

उज्जैन. स्कूली शिक्षा विभाग अपने विभागीय पोर्टल पर मिलने वाली लगभग सभी सुविधा अपने एप पर प्रदान करेगा। विभाग की तरफ से स्कूलों में पदस्थ शिक्षकों की उपस्थिति एम शिक्षामित्र एप के माध्यम से लगवाई जा रही है। वर्तमान यह एप ज्यादा प्रभावी नहीं है, लेकिन विभाग की पूरी योजना है कि एक मोबाइल गवर्नेंस प्लेटफॉर्म तैयार किया जाएगा। जहां पर मोबाइल फोन पर ही सभी सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाएगा। इस एप के साथ नई खास बात यह है कि यह अब विद्यार्थियों से जुड़ी जानकारी भी प्रदान करेगा। इसमें विद्यालय में उनकी उपस्थिति, साइकिल योजना, छात्रवृत्ति आदि शामिल है। साथ ही प्रदेश भर में संचालित स्कूलों की जानकारी मैप पर मिल जाएगी। विद्यार्थियों को निजी स्कूलों की मान्यता स्थिति जानने के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा।
शिक्षा का अधिकार के एडमिशन एप से
स्कूली शिक्षा विभाग की तरफ से आगामी सत्र में होने वाले वंचित वर्ग के विद्यार्थियों की प्रवेश प्रक्रिया में भी एप प्रभावी रहेगा। स्कूलों में रिक्त सीट की जानकारी, निजी स्कूलों की मान्यता प्रकरण, विद्यार्थियों को सीट आवंटन, प्रवेश सत्यापन और सत्यापन के बाद एडमिशन रिपोर्टिंग की प्रक्रिया में एप विद्यार्थियों की काफी मदद करेगा। हालांकि एडमिशन के दौरान गत सत्र के अनुभव काफी खराब रहे। एजुकेशन पोर्टल पर लोड बढऩे से वह कई बार ठप हुआ है और तकनीकी गड़बड़ी का शिकार हुआ। इसके बाद विभाग को तीन बार प्रवेश प्रक्रिया को बढ़ाना पड़ा। इसी के साथ ज्यादातर अभिभावक पोर्टल का प्रयोग भी नहीं कर पाते हैं। हर कोई ऑफलाइन आवेदन बीआरसी को जमा कर देता है। साथ ही अन्य पूरी प्रक्रिया के लिए बीआरसी व संकुल प्राचार्य के भरोसे रहता है।
कर्मचारियों की हर सुविधा
एम शिक्षा मित्र एप के माध्यम से कर्मचारियों को ज्यादातर सूचना व कार्य दिए जा रहे हैं। इसमें पे-स्लिप, अवकाश समायोजन, ई-सेवा, विभागीय प्रकरण, समस्त विभागीय आदेश, सर्कुलर, अधिकारी व कर्मचारियों की उपस्थिति आदि शामिल है। यह सभी सेवा ऑनलाइन पोर्टल पर भी प्रदान की जा रही है, लेकिन विभाग अब इन्हें मोबाइल एप तक पहुंचा रहा है। स्कूली शिक्षा विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों की सबसे बड़ी समस्या मॉनिटरिंग व रिपोर्ट है। यह प्रक्रिया भी एप के माध्यम से संचालित करने की तैयारी की जा रही है।

Gopal Bajpai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned