सीबीएसइ के एक दर्जन से अधिक बच्चों को इस कारण आधे घंटे तक नहीं जाने दिया परीक्षा कक्ष में

नागदा के एक निजी स्कूल का मामला

By: Gopal Bajpai

Published: 03 Mar 2019, 08:02 AM IST

नागदा. सीबीएसइ की कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों का इंग्लिश का पर्चा था, लेकिन शहर के एक निजी स्कूल पर बनाए गए सेंटर पर एक दर्जन से अधिक बच्चों को परीक्षा देने के लिए अंदर जाने से रोक दिया गया। रोके गए अधिकांश बच्चे आदित्य बिरला ग्रुप द्वारा संचालित सीबीएसइ स्कूल के बच्चे थे। जब प्रबंधन को इस बात का पता चला तो उन्होंने तत्काल हस्तक्षेप करने के साथ ही स्कूल में बात की उसके बाद बच्चों को आधे घंटे की देरी से परीक्षा हाल में जाने की इजाजत मिली। इस तनाशाही पूर्ण रवैये का असर विद्यार्थियों के पर्चे पर पड़ा है। शनिवार को सीबीएसई के विद्यार्थियों का अंग्रेजी का पर्चा था। अमलावदिया रोड स्थित एक निजी स्कूल को भी इस परीक्षा के लिए सेंटर बनाया गया है। ग्रेसिम प्रबंधन द्वारा संचालित सीबीएसइ स्कूल के बच्चों का भी सेंटर अमलावदिया रोड स्थित निजी स्कूल बनाया गया है। दरअसल सीबीएसइ स्कूल में दो तरह की ड्रेस चलती है। इसलिए शनिवार को विद्यार्थी इस दिन पहनी जाने वाली ड्रेस पहनकर स्कूल पहुंचे थे, लेकिन विद्यार्थियों को इस ड्रेस में होने के बावजूद यह कहते हुए परीक्षा हाल के अंदर नहीं जाने दिया गया कि उन्होंने स्कूल की ड्रेस नहीं पहनी है। इस पर विद्यार्थियों ने कहा कि ये स्कूल की ही ड्रेस है। शनिवार को यही ड्रेस पहनी जाती है, लेकिन इसके बावजूद विद्यार्थियों की यहां सुनने वाला कोई नहीं था।
स्कूल संचालक बोले- हमारी गलती नहीं
इधर इस मामले को लेकर स्कूल संचालकों ने सफाई दी है कि इस पूरे वाकिए में उनकी किसी तरह की कोई गलती नहीं है। संचालक ने बताया कि सीबीएससी परीक्षा के लिए स्कूल को सेंटर जरूर बनाया गया है, लेकिन परीक्षा संबंधित सारी व्यवस्थाओं के लिए बडनग़र के एक स्कूल के एक शिक्षक अभिषेक को ऑब्जर्वर बनाया गया है। जो भी हुआ उसकी हमें कोई जानकारी नहीं है।
स्कूल संचालकों ने की ऑब्जर्वर की शिकायत
मामले में जिन स्कूलों के विद्यार्थियों को बिना कारण के आधे घंटे तक बाहर बैठाकर रखा गया था उन स्कूल के प्रबंधन ने संबंधित अधिकारियों को शिकायत दर्ज करवाई है। इधर ऑब्जर्वर ने भी कहा है कि उन्हें स्कूल संचालकों ने देख लेने की धमकी दी है। स्कूल शिक्षकों का कहना है, कि परीक्षा लेने पहुंचे ऑब्जर्वर ने उनके साथ भी अभद्रता से बातचीत की है। ऑब्जर्वर के व्यवहार से शनिवार को सेंटर पर मौजूद सभी शिक्षक परेशान रहे।

Gopal Bajpai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned