अब मंडी के तड़ीमार कर्मचारियों को ऐसे देनी होगी की हाजिरी

25 जुलाई के पहले जिले के सभी मंडियों में थंब मशीन स्थापित करने के आदेश भी हो गए।

By: Lalit Saxena

Published: 24 Jul 2018, 08:02 AM IST

उन्हेल. तड़ीमार कर्मचारियों को लेकर प्रदेश से लेकर संभागीय मुख्यालय तक मंडी प्रशासन सख्त नजर आ रहा है। भेापाल से आदेश आने के बाद संभागीय मुख्यालय ने सभी मंडी सचिवों को निर्देश दिए थे कि अगस्त माह की शुरुआत से सभी कार्यालय में थंब मशीन लगाई जाए।
सचिवों ने आदेश के 4 दिन बाद ही उज्जैन के अग्रवाल एंड कंपनी को थंब मशीन के आर्डर बुक करा दिए, साथ ही 25 जुलाई के पहले जिले के सभी मंडियों में थंब मशीन स्थापित करने के आदेश भी हो गए।
अग्रवाल एंड कंपनी ने नागदा, उन्हेल, खाचरौद, तराना, महिदपुर में पहुंचकर थंब मशीन स्थापित भी कर दी है तथा थंब मशीन को संचालित करने के लिए कंपनी ने कृषि उपज मंडियों में कम्प्यूटर सेक्शन में काम करने वाले कर्मचारियों को थंब मशीन स्थापित करते ही उनके संचालन के साथ ऑनलाइन अपडेशन की ट्रेनिंग भी दे डाली। साथ ही थंब मशीन लगाने वाली कंपनी मंडियों में पहुंचकर तेज गति से काम कर रही है।
जिस तरह से प्रशासन की यह कार्यवाही हुई है उससे कृषि उपज मंडियों में तड़ीमार कर्मचारियों मे हड़कंप मचा हुआ है।
शिकायत के बाद हुआ अमल
कृषि विपणन बोर्ड को मध्यप्रदेश की अधिकांश मंडियों से कार्यालय समय में कर्मचारियों के नदारद रहने की लंबे समय से शिकायतें मिल रही थी। इसी को लेकर कृषि विपणन बोर्ड के अपर संचालक विनय निगम ने आदेश जारी करते हुए सभी मंडियों को निर्देश दिए थे कि 1 अगस्त तक सभी मंडियों में थंब मशीन स्थापित की जाए। पत्रिका ने सबसे पहले 16 जुलाई को तड़ीमार कर्मचारियों पर 1 अगस्त से मंडी बोर्ड भोपाल लगाएगी लगाम के शीर्षक से खबर प्रकािशत की थी। इसके बाद संभागीय मुख्यालय ने सभी मंडी सचिवों को 25 जुलाई तक खरीदी कर थंब मशीन स्थापित करने के निर्देश दिए थे।
अब खुलेगी संभागीय मुख्यालय की पोल
मप्र कृषि विपणन बोर्ड भोपाल ने थंब मशीन से कर्मचारियों की उपस्थिति से जो फार्मूला लागू किया है। उसमें अब संभागीय मुख्यालयों की पोल खुलना भी शुरू हो जाएगी, क्योंकि इस उपस्थिति को मंडी बोर्ड भोपाल ने ऑनलाईन भी किया है जो कर्मचारी मूलमंडी में पदस्थ है, उसकी उपस्थिति उसी स्थान पर दर्ज मानी जाएगी, जबकि संभागीय मुख्यालय ने कई कर्मचारियों का भ्रष्टाचार कर मन माफिक मंडियों में बिठा दिया है, उनके अटेचमेंट थंब मशीन स्थापित होते ही स्वत: ही समाप्त हो जाएंगे और उसके बाद भी अटेचमेंट संभागीय स्तर से निरस्त नहीं होते हे तो सीधे विपणन बोर्ड भेापाल ऑनलाईन प्रक्रिया की जांच कर सीधे संभागीय मुख्यालय के जवाबदार अधिकारी व कर्मचारी पर सीधी कार्यवाही कर देंगे। थंब मशीन से संभागीय मुख्यालय पर हलचल मची हुई है।
& कृषि उपज मंडी मे विपणन बोर्ड भोपाल के आदेश पर सोमवार को थंब मशीन स्थापित कर दी गई है। कम्प्यूटर सेक्शन के कर्मचारियों को उसके संबंधित जानकारियां भी दे दी गई है। एक अगस्त से यह प्रक्रिया शुरू भी कर दी जाएगी।
एमएन स्वर्णकार, सचिव, कृषि उपज मंडी, उन्हेल

Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned