scriptMP orange is exported in the name of Nagpur, crop is sold from the fie | नागपुर के नाम से एक्सपोर्ट होता है एमपी का संतरा, खेत से बिक जाती है फसल | Patrika News

नागपुर के नाम से एक्सपोर्ट होता है एमपी का संतरा, खेत से बिक जाती है फसल

नागपुर वाले यहां से खरीदते हैं संतरा और अपना बताकर करते हैं एक्सपोर्ट, राष्ट्रीय उद्यानिकी मिशन का लक्ष्य नहीं मिलने से तीन साल में नहीं बड़ा रकबा।

उज्जैन

Published: February 23, 2022 04:49:28 pm

अतुल पोरवाल
उज्जैन. पारंपरिक खेती के साथ किसान व्यावसायिक खेती की ओर बढ़े तो जिले में 3933 हेक्टेयर पर संतरे की खेती होने लगी। फलोद्यान को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय उद्यानिकी मिशन योजना के तहत उज्जैन जिले के लगभग 4500 किसान इतने ही बगीचे लगाकर संतरे की उन्नत खेती कर रहे हैं।

orange_farming.png

उत्पादन की गुणवत्ता भी इतनी बेहतर कि नागपुर वाले यहां से संतरे खरीदते हैं और उसे अपना बताकर विदेशों में एक्सपोर्ट कर रहे हैं। उद्यानिकी सहायक संचालक सुभाष श्रीवास्तव के अनुसार जिले में संतरे की सबसे अधिक तराना, महिदपुर तथा खाचरौद विकासखंडों में हो रही है, जहां के किसानों को बड़ा फायदा हो रहा है। उत्पादित संतरे की क्लालिटी इतनी बढ़िया कि खेत से ही 38 रुपए किलो बिक रहे हैं। संतरे बेचने के लिए किसान को मंडियों के चक्कर नहीं लगाना पड़ रहे हैं।

इससे कम लागत में अधिक मुनाफा हो रहा है। इस बार 3933 हेक्टेयर पर लगे संतरे की खेती से 76693.5 मीट्रिक टन उत्पादन हुआ है। हालांकि जिले में संतरे की खेती का रकबा बढ़ सकता है, लेकिन पिछले 3 वर्षों से राष्ट्रीय उद्यानिकी मिशन से कोई लक्ष्य नहीं मिल रहा है। बता दें कि इस योजना के तहत किसानों को सब्सीडी मिल जाती है, जो उन्हें नई खेती की ओर प्रोत्साहित करती है।

संतरे के उन्नत किसान
जिले में रघुवीर सिंह गांव दीलौद्री, विकास खंड तराना के उन्नत किसान है इनके पास 6 बीघा पर संतरे का बगीचा है जिसमें 8 साल पहले 450 पौधे लगाए थे, जो अब पेड़ का आकार ले चुके हैं। संतरे के साथ दूसरी फसल भी लेते रहे। संतरे की खेती में पौधा लगाने के 4 साल बाद फल आने शुरू हो जाते हैं। इस लिहाज से रघुवीर सिंह ने अपनी खेती से दूसरी फसल ली, जो 6 लाख रुपए में बेची।

गांव पिपलिया बाजार के दूसरे उन्नत किसान राकेश शर्मा हैं इन्होंने 7 साल पहले 200 पौधे लगाए थे, जो अब पेड़ का आकार ले चुके हैं। संतरे की खेती में पौध लगाने के 4 साल बाद फल आने शुरू हो जाते हैं लेकिनअच्छी तकनीक की खेती से किसान राकेश शर्मा ने इस बार अपनी खेती से दूसरी फसल ली, जो 2.5 लाख रुपए में बेची।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभकिसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामसूर्य-बुध की युति से बनेगा ‘बुधादित्य’ राजयोग, जानिए किसकी चमकेगी किस्मत?दिल्ली के सरकारी स्कूलों में सिर्फ 15 दिन का समर वेकेशन, जानिए प्राइवेट स्कूलों को लेकर क्या हुआ फैसला17 मई से 3 राशि वालों के खुलेंगे भाग, मंगल का मीन में गोचर दिलाएगा अपार सफलता2023 तक मीन राशि में रहेगा 'जुपिटर ग्रह', 3 राशियों की धन-दौलत में करेगा जबरदस्त वृद्धिगेहूं के दामों में जोरदार उछाल, एक माह में बढ़े 300 रुपए क्विंटलजमकर बिकी Tata की ये किफायती SUV! एडवांस फीचर्स और 5 स्टार सेफ़्टी के आगे फेल हुएं सभी

बड़ी खबरें

Andrew Symonds Death: ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर एंड्रयू साइमंड्स की कार एक्सीडेंट में मौतउत्तराखंड, कर्नाटक, गुजरात और अब त्रिपुरा में CM बदला, आखिर क्यों BJP बार-बार कर रही बदलाव?IPL 2022: कोलकाता ने हैदराबाद को 54 रनों से हराया, प्लेऑफ की रेस से बाहर हुआ SRHकांग्रेस संगठन में 50 से 60 साल पुरानी व्यवस्था में बदलाव की तैयारीMassive road accident राजस्थान के राजसमंद में बड़ा सड़क हादसा, चार की मौतशरद पवार के खिलाफ पोस्ट इस एक्ट्रेस को पड़ा भारी, मुंबई पुलिस ने हिरासत में लियाजानिए 99 साल पहले किसलिए हुआ था बुलडोजर का निर्माण, जिसका हो रहा आज तोड़फोड़ में इस्तेमालकौन हैं माणिक साहा जो होंगे त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.