पुलिस और दोस्त के रिश्तेदारों का दबाव नहीं झेल पाई नाबालिग

छात्रा ने अपने मोबाइल पर जलती हुई चिता और श्मशान के फोटो डाले, फिर गुड बॉय का स्टेटस भी अपलोड किया.

By: Subodh Tripathi

Updated: 08 Oct 2021, 11:45 PM IST

उज्जैन. शहर के जीवाजीगंज क्षेत्र निवासी एक नाबालिग इंदौर पुलिस और अपनी दोस्त के रिश्तेदारों का दबाव नहीं झेल पाई और उसने फांसी के फंदे को गले लगा लिया।


जानकारी के अनुसार जीवाजीगंज क्षेत्र के पिपलीनाका निवासी कक्षा 8 वीं छात्रा मेघा राठौर ने बुधवार रात को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इससे पहले छात्रा ने अपने मोबाइल पर जलती हुई चिता और श्मशान के फोटो डाले, फिर गुड बॉय का स्टेटस भी अपलोड किया था। इस नाबालिग की आत्महत्या के पीछे परिजनों ने कारण बताया कि इंदौर के भंवरकुआं पुलिस का दबाव है, नाबालिग की इंदौर में रहने वाली सोशल मीडिया दोस्त ने 25 सितंबर को आत्महत्या कर ली थी। परिजनों का आरोप है कि इसके बाद से ही उसकी दोस्त के रिश्तेदार और भंवरकुआं पुलिस नाबालिग को थाने में आकर बयान देने के लिए दबाव बना रहे थे। जिसके चलते उसने यह कदम उठाया है।

पिता की सीख बेटे को नहीं आई रास - उठाया बड़ा कदम


नाबालिग की बहन दिव्या ने बताया कि दो माह पहले ही मेघा की सोशल मीडिया पर इंदौर में रहने वाली तनु प्रजापत से दोस्ती हुई थी। उसने 12 दिन पहले फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली थी। इसके बाद से ही उसकी बहन को बायान के लिए दबाव बनाया जा रहा था।

Subodh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned