scriptMokshadayini Kshipra river awaits freedom from pollution | मोक्षदायिनी क्षिप्रा को प्रदूषण से मोक्ष का इंतजार | Patrika News

मोक्षदायिनी क्षिप्रा को प्रदूषण से मोक्ष का इंतजार

क्षिप्रा शुद्धीकरण के नाम पर करोड़ों खर्च करने के बाद भी नहीं हुआ उद्धार, नर्मदा क्षिप्रा लिंक योजना के बाद भी नदी प्रदूषित

उज्जैन

Published: December 24, 2021 08:02:19 pm

उज्जैन. मोक्षदायिनी क्षिप्रा को प्रदूषण से मोक्ष का इंतजार है। यह इंतजार लंबा होता जा रहा है, लेकिन खत्म नहीं हो पा रहा। इसका कारण क्षिप्रा को स्वच्छ रखने के लिए उठाए गए कदमों का कामयाब नहीं होना। बीते सालों में क्षिप्रा को स्वच्छ व प्रवाहमान बनाने के लिए करोड़ों रुपए के बड़े-बड़े प्रोजेक्ट बनाए, लेकिन नतीजा उम्मीद के मुताबिक नहीं निकला। अब एक बार फिर से से क्षिप्रा को प्रदूषण से मुक्ति की कवायद शुरू हुई लेकिन देखना है कि यह कितनी सफल होगी। इन सब के बीच बड़ा सवाल है कि पिछले 20 सालों में जनता की गाढ़ी कमाई के अरबों रुपए क्षिप्रा को स्वच्छ रखने के लिए पानी की तरह बहाए गए हैं...उसका क्या होगा।

patrika_mp_1.png

खान डायवर्सन योजना
यह योजनाएं, जो क्षिप्रा नदी को नहीं कर सकी स्वच्छ: सिंहस्थ 2016 में करीब एक अरब रुपए खर्च कर खान डायवर्सन योजना बनाई गई। इसमें पाइप लाइन के माध्यम से खान का गंदा पानी राघोपिपलिया से कालियादेह पैलेस के आगे निकाला जाना है। योजना से उम्मीद थी कि क्षिप्रा का जल अब साफ होगा और श्रद्धालु आचमन भी कर सकेंगे, लेकिन यह योजना भी कारगर साबित नहीं हुई। यह योजना सिर्फ 5 क्यूमेक्स पानी को डायवर्ट करने के लिए बनी थी पर वर्तमान में खान में इससे दोगुना पानी आ रहा है। जबकि योजना बनाते वक्त बताया गया था कि जून से सितंबर की अवधि में बारिश के कारण खान का गंदा पानी क्षिप्रा में मिलेगा। वर्तमान खान नदी के जलस्तर बढ़ोतरी होने से राघोपिपल्या पर बने स्टॉपडैम से पानी ओवरफ्लो होकर त्रिवेणी पर क्षिप्रा में मिल रहा है।

नदी संरक्षण योजना
शहर का सीवरेज वाटर को क्षिप्रा में मिलने से रोकने नदी संरक्षण योजना बनी थी। इसमें शहर के 11 नालों के पानी को ट्रीटमेंट कर क्षिप्रा में छोड़ा जाना था। इसके लिए तीन जगह सीवरेज पानी को ट्रिट करने के बाद ही नदी में छोड़ा जाना था। बताया जा रहा है इस योजना के संचालन के लिए नगर निगम को राशि नहीं मिल रही। इससे यह योजना कारगर नहीं हो पाई। इसके अलावा रुद्रसागर में जमा गंदा पानी रामघाट पर पहुंचने से रोकने के लिए भी चार करोड़ की योजना बनाई गई थी। दूषित पानी को रामघाट से आगे छोड़ा जाता है।

नर्मदा-क्षिप्रा लिंक
क्षिप्रा को प्रवाहमान और स्वच्छ बनाए रखने के लिए 432 करोड़ रुपए से नर्मदा-क्षिप्रा लिंक योजना बनाई गई। नदी में नर्मदा जल के अपव्यय के चलते दोबारा से करोड़ों रुपए खर्च कर पाइप लाइन डाली गई। त्रिवेणी के यहां पर पाइप लाइन के माध्मय से क्षिप्रा में नर्मदा जल डाला जा रहा है। नर्मदा- क्षिप्रा लिंक योजना से उम्मीद थी कि इससे नदी में न केवल भरपूर पानी रहेगा बल्‍की स्वच्छ पानी से श्रद्धालु आचमन भी कर सकेंगे। खान नदी के प्रदूषित पानी मिलने से यह योजना कामयाब नहीं हो पा रही है।

इंदौर में ट्रीटमेंट प्लांट
खान नदी के शुद्धिकरण के लिए इंदौर नगर निगम ने अमृत. परियोजना, जेएनएनयूआरएम से सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट नदी किनारे बनाए हैं। साथ ही नदी में मिलने वाले सीवरेज के गंदे पानी को भी नगर निगम ने प्राइमरी लाइनों के जरिए एसटीपी तक ले जाकर उसे साफ किया जा रहा है। यही साफ पानी दोबारा खान नदी में छोड़ा जाता है। बावजूद रास्ते में कई जगह उद्योग व नालों को पानी खान नदी में मिलने से यह प्रदूषित हो रही है। हाल ही में प्रदूषित पानी रोकने इंदौर जिला प्रशासन ने कमेटी भी बनाई है लेकिन इसका क्‍या असर होगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा।

क्षिप्रा को स्वच्छ रखने अब इन तीन उपायों पर मंथन

क्षिप्रा शुद्धिकरण की मांग को लेकर संतों द्वारा किए गए प्रदर्शन के बाद मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के निर्देश पर जलसंसाधन विभाग, नर्मदा घाटी विकास तथा नगरीय प्रशासन के प्रमुख सचिव ने खान नदी का निरीक्षण किया था। इसमें खान को क्षिप्रा में मिलने से रोकने के लिए तीन विकल्प रखे गए हैं, जिन पर अभी निर्णय होना बाकी है।

नहर- खान के पानी को नहर के माध्यम से क्षिप्रा नदी के मुख्य घाट से बायपास करके कालियादेह महल निकाला जाए। इससे नदी का पानी पूरी तरह से डायर्वट होगा। किसानों को भी पानी मिल सकेगा। हालांकि योजना पर फिर से करोड़ों खर्च होंगे।

सांवेर में स्टॉप डैम- खान के प्रदूषित पानी को सांवेर से पहले रोकने के लिए स्टॉप डैम बनाया जाए। इससे खान का पानी उज्जैन आने से पहले रुक जाएगा। यहां रुके पानी को सिंचाई के लिए उपयोग किया जा सकेगा।

इंदौर में ट्रीटमेंट- खान नदी को स्वच्छ रखने के लिए इसमें सीवरेज के पानी का ट्रीट कर ही नदी में डाला जाया। इससे उज्जैन तक खान का स्वच्छ पानी ही पहुंचेगा। ऐसा होने से नहर या स्टॉपडैम बनाने की जरूरत नहीं होगी। स्वच्छ पानी होने से क्षिप्रा में मिलने से भी परेशानी नहीं आएगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावPunjab Assembly Election: कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की पहली सूची, चमकोर से चन्नी, अमृतसर पूर्व से सिद्धू मैदान मेंCorona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाअब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा National Start-up Dayसीमित दायरे से निकल बड़ा अंतरिक्ष उद्यम बनने की होगी कोशिश: सोमनाथरेलवे का कंफर्म टिकट खोने पर घबरायें नहीं, इन नियमों का करें पालनTesla In India: हमारे यहां लगाएं अपनी इलेक्ट्रिक कार का प्लांट, इस राज्य ने Elon Musk को दिया खुला न्योतासपा को बड़ा झटका, कैराना से प्रत्याशी नाहिद हसन गिरफ्तार, कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.