नवजात की मौत या हत्या! आज होगा खुलासा

नवजात की मौत के मामले में हत्या का प्रकरण दर्ज, सीने, गर्दन और पेट पर किए थे वार

शाजापुर. मो. बड़ोदिया अस्पताल में स्वस्थ जन्मी बच्ची को जब शाजापुर अस्पताल ले जाया गया तो उसके पेट, सीने और गर्दन पर नुकीली वस्तु के निशान थे। गंभीर हालत में १३ फरवरी को नवजात को इंदौर रेफर किया गया। जहां उपचार के दौरान बच्ची की मौत हो गई। इस मामले में मो. बड़ोदिया पुलिस ने शनिवार को हत्या का प्रकरण दर्ज किया है। इसके पहले ३०७ का प्रकरण दर्ज किया गया था। डॉक्टरों से लेकर परिजनों तक के अलग-अलग बयानों को लेकर पुलिस तीन दिनों से जांच में जुटी हुई है। नवजात के शरीर पर लगे घाव के निशान से बच्ची की हत्या प्रतीत हो रही है। जिसका खुलासा पुलिस रविवार को कर सकती है। जिसमें बच्ची की मौत कैसे हुई के कारण स्पष्ट हो सकेंगे। मो. बड़ोदिया टीआई उदयसिंह अलावा ने बताया कि मामले में ३०२ के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। जिसका खुलासा रविवार को किया जा सकता है। पुलिस के मुताबिक नवजात की हत्या में मां सहित परिवार के ही किसी सदस्य के होने की बात सामने आ रही है।
जानकारी के मुताबिक १२ फरवरी की रात को देहरीपाल बंजारा डेरा निवासी मंजू पति रायसिंह को मो. बड़ोदिया के अस्पताल में डिलिवरी कराई गई। जहां एक बच्ची को जन्म दिया गया। मो. बड़ोदिया के डॉ. अजय सोन्ती ने बताया कि महिला ने स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया था। महिला की हालत खराब थी जिसे जिला अस्पताल रेफर किया गया था। बाद में बच्ची पर घाव कैसे आए पता नहीं। १२ फरवरी को गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती किया गया। यहां भी माता पिता परिजनों ने बच्ची पर लगे घावों के बारे में कुछ नहीं बताया। यहां नाजुक हालत होने पर बच्ची को इंदौर एमव्हाय अस्पताल भेजा गया। जहां सर्जरी वार्ड में वेंटीलेटर पर रखा गया। जहां बच्ची ने शुक्रवार को दम तोड़ दिया।

rajesh jarwal Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned