इस बार मोबाइल बनाएगा यूथ कांग्रेस का अध्यक्ष, जानिए कैसे

पहली बार युवा कांग्रेस ऑनलाइन चुनेंगे अपना नेता, प्रदेश सहित जिले में यूथ कांग्रेस चुनाव की प्रक्रिया शुरू, पुरानी सदस्यता भी होगी मान्य

By: aashish saxena

Published: 01 Mar 2020, 09:35 PM IST

उज्जैन. लंबे इंतजार क बाद प्रदेश सहित जिले में फिर यूथ कांग्रेस चुनाव की तैयारी शुरू हो गई है। पार्टी ने इस बार मतदान के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया निर्धारित की है। यह पहला मौका हो जब मतदाता युवा कांग्रेसी मोबाइल, लेपटॉप के जरिए अपना नेता चुनेगा। एेसे में जिनके मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड हैं, वे ही वोट कर सकेंगे और पदाधिकारी चुनने में मोबाइल की बड़ी भूमिका होगी। इससे यह भी कहा जा सकता है कि जिन दावेदारों ने पूर्व में जितने सदस्य बनाए थे, चुनाव में उन्हें उतना ही अधिक फायदा मिलने की उम्मीद है।

विधानसभा चुनाव के चलते कांग्रेस में युवा विंग के चुनाव टल गए थे। अब दोबारा चुनाव प्रक्रिया से ही पदाधिकारियों की नियुक्ति की कार्रवाई शुरू हो गई है। इसके लिए पार्टी ने कार्यक्रम जारी करने के साथ ही जिलेवार पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिए हैं। अचानक जारी हुए कार्यक्रम के बाद दावेदारों ने भी ताबड़तोड़ चुनाव लडऩे की तैयारी शुरू कर दी है। चुनाव के लिए ३ मार्च तक नए सदस्य बनाने का समय दिया गया है वहीं पूर्व में चुनाव के लिए बनाए गए सदस्यों की

सूची भी मान्य की गई है। इस बार खास

विधानसभा चुनाव के चलते कांग्रेस में युवा विंग के चुनाव टल गए थे। अब दोबारा चुनाव प्रक्रिया से ही पदाधिकारियों की नियुक्ति की कार्रवाई शुरू हो गई है। इसके लिए पार्टी ने कार्यक्रम जारी करने के साथ ही जिलेवार रिटर्निंग ऑफिसर नियुक्त कर दिए हैं। उज्जैन जिले के लिए रमेशआचार्य चौहान को आरओ नियुक्त किया है। अचानक जारी हुए कार्यक्रम के बाद दावेदारों ने भी ताबड़तोड़ चुनाव लडऩे की तैयारी शुरू कर दी है। चुनाव के लिए २७ फरवरी से ३ मार्च तक नए सदस्य बनाने का समय दिया गया है वहीं पूर्व में चुनाव के लिए बनाए गए सदस्यों की सूची भी मान्य की गई है। इस बार नए सदस्य बनाने के साथ ही चुनाव प्रक्रिया ऑनलाइन रहेगी। मतदान मोबाइल एप के जरिए होगा।

मोबाइल नंबर बदलने वाले होंगे बाहर

दो वर्ष पूर्व यूथ कांग्रेस चुनाव की कार्रवाई शुरू हुई थी जिसके लिए दावेदारों ने बड़ी संख्या में नए सदस्य बनाए थे। सदस्यता के लिए नए सदस्यों के मोबाइल नंबर दर्ज किए गए थे। बाद में विधानसभा चुनाव नजदीक आने के कारण पार्टी ने यूथ कांग्रेस चुनाव की कार्रवाई रोक दी थी लेकिन तब तक नए सदस्य बन चुके थे। उज्जैन जिले में ही 20 हजार से अधिक नए सदस्य बनाए गए थे। अब दोबारा शुरू हुई चुनाव प्रक्रिया में दो साल पहले बने सदस्यों को भी मतदान का अधिकार होगा लेकिन ऑनलाइन वोटिंग के चलते इस बार मोबाइल नंबर महत्वपूर्ण रहेगा। सदस्यता लेने के दौरान जो मोबाइल नंबर रजिस्र्ड किया गया था, मतदान के दौरान ओटीपी भी उसी नंबर पर आएगा। एेसे में दो साल में जिन सदस्यों ने अपना मोबाइल नंबर बदल लिया या रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर बंद कर दिया है, वे मतदान से वंछित हो सकते हैं। यह समस्या ग्रामिण क्षेत्रों में अधिक आ सकती है।

सरकार बनने से बढ़ेगी दावेदारी

वैसे तो यूथ कांग्रेस चुनाव में पहले भी दावेदारों की कमी नहीं रहती थी लेकिन अब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के कारण दावेदारी और भी बढऩे की उम्मीद है। इसके चलते प्रदेशभर में चार-पांच गुट भी सक्रीय हो गए हैं। चर्चा है कि जिले में अध्यक्ष पद के लिए करण मोरवाल, भरतशंकर जोशी, अमित शर्मा, प्रतिक जैन सहित आधा दर्जन से अधिक युवा दावेदारी कर सकते हैं।

बोरासी की हो सकती है महत्वपूर्ण भूमिका

पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू के पुत्र अजीत बारोसी भले ही कांग्रेस छोड़ अभी भाजपा में है लेकिन यूथ कांग्रेस के चुनाव में उनकी भूमिका महत्वूर्ण हो सकती है। दरअसल पूर्व में होने वाले चुनाव में अजीत ने प्रदेश अध्यख के लिए प्रबल दावेदारी की थी। सूत्रों के अनुसार प्रदेश भर में दो लाख से अधिक नए सदस्य बनाए गए थे जिनमें से 50 हजार से अधिक सदस्य बोरासी द्वारा बनाए गए थे। एेसे में उनके द्वारा बनाए गए सदस्यों का लाभ किसे मिलेगा, यह इस चुनाव में काफी मायने रखेगा। इधर सोशल मीडिया पर पर कई प्रकार के पोस्ट भी किए जा रहे हैं।

साक्षात्कार से पेराशुट लैडिंग पर रोक

चुनाव से पूर्व पार्टी दावेदारों का साक्षात्कार करेगी। इसे पेराशुट लैंडिंग पर रोक के प्रयास से जोड़कर देखा जा रहा है। दरअसल कांग्रेस ने अब्राहम रॉय मनी की अध्यक्षता में चुनाव के लिए स्क्रीनिंग कमेटी गठित की है। रॉय सोमवार को भोपाल पीसीसी कार्यालय पहुंचेगे। यहां वे उन सभी दावेदारों का साक्षात्कार लेंगे जो प्रदेश व जिले के लिए चुनाव लडऩे के इच्छुक हैं। सभी दावेदारों को भोपाल बुलाया गया है। माना जा रहा है कि साक्षात्कार में खास इस बात को देखा जाएगा कि कोई एेसा दावेदार तो नहीं जो पूर्व में सक्रीय न रहा हो लेनिक बड़े नेता से रिश्तेदारी या अन्य का बेजा लाभ ले रहा हो।

22 को मिलेंगे नए पदाधिकारी

ऑनलाइन सदस्यता - 27 फरवरी से 3 मार्च
वोटर लिस्ट स्क्रुटनी- 3 से 6 मार्च
नोमिनेशन- 3 से 7 मार्च
दावे-आपत्ति- 8 मार्च
चुनाव चिन्ह आवंटन- 9 मार्च
मतदान- 16 व 17 मार्च
परिणाम- 22 मार्च

एेसे होगा मतदान

1. पार्टी ने आइव्हायसी सेल्फ वोटिंग मोबाइल एप लांच किया है जिसे डाउनलोड करना होगा।
2. एप में लागइन कर अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा।
3. इसके बाद एक ओटीपी मिलेगा जिसे एप में बताए स्थान पर दर्ज करना होगा।
4. इसके बाद आइव्यासी सेल्फ वोटिंग एप को लॉगइन किया जा सकेगा।
5. एप में फोटो लेने का आपश्न होगा जिसमें अपना फोटो क्लिक कर अपलोड करना होगा।
6. इसके बाद वोट करने के लिए अलग-अलग बेलेट्स आएंगे।
7. एक मतदाता कुल वोट, प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश महासचिव, जिलाध्यक्ष, जिला महासचिव और विधानसभा अध्यक्ष, डाल सकेंगे।
8. वोट एप में रिकार्ड हो जाएगा।

 

aashish saxena Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned