scriptmahakal darshan in gharbhgrah | महाकाल मंदिर: महिलाएं साड़ी के अंदर कुर्ते, जींस, टी शर्ट पहनकर करती हैं प्रवेश | Patrika News

महाकाल मंदिर: महिलाएं साड़ी के अंदर कुर्ते, जींस, टी शर्ट पहनकर करती हैं प्रवेश

कुछ समय से गर्भगृह की पवित्रता एवं परंपरा भंग होती जा रही है, महिलाएं साड़ी के अंदर कुर्ते, जींस, टीशर्ट आदि पहनकर प्रवेश कर रही हैं।

उज्जैन

Published: March 07, 2022 09:45:02 pm

उज्जैन. विश्व प्रसिद्ध महाकाल मंदिर में गर्भगृह की मर्यादा, परंपरा और पवित्रता आदि अनादिकाल से चली आ रही है, लेकिन देखने में आ रहा है कि कुछ समय से गर्भगृह की पवित्रता एवं परंपरा भंग होती जा रही है, महिलाएं साड़ी के अंदर कुर्ते, जींस, टीशर्ट आदि पहनकर प्रवेश कर रही हैं। यह मंदिर की मर्यादा का सरासर उल्लंघन है।

mahakal darshan in gharbhgrah
कुछ समय से गर्भगृह की पवित्रता एवं परंपरा भंग होती जा रही है, महिलाएं साड़ी के अंदर कुर्ते, जींस, टीशर्ट आदि पहनकर प्रवेश कर रही हैं।

महाकाल सेना राष्ट्रीय धर्म प्रकोष्ठ प्रमुख महेंद्र सिंह बैंस ने इस संबंध में एक पत्र प्रशासक गणेश कुमार धाकड़ को दिया है, पत्र में मद्रास हाईकोर्ट द्वारा मंदिर की पवित्रता और मर्यादा बनाए रखने के लिए ड्रेस कोड अनिवार्य करने का निर्देश का हवाला दिया गया है। यह भी संज्ञान में लाया गया है, महाकाल सेना मद्रास हाईकोर्ट के आदेश का स्वागत करती है और मंदिर समिति से आग्रह करती है कि मंदिर को आधुनिकता का पर्याय नहीं बनाएं, मंदिर की आध्यात्मिकता, पवित्रता व मर्यादा बनी रहे, इसका ध्यान रखें।
प्रवेश बंद होता है, तब ड्रेसकोड लागू होता है
मंदिर में भीड़ होने पर जब प्रवेश बंद होता है, तब ड्रेस कोड लागू होता है, जिसमें पुरुषों को धोती-सोला एवं बनियान या उपवस्त्र तथा महिलाओं को साड़ी में प्रवेश दिया जाता है, लेकिन तथाकथित संत, वीआईपी, प्रोटोकाल, पुजारी, पुरोहित एवं भक्त सिर पर कपड़ा बांधकर, कुर्ता पहनकर, लुंगी पहनकर एवं साध्वी गाउन पहनकर, महिलाएं साड़ी के अंदर कुर्ते, जींस, टीशर्ट पहनकर गर्भगृह में प्रवेश करती हैं।

गर्भगृह में ये वस्तुएं भी हैं निषेध
गर्भगृह में मौजा, चमड़े का पर्स, बेल्ट, हथियार और मोबाइल सभी वस्तुएं ले जाना निषेध हैं। जबकि कई लोगों को गर्भगृह में इन्हें बे-रोकटोक ले जाते देखा जा सकता है। जब गर्भगृह में मोबाइल कैमरा प्रतिबंधित है तो वहां कई संतों, वीआईपी भक्तों द्वारा फोटो लिए जाते हैं, गर्भगृह को सेल्फी पॉइंट बना दिया गया है।
कर्मचारी-निरीक्षक इसका ध्यान रखें
गर्भगृह में उस समय वहां ड्यूटी पर उपस्थित कर्मचारियों-निरीक्षकों को मर्यादाओं का पालन कराना चाहिए, लेकिन कर्मचारी इससे विमुख हो चुके हैं और परंपराओं और पवित्रता भंग करने वालों को रोकने में असमर्थ दिखाई देते हैं। ऐसा लगता है कि कर्मचारी स्वयं भी परंपरा से अनभिज्ञ हैं, इसे रोका जाना चाहिए। इस आशय का एक पत्र महाकाल सेना राष्ट्रीय धर्म प्रकोष्ठ प्रमुख महेंद्र सिंह बैंस ने प्रशासक महोदय को भेजा है, पत्र में मद्रास हाई कोर्ट द्वारा मंदिर की पवित्रता और मर्यादा बनाए रखने के लिए ड्रेस कोड अनिवार्य करने का निर्देश दिया है वह भी संज्ञान में लाया गया है, महाकाल सेना मद्रास हाई कोर्ट के आदेश का स्वागत करती है और मंदिर समिति से आग्रह किया है कि मंदिर को आधुनिकता का पर्याय नहीं बनावे मंदिर की आध्यात्मिकता प्राचीनता बनी रहे। उसका ध्यान रखें एवं गर्भगृह की पवित्रता मर्यादा एवं परंपराओं को सख्ती से पालन करावे और जो मंदिर के गर्भगृह की पवित्रता एवं परंपरा के लिए ड्रेसकोड है उसे सख्ती से लागू कराया जाए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Archery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दलंदन में राहुल गांधी के दिए बयान पर BJP हमलावर, बोली- 1984 से केरोसिन लेकर घूम रही कांग्रेसThailand Open 2022: सेमीफाइनल मुक़ाबले में ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट से हारीं सिंधु, टूर्नामेंट से हुई बाहरपैंगोंग झील पर जारी गतिरोध के बीच रेलवे ने सुपरफास्ट ट्रेनों के लिए चीनी कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट क्यों दिया?Rajiv Gandhi 31st Death Anniversary: अधीर रंजन ने ये क्या कह दिया, Tweet डिलीट कर देनी पड़ रही सफाई, FIR तक पहुंची बातपाकिस्तान पुलिस ने पूर्व पीएम इमरान खान के आवास पर की छापेमारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.