scriptMore than 90 percent Muslim children in school are reading two books | स्कूल में 90 प्रतिशत से अधिक मुस्लिम बच्चे, पढ़ रहे हैं जैन संप्रदाय की दो महत्वपूर्ण पुस्तकें | Patrika News

स्कूल में 90 प्रतिशत से अधिक मुस्लिम बच्चे, पढ़ रहे हैं जैन संप्रदाय की दो महत्वपूर्ण पुस्तकें

84 वर्ष से उज्जैन के सूर्यसागर दिगंबर जैन स्कूल में चार कशाय, पांच महापाप का पाठ, घर पर समझी कलमे की अहमियत

उज्जैन

Published: April 19, 2022 08:13:48 pm

उज्जैन. साल 1938 से संचालित सूर्यसागर दिगंबर जैन स्कूल अब हायर सेकंडरी श्रेणी का है। इसमें शुरू से अब तक अधिकांश मुस्लिम समुदाय के बच्चे पढ़ाई करते रहे हैं। पिछले 84 साल से इस स्कूल में पढ़ रहे मुस्लिम समुदाय के बच्चों और उनके पालकों में कभी धर्म अंतराल की भावना नहीं रही और ना ही स्कूल प्रबंधन ने इसे तवज्जो दी।

patrika_mp_3.png

यहां पढ़ने वाले बच्चे स्कूल में चार कशाय (गतियां), पांच पाप से निजात पाने की तरकीब सीख रहे हैं। वहीं अपने घर पर कलमे की अहमियत से भी वाकीफ हो रहे हैं। पत्रिका ने जब इस स्कूल की जमीनी हकीकत समझी तो यहां बच्चे बगैर किसी भेदभाव के नैतिक शिक्षा में जैन संप्रदाय की दो महत्वपूर्ण पुस्तकें पढ़ रहे हैं। इन पुस्तकों को ना तो स्कूल प्रबंधन ने कभी धर्म की पुस्तकें कहा और ना ही बच्चों ने इन्हें माना। बल्कि इनमें अंकित सामग्री से अपने जीवन में नैतिक शिक्षा का प्रवाह बनाने का प्रयास कर रहे हैं और कई बच्चे इसमें सफल भी रहे। खास बात यह भी है। उज्जैन के श्रीपाल मार्ग, नखेरवाड़ी में संचालित इस स्कूल में इमेशा ही मुस्लिम समुदाय के बच्चों क्री संख्या 90 प्रतिशत से अधिक रही है। स्कूल प्राचार्य सागर जैन के अनुसार वर्तमान में इस स्कूल में अध्ययनरत बच्चों की संख्या 453 है, जनमें 417 मुस्लिम समुदाय के हैं।

यहां अध्ययन कर यहीं नौकरी
पत्रिका को मौके पर आईपी व कम्यूटर शिक्षक के रूप में मुगीसुल ईस्लाम चौधरी मिले, जिन्होंने इसी विद्यालय से शिक्षा हासिल की है। शिक्षक का कहना है कि इस विद्यालय में कभी किसी के साथ दुभावनाएं नजर नहीं आई।

जैन ट्रस्ट करता है संचालन
स्कूल के डायरेक्टर सुनिल जैन डोसी व सचिव अजय पांड्या ने बताया कि इस स्कूल का संचालन जैन समाज की एक संस्था करती है, जिसमें 70 ट्रस्टी हैं। यहां पढने वाले बच्चों के परिवार की क्षमता फीस जमा करने की नहीं हो तो संस्था उसके अध्ययन का खर्च उठाती है। दिगंबर जैन स्कूल के पाठ्यक्रम में नैतिक शिक्षावली भाग-2 तथा चरित्र निर्माण भाग-3 भी शामिल हैं। इन पुस्तकों से छात्रों को नैतिक शिक्षा दी जाती है।

ये हैं चार कशाय (गतिविधियां)
1. देव गति 2 मदुष्य गति 3. त्रियंच गति 4. नरक


ये हैं पांच पाप
1. हिंसा 2. झूठ 3. चोरी 4. कुशील 5. परिग्रह

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

वाराणसी कोर्ट में सर्वे रिपोर्ट पर फैसला सुरक्षित, एडवोकेट कमिशनर ने 2 दिन का मांगा समय, SC में ज्ञानवापी का फैसला सुरक्षितAssam Flood: असम में बारिश और बाढ़ से भीषण तबाही, स्टेशन डूबे, पानी के बहाव में ट्रेन तक पलटीWest Bengal Coal Scam: SC ने ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक और रुजिरा की गिरफ्तारी पर रोक लगाई, दिल्ली की बजाय कोलकाता में पूछताछ करेगी EDराजस्थान BJP में सियासी रार तेज: वसुंधरा ने शायरी से साधा निशाना... जिन पत्थरों को हमने दी थीं धड़कनें, वो आज हम पर बरस...कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीक्रिकेट इतिहास के 5 सबसे लंबे गेंदबाज, नंबर 1 की लंबाई है The Great Khali के बराबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.