scriptpadma shri award winner dr kiran seth | ये हैं 75 साल के युवा, 1600 किमी साइकिल चलाकर भी बरकरार है जोश | Patrika News

ये हैं 75 साल के युवा, 1600 किमी साइकिल चलाकर भी बरकरार है जोश

पद्मश्री डॉ. किरण सेठ ने कहा पर्यावरण की रक्षा व स्वास्थ्य के लिए साइकिल जरूरी

उज्जैन

Updated: May 04, 2022 11:16:12 am

उज्जैन। पद्मश्री से सम्मानित (padma shri award winner) डॉ. किरण सेठ की उम्र 75 साल है, लेकिन वे किसी युवा से कम नहीं। इस उम्र में उनका जोश युवाओं जैसा है। वे 1600 किलोमीटर की साइकिल यात्रा करते हुए उज्जैन पहुंचे। यहां ज्योतिनगर में उनका कई संस्थाओं ने स्वागत किया। डॉ. सेठ ने कहा पर्यावरण संरक्षण एवं स्वास्थ्य के लिए साइकिल चलाना जरूरी है। वे बडनग़र से उज्जैन पहुंचे और यहां से आगे तराना होते हुए यात्रा पर निकलेंगे।

ujjain1.png

डॉ. सेठ भारतीय संस्कृति के क्षेत्र में एक जाना पहचाना नाम हैं। आइआइटी दिल्ली में लंबे समय तक अपनी सेवा देने के बाद उन्होंने पर्यावरण और संस्कृति को साथ जोड़ते हुए साइकिल विथ स्पिक मैके के नाम से एक नई शुरुआत की है।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त भारतीय संस्कृति को युवाओं तक पहुंचाने वाले आंदोलन स्पीक मैके के संस्थापक डॉ. किरण सेठ का कहना है कि अब वह समय आ गया है, जब हमें पर्यावरण से अपने रिश्ते को और मजबूत बनाने के लिए अपनी यात्राओं के ऐसे साधन भी ढूंढने होंगे, जो पर्यावरण को कम से कम नुकसान पहुंचाए। साइकिल विद स्पिक मैके एक ऐसा ही प्रयास है।

11 मार्च को राजघाट दिल्ली से डॉ. सेठ ने इस साइकिल यात्रा की शुरुआत की थी। वे दिल्ली से राजस्थान होते हुए साबरमती आश्रम तक गए और विभिन्न शहरों से होते हुए उनकी यात्रा का पड़ाव मध्यप्रदेश का प्रमुख नगर उज्जैन भी बना। वे 3 मई को प्रात: 9.30 बजे उज्जैन पहुंचे। उज्जैन आगमन पर पद्मश्री डॉ. सेठ का स्पीक मैके उज्जैन के पंकज अग्रवाल, डॉ. संदीप कुलश्रेष्ठ, डॉ. विवेक बनसोड़, अप्रतुलचंद्र शुक्ला आदि ने स्वागत किया। डॉ. सेठ अपने साथ यात्रा में केवल एक बेग लेकर चल रहे हैं जिसमें उनके जरूरी कपड़े, तोलिया व खाने के लिए मूंगफली आदि सामान होता है।

युवाओं से करेंगे संवाद

स्पीक मैके की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य उज्जैन के ही संस्कृति कर्मी पंकज अग्रवाल ने बताया कि डॉ. किरण सेठ के तीन दिवसीय प्रवास में वे विभिन्न संस्थानों के युवाओं के साथ संवाद करेंगे और पूरे मध्यप्रदेश में फैले हुए विभिन्न अध्याय से जुड़े हुए समर्पित कार्यकर्ता भी इस अवसर पर उनके साथ होंगे। अग्रवाल ने कहा कि भारतीय संस्कृति से जुड़ाव रखने वाले जो युवा इस आंदोलन का सहयोग करना चाहते हैं, वे 5 मई को शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज इंदौर रोड पर प्रात: 11 बजे आयोजित प्रदेश स्तरीय सम्मेलन में भाग लेकर आंदोलन को मजबूती प्रदान करें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

सेना का 'मिनी डिफेंस एक्सपो' कोलकाता में 6 से 9 जुलाई के बीचGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'Women's T20 Challenge: वेलोसिटी ने सुपरनोवास को 7 विकेट से हरायानवजोत सिंह सिद्धू को जेल में मिलेगा स्पेशल खाना, कोर्ट ने दी अनुमतिSSC घोटाले के बाद अब बंगाल में नर्सों की नियुक्ति में धांधली, विरोध प्रदर्शन के बीच पुलिस और स्टूडेंट्स में हुई झड़प
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.