ABVP पदाधिकारी को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, लाइब्रेरी में घुसकर की मारपीट

सुरक्षा पर फिर सवालों में, विवि सेट्रल लाइब्रेरी में हुआ हंगामा, छात्रों में चले लात-घुसे

By: Lalit Saxena

Updated: 15 Oct 2018, 09:39 PM IST

उज्जैन. विक्रम विश्वविद्यालय परिसर में सोमवार सुबह एक बार फिर छात्रों के बीच वर्चस्व को लेकर संघर्ष हो गया। एबीवीपी नगर पदाधिकारी प्रतीक गेहलोत (एसएफडी सहप्रमुख) पर सेंट्रल लाइब्रेरी के पास कुछ युवकों ने हमला कर दिया। वह खुद को बचाकर सेंट्रल लाइब्रेरी में घुस गया। युवकों ने लाइब्रेरी में जाकर उसके साथ मारपीट कर दी। बता दें कि गणेश उत्सव के दौरान वाणिज्य विभाग के विद्यार्थियों में आपसी विवाद हुआ था। इसी के चलते एक बार फिर सोमवार को छात्र आपस में भिड़ गए। प्रतीक गेहलोत की शिकायत पर माधवनगर पुलिस ने भरत पंवार, नितिन घवरी के खिलाफ मारपीट की धारा में प्रकरण दर्ज कर लिया है।

विक्रम विवि में सेंट्रल लाइब्रेरी के पास स्टैंड पर वाणिज्य विभाग के विद्यार्थी आपस में चर्चा कर रहे थे। इस दौरान कुछ लड़के एकजुट होकर पहुंचे और यहां बैठे प्रतीक पर डंडे से हमला कर दिया। डंडे को एक अन्य लड़के ने रोक लिया और प्रतीक सेंट्रल लाइब्रेरी के अंदर भागा। इसके बाद लड़के भी प्रतीक के पीछे लाइब्रेरी में घुस गए। जहां जमकर मारपीट हुई। इसके बाद विवाद करने वाले भाग खड़े हुए।

गणेश उत्सव के दौरान हुआ था विवाद
विवि के वाणिज्य विभाग में गणेश प्रतिमा विर्सजन के दौरान वाणिज्य विभाग के बीबीए पांचवें सेमेस्टर के प्रतीक गेहलोत और सुमित पाटीदार धारधार हथियार का प्रदर्शन कर रहे थे। यह हथियार बीकॉम तृतीय सेमेस्टर के भरत के सिर में लग गया। इस दौरान आपसी झगड़ा हुई। मामला शांत हो गया, लेकिन कुछ देर बात कुछ विद्यार्थियों ने सुमित पाटीदार के साथ मारपीट कर दी। इसी के बाद से भरत गुट के लोग अन्य छात्रों को भी तलाश रहे थे।

बाइक ही उठाकर ले गए
विक्रम विवि के वाणिज्य विभाग के बाहर खड़ी एक्टिवा क्रमांक एमपी 13 डीएस 2894 को चोर उठा कर ले गए। चोर गाड़ी को एमबीए संस्थान के सामने वाले गेट तक घसीट ले गए, लेकिन यहां पर गेट बंद होने के कारण वह गाड़ी को छोड़कर भाग गए। इसके बाद युवक अपनी गाड़ी तलाशने पहुंचा तो गाड़ी मिल गई।

Show More
Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned